हरिहर फोर्ट नासिक के पास दुनिया की सबसे खतरनाक ट्रैक, चढ़ाई 90 डिग्री: Harihar Fort Nashik Travel Info In Hindi

Harihar Fort Nashik Travel Info In Hindi:- महाराष्ट्र भारत का एक ऐसा राज्य है जहां विभिन्न संस्कृतियों, भाषाओं, रीति-रिवाजों का मिश्रण है। यह राज्य किलों, स्मारकों और पर्यटक स्थलों से भरा हुआ है, जिसके कारण हर कोई यहां घूमना पसंद करता है। महाराष्ट्र के लगभग हर जिले में खूबसूरत पहाड़ी किले मौजूद हैं। इन किलों का अपना एक समृद्ध इतिहास है। साथ ही ये किले समय के साथ पर्यटकों के लिए एक खास जगह बन गए हैं। इन्हीं किलों में से एक है Maharashtra Ka Harihar Fort, जो पर्यटकों के लिए ट्रैकिंग और दर्शनीय स्थलों की यात्रा का मुख्य केंद्र बन गया है।

आपको बता दें कि इस किले तक पहुंचना हर किसी के बस की बात नहीं है क्योंकि कई जगहों पर तो 90 डिग्री तक की चढ़ाई है। इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम आपको हरिहर किले के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। दरअसल, यह किला जमीन पर नहीं बल्कि एक खूबसूरत पहाड़ की चोटी पर स्थित है।

Harihar Fort Nashik Travel Info In Hindi

Harihar Fort Nashik Travel Info In Hindi – हरिहर किला नासिक यात्रा जानकारी

देश की खतरनाक पहाड़ियों में से एक और बेहद रोमांचक जगहों से भरा एक अद्भुत किला, जिसे देखने के बाद लोग मंत्रमुग्ध हो जाते हैं, खूबसूरत नज़ारे वाला एक खूबसूरत किला, जो महाराष्ट्र राज्य के नासिक शहर में कसार से लगभग 40 -45 किलोमीटर दूर है। और त्र्यंबकेश्वर से लगभग 22 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है (Harihar Kila Nashik) जिसे हम हरिहर गढ़, हरिहर किला जैसे कई नामों से जानते हैं, या हर्षगढ़ किला के नाम से भी जाना जाता है, यहां ज्यादातर लोग ट्रैकिंग के लिए आते हैं। यह महत्वपूर्ण किला महाराष्ट्र को गुजरात से जोड़ने वाले गोंडा घाट के माध्यम से व्यापार मार्ग पर नजर रखने के लिए बनाया गया था।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

इस किले पर पहुंचकर आप यहां हनुमान जी, शिव जी की छोटी-छोटी मूर्तियां भी देख सकते हैं। पहाड़ी की चोटी पर स्थित इस किले के पास जाने पर यहां एक तालाब भी नजर आता है। इस किले का इतिहास 9वीं से 14वीं शताब्दी के बीच का बताया जाता है। वर्तमान समय में इतिहास प्रेमी और ट्रैकर्स इस किले को बहुत देखने आते हैं।

Top 5 Monsoon Treks in Maharashtra

Harihar Fort History In Hindi – हरिहर किला की इतिहास

हरिहर किला पश्चिमी घाट के त्र्यंबकेश्वर पर्वत में स्थित है। ऐसा कहा जाता है कि किले की स्थापना सेउना या यादव राजवंश (9वीं और 14वीं शताब्दी के बीच) के दौरान हुई थी। उस समय यह किला गोंडा घाट से होकर गुजरने वाले व्यापार मार्ग की सुरक्षा की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण था। अपनी स्थापना के बाद से, हरिहर किले पर विभिन्न आक्रमणकारियों द्वारा हमला किया गया और तब तक कब्जा कर लिया गया जब तक कि ब्रिटिश सेना ने इस पर कब्जा नहीं कर लिया।

यह अहमदनगर सल्तनत के कब्ज़े वाले किलों में से एक था। 1636 में, त्रिंबक, त्रिंगलवाड़ी और कुछ अन्य पूना (अब पुणे) किले, हरिहर किले के साथ, शाहजी भोसले द्वारा मुगल जनरल खान ज़मान को सौंप दिए गए थे। फिर त्रिंबक के पतन के बाद 1818 में हरिहर किला अंग्रेजों को सौंप दिया गया। यह 17 मजबूत किलों में से एक था, फिर इन सभी किलों पर कैप्टन ब्रिग्स ने कब्जा कर लिया।

Harihar Fort Nashik Travel Info In Hindi

How is the Structure of Harihar Fort – हरिहर किले की बनावट कैसी है?

पहाड़ के नीचे से यह किला चौकोर दिखता है, लेकिन इसकी बनावट प्रिज्म जैसी है। इसके दोनों तरफ की संरचना 90 डिग्री की सीधी रेखा में है और किले की तीसरी तरफ 75 डिग्री की है। वहीं, यह किला पहाड़ पर 170 मीटर की ऊंचाई पर बना हुआ है। यहां जाने के लिए एक मीटर चौड़ी करीब 117 सीढ़ियां बनाई गई हैं। साथ ही इस किले की लगभग 50 सीढ़ियाँ चढ़ने के बाद मुख्य द्वार महादरवाजा आता है, जो आज भी बहुत अच्छी स्थिति में है।

हालाँकि किले का अधिकांश भाग समय की कसौटी पर खरा नहीं उतरा है, फिर भी इसकी संरचना प्रभावशाली है। किले के आधे रास्ते तक पहुंचना काफी आसान है। पहाड़ी की तलहटी से जलाशय और कुछ कुओं से जुड़े कई रास्ते हैं। वहाँ चौकी के लिए कुछ घर भी थे, जो अब अस्तित्व में नहीं हैं।

जब आप इस हरिहर किले का दौरा करेंगे तो यहां आपको हनुमान जी की एक छोटी सी मूर्ति के साथ-साथ शिव जी की भी मूर्ति देखने को मिलेगी। इसके अलावा यहां कई पानी की टंकियां भी देखने को मिलती हैं। पहाड़ की चोटी पर बने इस हरिहर किले तक पहुंचने के लिए आपको चट्टानों को काटकर बनाई गई सीधी सीढ़ियों और पहाड़ों को खोदकर बनाई गई गुफा से गुजरना पड़ता है, जो बहुत साहसी लोगों का काम है।

How is the Structure of Harihar Fort

Harihar Fort Trekking in Hindi – हरिहर किला का ट्रेक

हरिहर किला 170 मीटर ऊंची पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। इस पहाड़ी की चोटी तक पहुंचने के लिए आपको लगभग 80 डिग्री के कोण पर बनी सीधी छोटी सीढ़ियां चढ़कर इस किले का दौरा करना होगा। हरिहर किले तक का सफर बेहद खतरनाक माना जाता है। यहां जाना हर किसी के लिए संभव नहीं है। इस किले तक पहुंचने के लिए चट्टानों को काटकर बनाई गई छोटी-छोटी सीढ़ियां और पहाड़ को काटकर बनाई गई गुफा बेहद भयावह और डरावनी लगती है।

यहां जाने के लिए आपको नासिक शहर आना होगा, यहां से आपको 60 किलोमीटर तक हरिहरगढ़ किले तक पहुंचना होगा। यह ट्रैकिंग निर्गुड़पाड़ा गांव से शुरू होती है। यह पर्वत समुद्र तल से लगभग 1120 मीटर ऊपर है और दोनों तरफ से यह पर्वत 90 डिग्री सीधा और 75 डिग्री सीधा है। यह एक डिग्री तक झुका हुआ है, इसकी चढ़ाई बहुत कठिन और खतरनाक है। दोस्तों अगर आपको ट्रैकिंग करना पसंद है तो आपको इस जगह को बिल्कुल भी नहीं भूलना चाहिए। आपको यहां जाकर एक यादगार पल जरूर बनाना चाहिए और वहां की प्रकृति को देखने का मौका मिलना चाहिए।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Harihar Fort Trekking in Hindi

Best Time To Visit Harihar Fort In Hindi – हरिहर किला घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

हरिहर किला घूमने की बात करें तो आप अपनी सुविधा के अनुसार पूरे साल में कभी भी यहां जा सकते हैं। यहां घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च के बीच का माना जाता है। वैसे तो यह किला बरसात के मौसम में बेहद आकर्षक दिखता है, लेकिन बरसात के मौसम में यहां जाना, खासकर जब यहां बारिश हो रही हो, बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए जितना हो सके आपको बारिश के मौसम में यहां जाने से बचना चाहिए।

इन सबके अलावा अगर आप इस हरिहर किले का सही तरीके से दौरा करना चाहते हैं तो आपको वीकेंड के दौरान यहां जाने से बचना चाहिए। वीकेंड में यहां आने वाले लोगों की बड़ी संख्या के कारण चट्टानों को काटकर बनाई गई सीढ़ियों पर चढ़ने के लिए लोगों की कतार लग जाती है और किले तक पहुंचने में काफी समय लग जाता है।

Best Time To Visit Harihar Fort In Hindi

How To Reach Harihar Fort In Hindi – हरिहर किला तक कैसे पहुंचे?

  • नासिक तक बस, ट्रेन या हवाई यात्रा से भी पहुंचा जा सकता है।
  • यहां आने के बाद सीधे आपको हरिहर किले के लिए कैब, टैक्सी, बस मिल जाएगी
  • आप चाहें तो रास्ते में त्र्यंबकेश्वर मंदिर भी जा सकते हैं।
  • त्र्यंबकेश्वर से आपको हरिहर किले तक पहुंचने के लिए दो रास्ते मिलेंगे
  • पहला रास्ता आप त्र्यंबकेश्वर के बाईं ओर से घोटी इगतपुरी रोड पर निर्गुणपाड़ा से होते हुए पहुंच सकते हैं।
  • हरिहर किला निर्गुणपाड़ा से लगभग 5 किलोमीटर दूर होगा।
  • दूसरा रास्ता: त्र्यंबकेश्वर से दाहिनी ओर जवाहर की ओर जाने वाली सड़क से हर्षवाड़ी जा सकते हैं।
  • अधिकांश लोग अपने वाहन से ही इस ओर से आते-जाते हैं।

यहां पहुंचने के बाद आपको कम से कम 120 सीढ़ियां चढ़नी होंगी, जो बिल्कुल सीधी हैं। इस पर्वत पर चढ़ने की प्रतिक्रिया को स्कॉटिश भी कहा जाता है। ये जगह जितनी खूबसूरत है उतनी ही खतरनाक भी है करीब 50-60 सीढ़ियां चढ़ने के बाद आपको वहां मेन गेट मिलेगा.

50 सीढ़ियां चढ़ने के बाद इसका मुख्य द्वार आता है, जिसे हम महा दरवाजा भी कहते हैं, इसके आगे का रास्ता चट्टानों के अंदर से होकर जाता है, जो आपको किले के ऊपरी हिस्से में ले जाता है, यह दुनिया की खतरनाक ट्रैकिंग में भी शामिल है. यह हिमालय के पर्वतारोहियों द्वारा दुनिया का खतरनाक ट्रैकिंग में भी शामिल है.

यहां आपको तालाब और हनुमान जी, शिव जी का मंदिर देखने का सौभाग्य भी मिलता है और वहां मौजूद तालाब का पानी बहुत साफ होता है, आप उस पानी को पी भी सकते हैं क्योंकि उस तालाब का पानी कभी खराब नहीं होता है। अगर आप और ऊपर जाएंगे तो उसी पहाड़ पर आपको दो कमरों का एक छोटा सा महल भी दिखाई देगा, जहां लगभग 10-15 लोग आसानी से रह सकते हैं। सुंदर दृश्य और अन्य अद्भुत किले देखे जा सकते हैं.

Harihar Fort Nashik Photos

हरिहर फोर्ट की चढाई सबसे पहले किसने की थी?

दोस्तों आपको बता दूं कि हरिहर किले की चढ़ाई सबसे पहले 1986 में प्रसिद्ध पर्वतारोही डौग स्कॉट ने पूरी की थी, जिनका जन्म 29 मई 1941 को हुआ था। वह ब्रिटेन के रहने वाले थे और एक प्रसिद्ध पर्वतारोही थे। एक लेखक भी थे जिनकी 7 दिसंबर 2020 को कैंसर के कारण मृत्यु हो गई, उनके नाम से लोग इस पर्वत को स्कॉटिश भी कहते हैं।

Please Pay Attention – कृपया ध्यान दे

इस ट्रैकिंग को बरसात के मौसम में करना भी बहुत खतरनाक माना जाता है क्योंकि उस समय पहाड़ पर फिसलन अधिक होती है, बरसात के मौसम में फिसलन भरी चढ़ाई करना हर किसी के लिए आसान नहीं होता है, यहां आप साल के किसी भी मौसम में घूम सकते हैं. हां, आप अपने हिसाब से मौसम चुन सकते हैं।

Harihar Fort Nashik Photos

Harihar Fort Nashik pictures

Harihar Fort Nashik Travel Info In Hindi, Harihar Fort Nashik Travel Info In Hindi


Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन