हवा महल की जानकारी और रोचक तथ्य: Hawa Mahal Jaipur History In Hindi

Hawa Mahal Jaipur History In Hindi:- गुलाबी नगरी के बड़ी चौपड़ में स्थित हवा महल, राजपूतों की शाही विरासत, वास्तुकला और संस्कृति के अद्भुत समामेलन का प्रतीक है। हवा महल को राजस्थान की सबसे पुरानी इमारतों में से एक माना जाता है। खूबसूरती से डिजाइन किया गया जयपुर Hawa Mahal सबसे प्रसिद्ध पर्यटक आकर्षणों में से एक है। कई झरोखों और झरोखों के कारण हवा महल को “Palace of Winds” भी कहा जाता है।

Hawa Mahal राजस्थान की राजधानी जयपुर शहर जिसे गुलाबी नगरी कहा जाता है में स्थित एक महल है। इसका नाम हवा महल इसलिए पड़ा क्योंकि महल में महिलाओं के लिए ऊंची दीवारें हैं ताकि वे महल के बाहर होने वाले उत्सवों को आसानी से देख सकें और देख सकें। यह महल लाल और गुलाबी बलुआ पत्थर से बना है। यह महल सिटी पैलेस के किनारे पर बना हुआ है।

Hawa Mahal Jaipur History In Hindi
Contents show

Hawa Mahal Jaipur Information – हवा महल जयपुर की जानकारी

Hawa Mahal Jaipur History In Hindi – भगवान कृष्ण के मुकुट की तरह, इस पांच मंजिला इमारत में 953 झरोखे हैं, जो राजपूतों की समृद्ध विरासत का एहसास कराते हैं। सिटी पैलेस के किनारे लाल और गुलाबी बलुआ पत्थर से बना हवा महल बनाया गया है। हवा महल की खास बात यह है कि यह बिना किसी नींव के बनी दुनिया की सबसे ऊंची इमारत है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

मौजूदा समय में Hawa Mahal देश-विदेश के पर्यटकों के लिए बेहतरीन डेस्टिनेशन में से एक है। आपको बता दें कि महल अब कई भारतीय और अंतरराष्ट्रीय फिल्मों की शूटिंग के लिए एक अच्छा शूटिंग प्वाइंट बन गया है। आज के इस लेख में हम आपको ले चलेंगे जयपुर के इस खूबसूरत हवा महल की सैर पर। जिसमें आपको हवा महल के इतिहास, इसकी वास्तुकला, हवा महल में कितनी खिड़कियां हैं और रोचक तथ्यों से परिचित होने का मौका मिलेगा।

  महल का नाम   हवामहल
  निर्मार्ता   महाराजा सवाई प्रताप सिंह
  निर्माण सम्पन्न   सन 1799
  शहर   जयपुर
  राज्य   राजस्थान
  वास्तुकार   लाल चंद उस्ताद
  वास्तुकला शैली   राजस्थानी वास्तुकला एवं मुगल स्थापत्य का मिश्रण
  पथ्थर   लाल एवं गुलाबी बलुआ पत्थर
  हवा महल के झरोखे   953 झरोखें
  हवामहल का  रंग   बदामी रंग 
Hawa Mahal Jaipur History In Hindi
Hawa Mahal Jaipur Information 

Hawa Mahal Jaipur History In Hindi – हवा महल की जानकारी और इतिहास

राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित Hawa Mahal का निर्माण महाराजा सवाई जय सिंह के पौत्र सवाई प्रताप सिंह ने 1799 में करवाया था। राजस्थान के झुंझुनू शहर में महाराजा भूपाल सिंह द्वारा बनवाए गए खेतड़ी महल से वे इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने हवा महल बनवाया। इसे रॉयल सिटी पैलेस के विस्तार के रूप में बनाया गया था। बारीक जालीदार खिड़कियों और पर्दे वाली बालकनियों से सजे इस खूबसूरत हवा महल के निर्माण का मुख्य उद्देश्य शाही जयपुर की शाही राजपूत महिलाओं को खिड़कियों के माध्यम से सड़क उत्सव देखने की अनुमति देना था।

उस समय महिलाएं पर्दे का पालन करती थीं और दैनिक कार्यक्रमों की एक झलक पाने के लिए सार्वजनिक दिखावे से बचती थीं। इन झरोखों के सहारे उनके चेहरे को ठंडी हवा का अहसास होता था और तेज धूप में भी उनका चेहरा ठंडा रहता था, जो उनकी खूबसूरती का राज भी था. इस तरह वे अपने रीति-रिवाजों द्वारा बनाई गई इन झरोखों से मुक्ति की अनुभूति का आनंद ले सकते थे।

50 साल बाद 2006 में महल की मरम्मत की गई, इस समय इस स्मारक की कीमत करीब 4568 करोड़ रुपए बताई गई थी। वहां के कॉरपोरेट सेक्टर ने इस स्मारक की सुरक्षा की जिम्मेदारी उठाई लेकिन बाद में यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया ने यह जिम्मेदारी उठाई।

Hawa Mahal के प्रसिद्ध होने के बाद इसके परिसर का भी विकास किया गया। हवा महल में पर्यटकों को कई ऐतिहासिक चीजें देखने को मिलती हैं। महल की एक और आकर्षक विशेषता दीवार का घुमावदार किनारा है। जयपुर में बने अन्य स्मारकों की तरह यह महल भी लाल और गुलाबी रंग के पत्थरों से बना है।

Why this palace of Jaipur is called Hawa Mahal – जयपुर के इस महल को हवा महल क्यों कहा जाता है

Hawa Mahal का अर्थ है हवा का महल। इस महल में 953 छोटे खिड़कियां और झरोखे हैं। इन झरोखों को ताजी हवा के महल में प्रवेश के लिए बनाया गया था। हवा महल राजपूतों के लिए गर्मी के दिनों में राहत पाने के लिए एक विशेष स्थान था, क्योंकि झरोखों से आने वाली ठंडी हवा पूरी इमारत को ठंडा रखती थी। हवा महल का नाम यहां की पांचवीं मंजिल से मिलता है जिसे हवा मंदिर कहा जाता है।

Who Built Hawa Mahal Jaipur

Hawa Mahal Me Kitni Khidkiya Hai – हवा महल में कितनी खिड़किया है

हवा महल में कुल 953 खिड़कियाँ है जो महल को ठंडा रखती है।

Interesting facts about Hawa Mahal Jaipur – हवा महल जयपुर के बारे में रोचक तथ्य

  • बिना किसी आधार के बना यह महल दुनिया का सबसे ऊंचा महल है।
  • हवा की तरफ कोई प्रवेश द्वार नहीं है। अगर आप अंदर जाना चाहते हैं तो आपको पिछले हिस्से से होकर जाना होगा।
  • हवा महल कुल पांच मंजिला है और आज भी यह महल 87 डिग्री के कोण पर सफलतापूर्वक अपनी जगह पर खड़ा है।
  • हवा महल को “हवाओं का महल” भी कहा जाता है।
  • हवा महल कुल पांच मंजिला है।
  • हवा महल में कुल 953 खिड़कियाँ हैं जो महल को ठंडा रखती हैं।
  • जयपुर के सभी शाही लोग इस महल का उपयोग ग्रीष्मकालीन आश्रय के रूप में करते हैं।
  • हवा महल को लाल चंद उस्ताद ने डिजाइन किया था।
  • यह महल विशेष रूप से जयपुर की शाही महिलाओं के लिए बनवाया गया था।
  • इस महल को बनाने का मकसद शाही महिलाओं को बाजार और महल के बाहर होने वाले उत्सवों को दिखाना था।
  • यह मुगल और राजपूत स्थापत्य शैली में निर्मित एकमात्र महल है।
  • यह महल कई भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय फिल्मों के लिए पसंदीदा शूटिंग स्थल बन गया है।
  • हवा महल में ऊपरी मंजिल पर जाने के लिए केवल ढलान वाला रास्ता है, वहां ऊपर जाने के लिए कोई सीढ़ी नहीं है।
  • हवा महल का निर्माण महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने 1799 में करवाया था।
  • यह पांच मंजिला पिरामिड के आकार में बना है जो अपने ऊंचे आधार से 50 फीट बड़ा है।
  • हवा महल भगवान कृष्ण के मुकुट के आकार में बनाया गया है।
  • हवा महल की खिड़कियों की जाली चेहरे पर पर्दे का काम करती थी।
  • हवा महल गुलाबी और लाल रंग के पत्थरों से बना है।

Who Built Hawa Mahal Jaipur – हवा महल जयपुर का निर्माण किसने करवाया था

Hawa Mahal का निर्माण महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने 1799 में करवाया था।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

Architecture of Hawa Mahal – हवा महल की वास्तुकला

Architecture of Hawa Mahal

5 मंजिला होने के बावजूद आज भी Hawa Mahal सीधा खड़ा है। इमारत का डिजाइन इस्लामिक मुगल वास्तुकला के साथ हिंदू राजपूत वास्तुकला के उत्कृष्ट संलयन को दर्शाता है। ऐसा कहा जाता है कि महाराज सवाई प्रताप सिंह कृष्ण के बहुत बड़े भक्त थे, उनकी भक्ति महल की संरचना के डिजाइन से ही स्पष्ट हो जाती है, जो बिल्कुल भगवान कृष्ण के मुकुट जैसा दिखता है। हवा महल जयपुर में 953 नक्काशीदार झरोखे हैं, जिनमें से कुछ लकड़ी के बने हैं। इन झरोखों का निर्माण इस प्रकार किया गया था कि गर्मियों में ताजी हवा से पूरी इमारत ठंडी रहती थी।

About Hawa Mahal In Hindi: हवा महल के बारे में हिंदी में

हवा महल की दीवारों पर फूलों के पत्तों का काम राजपूत शिल्प कौशल का एक अनूठा उदाहरण है। साथ ही, मुगल शैली की पत्थर की नक्काशी मुगल शिल्प का एक अनूठा उदाहरण है। पहली मंजिल पर शरद मंदिर उत्सव के लिए बनाया गया है, जबकि Hawa Mahal की दूसरी मंजिल पर रतन मंदिर को कांच के काम से सजाया गया है। अन्य तीन मंजिलों पर विचित्र मंदिर, प्रकाश मंदिर और हवा मंदिर का कब्जा है।

यहां आपको गुलाबी नगरी जयपुर के अलग-अलग रंग देखने को मिलेंगे। हवा महल का कोई सामने का दरवाजा नहीं है, लेकिन सिटी पैलेस की तरफ से एक शाही दरवाजा हवा महल के प्रवेश द्वार की ओर जाता है। यहां तीन दो मंजिला इमारतें तीन तरफ से एक बड़े प्रांगण को घेरे हुए हैं, जिसके पूर्वी हिस्से में हवा महल है।

प्रांगण में वर्तमान में एक पुरातत्व संग्रहालय है। Hawa Mahal के आंतरिक भाग में एक मार्ग और खंभे भी हैं जो ऊपरी मंजिल तक जाते हैं। हवा महल की पहली दो मंजिलों में आंगन हैं और बाकी की तीन मंजिलें एक कमरे जितनी चौड़ी हैं। खास बात यह है कि बिल्डिंग में सीढ़ियां नहीं हैं और ऊपर जाने के लिए सिर्फ रैम्प का इस्तेमाल किया जाता है।

How Was The Hawa Mahal Built – हवा महल कैसे बनाया गया था

Hawa Mahal बनाने में लगी निर्माण सामग्री की अलग कहानी है गुड्ड, मेथी और जूट से बनी हवामहल की यात्री चूने को पीसकर इसकी लुगदी में बजरी, सुरखी और गुड्डा डाली गई। और इसके बाद चमक छिली हुई जूट और मेथी पीसकर पाउडर के रूप में डाली गई और इस मासिक से झरोखे-खिड़की बनाई गई।

निर्माण सामग्री में अलग-अलग जगहों पर शंख, नारियल, गोंद और अण्डे के ऊपरी हिस्से (शेल) का भी उपयोग किया गया। प्रतापसिंह ने जब महल की शानदार प्रशंसा सुनी तो लालचन्द उस्ता को बुलाकर जयपुर के निकट एक गाँव इनाम में दिया। 1779 में इस हवामहल को लालचन्द उस्ता ने दो सौ कलाकारों पर कब्जा कर लिया।

About Hawa Mahal In Hindi

Best Time To Visit Hawa Mahal In Hindi – हवा महल घूमने का सबसे अच्छा समय

सर्दियों के मौसम में आप जयपुर घूमने आ सकते हैं। पर्यटकों के लिए पीक सीजन नवंबर की शुरुआत से फरवरी के मध्य तक होता है। सुहावने मौसम में आप यहां एक नहीं बल्कि कई प्राचीन इमारतों को आराम से देख सकेंगे। हवा महल घूमने का समय सुबह 9:30 बजे से शाम 4:30 बजे तक है।

हालांकि, इस इमारत में जाने का सबसे अच्छा समय सुबह का है जब सूरज की सुनहरी किरणें इस शाही इमारत पर पड़ती हैं। यह नजारा हवा महल को और भी खूबसूरत और भव्य रूप देता है। हवा महल संग्रहालय शुक्रवार को बंद रहता है, इसलिए अन्य दिनों में हवा महल की यात्रा करना बेहतर होता है।

Hawa Mahal Ticket Price In Hindi – हवा महल टिकट की कीमत

Hawa Mahal Jaipur Entry Fee

  •  50 per person for Indians
  •  200 per person for Foreign Tourists
Hawa Mahal Ticket Price In Hindi

हवा महल का प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 50 रुपये और विदेशियों के लिए 200 रुपये है। यहां आप कंपोजिट टिकट भी खरीद सकते हैं, जो दो दिनों के लिए वैध होगा। इस टिकट की कीमत भारतीयों के लिए 300 रुपये और विदेशियों के लिए 1000 रुपये रखी गई है। इस कंपोजिट टिकट की मदद से आप दो दिनों के लिए हवा महल और इसके आसपास के दर्शनीय स्थलों की यात्रा कर सकते हैं।

अगर आप हवा महल के अंदर तस्वीरें क्लिक करने के लिए कैमरा ले जाना चाहते हैं तो आपको प्रवेश शुल्क के अलावा 10 रुपये का अलग से शुल्क देना होगा जो विदेशियों के लिए 30 रुपये है। हवा महल के बारे में पूरी जानकारी के लिए लोकल गाइड उपलब्ध हैं, लेकिन चार्ज पहले से तय कर लेना चाहिए। बता दें कि हवा महल घूमने के लिए सिर्फ एक या दो घंटे का समय दिया जाता है।

Hawa Mahal Jaipur Timings

Hawa Mahal Jaipur Timings
DayTiming
Monday9:00 am – 5:00 pm
Tuesday9:00 am – 5:00 pm
Wedesday9:00 am – 5:00 pm
Thursday9:00 am – 5:00 pm
Friday9:00 am – 5:00 pm
Saturday9:00 am – 5:00 pm
Sunday9:00 am – 5:00 pm
Hawa Mahal Jaipur History In Hindi

Hawa Mahal Jaipur Address: Hawa Mahal Rd, Badi Choupad, J.D.A. Market, Pink City, Jaipur, Rajasthan, 302002, India

How To Reach Hawa Mahal In Hindi – हवा महल कैसे पहुंचे हिंदी में

जयपुर शहर के दक्षिणी भाग में स्थित हवा महल राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। महल संग्रहालय में संरक्षित प्राचीन कलाकृतियाँ राजपूतों के समृद्ध अतीत, सांस्कृतिक विरासत और शानदार जीवन शैली की झलक देती हैं।

How To Reach Hawa Mahal In Hindi
  • ट्रेन से हवा महल पहुंचने के लिए सबसे पहले आपको जयपुर रेलवे स्टेशन पहुंचना होगा। यहां के लिए ट्रेन हर बड़े और बड़े स्टेशन से मिलेगी। जयपुर स्टेशन से हवा महल पहुंचने के लिए आप टैक्सी या कैब की मदद ले सकते हैं। यहां पहुंचने में आपको 18 मिनट लगेंगे।
  • अगर आप सड़क मार्ग से हवा महल पहुंचना चाहते हैं तो बता दें कि राजस्थान भारत के सभी प्रमुख हिस्सों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। भारत के कई प्रमुख शहरों से जयपुर के लिए बसें उपलब्ध हैं।
  • लेकिन अगर आप फ्लाइट से जा रहे हैं तो मुंबई, उदयपुर, दिल्ली, कोलकाता और अन्य शहरों से जयपुर के लिए फ्लाइट उपलब्ध है। हवाई अड्डे से हवा महल तक पहुँचने में आपको लगभग 30 मिनट लगेंगे।

Tips For Hawa Mahal Jaipur – हवा महल जयपुर के लिए टिप्स

अगर आप शांति से और बिना किसी भीड़ के हवा महल घूमना चाहते हैं तो सुबह जल्दी जाएं। अगर आप दोपहर के बाद हवा महल पहुंच जाते हैं तो आपको भीड़ लग जाती है तो आपको ज्यादा देर तक रुक कर हवा महल देखने का मौका भी नहीं मिलता है। इसलिए सुबह जल्दी हवा महल पहुंचना बेहतर है।

  • हवा महल में सीढ़ियाँ नहीं हैं, ऊपरी मंजिलों तक पहुँच एक चढ़ाई है, इसलिए आरामदायक जूते पहनें।
  • हवा महल जाते समय अपने साथ पानी की बोतल अवश्य रखें।
  • यहां की दीवारें बहुत छोटी हैं, इसलिए सावधान रहें और सभी नियमों का पालन करें।
  • हवा महल के आसपास आप सिटी पैलेस, जंतर मंतर, राम निवास गार्डन, चांदपोल और गोविंद जी मंदिर देख सकते हैं।

हवा महल रात का नज़ारा – Hawa Mahal Night View

हवा महल जयपुर की सबसे प्रसिद्ध संरचना है और इसलिए यहां दिन भर पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। जबकि हवा महल रात में बंद रहता है, शाम को इसका अनुभव करना इसकी सुंदरता का आनंद लेने का एक शानदार तरीका है।

hawa mahal night view

Hawa Mahal Photos – Hawa Mahal Images

Hawa Mahal Jaipur History In Hindi, Hawa Mahal Photos – Hawa Mahal Images, Hawa Mahal Night View, Tips For Hawa Mahal Jaipur, How To Reach Hawa Mahal In Hindi, Hawa Mahal Jaipur Timings, Hawa Mahal Jaipur Entry Fee, Hawa Mahal Ticket Price In Hindi,

Best Time To Visit Hawa Mahal In Hindi, हवा महल घूमने का सबसे अच्छा समय, How Was The Hawa Mahal Built, About Hawa Mahal In Hindi, Architecture of Hawa Mahal, Who Built Hawa Mahal Jaipur, Interesting facts about Hawa Mahal Jaipur, Hawa Mahal Me Kitni Khidkiya Hai, Why this palace of Jaipur is called Hawa Mahal, Hawa Mahal Jaipur History In Hindi,


Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन