Mattupetty Dam

[vc_row full_width=”stretch_row_content”][vc_column][vc_column_text]

Mattupetty Dam-मट्टुपेट्टी डैम


मुन्नार की हरी-भरी घाटियों में बसा जादुई हिल स्टेशन मट्टुपेट्टी पर्यटकों को एक शानदार अनुभव प्रदान करता है और उन्हें प्रकृति की शांति का अनुभव करने में मदद करता है। यहां की पहाड़ियों के लहरदार चाय के बागान और सुंदर लुढ़कते घास के मैदान, मट्टुपेट्टी को एक रमणीय गंतव्य बनाते हैं, जो एक यात्रा के योग्य है। मुन्नार से लगभग 13 किमी दूर, प्रसिद्ध अनामुडी चोटी के पास, मट्टुपेट्टी पहाड़ी शहर 1,700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस आकर्षक गंतव्य के मुख्य आकर्षण मट्टुपेट्टी बांध और मट्टुपेट्टी झील हैं, जो जल संरक्षण और बिजली उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Highlights-हाइलाइट्स

इतने सारे प्राकृतिक अजूबों के साथ उपहार में दिया गया, मट्टुपेट्टी आगंतुकों के लिए बहुत सारे आकर्षक स्थल प्रदान करता है, जो इस प्राकृतिक खजाने में ट्रेकिंग और जंगल की सैर का आनंद ले सकते हैं। मट्टुपेट्टी बांध और झील मुन्नार आने वाले कई पर्यटकों के लिए आदर्श पिकनिक स्पॉट हैं। इसलिए, जिला पर्यटन संवर्धन परिषद (DTPC), इडुक्की ने लोगों के लिए विभिन्न नौका विहार सुविधाओं जैसे स्पीड लॉन्च, स्लो स्पीडबोट, पेडल बोट, रो बोट और मोटरबोट का आनंद लेने की व्यवस्था की है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

मट्टुपेट्टी बांध एक storage concrete ग्रेविटी बांध है, जिसका निर्माण जल संरक्षण और बिजली उत्पादन के उद्देश्य से 1940 के अंत में पल्लीवासल हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट के तहत किया गया था। यह कई जानवरों और पक्षियों को इसकी निरंतर उपलब्धता के साथ मदद करता है और पर्यटकों को अपने शानदार परिवेश के साथ संलग्न करता है, जो कहीं और नहीं पाया जाता है। बांध का शांत पानी और पास का चाय का मैदान, मट्टुपेट्टी को एक आदर्श पर्यटन स्थल बनाता है।

Facts-तथ्य

बांध से कुछ ही मील की दूरी पर, एक शांत वातावरण में, ‘मट्टुपेट्टी झील’ देखी जा सकती है, जो बादलों की धुंध में ढकी हुई है। यह झील इतनी खूबसूरत है कि लोग अपनी सारी समस्याओं को भूलकर झील के किनारे बैठकर शांति की दुनिया का आनंद लेते हैं। मट्टुपेट्टी एक इंडो स्विस फार्म प्रोजेक्ट या पशुधन परियोजना के लिए भी प्रसिद्ध है, जिसे भारत और स्विस सरकार के बीच द्विपक्षीय समझौते के एक भाग के रूप में 1963 में शुरू किया गया था।

इस फार्म में सैकड़ों उच्च उपज देने वाले मवेशी हैं, जिन्हें पहाड़ियों पर स्वतंत्र रूप से चरते देखा जा सकता है। इन मवेशियों को देखना अपने आप में एक अनूठा अनुभव है, जिसे पर्यटक अपने जीवन में कभी भी देख सकते हैं। इन्हीं मवेशियों की वजह से मट्टुपेट्टी हिल स्टेशन को ‘मवेशी गांव’ के नाम से भी जाना जाता है।

मट्टुपेट्टी जाने का सबसे अच्छा समय अगस्त से मई के महीने का है, क्योंकि मौसम किसी भी गतिविधि के लिए एकदम सही है, जिसे आप अनुभव करना चाहते हैं.[/vc_column_text][/vc_column][/vc_row]


Leave a Comment

जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य