राजस्थान का मिनी गोवा बीसलपुर घूमने के बारे में जानें सबकुछ: Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me

Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me:- बारिश का सुहावना मौसम और इस मौसम में शायद ही कोई ऐसा होगा जिसका हरियाली से भरी वादियों में घूमने का मन नहीं करता होगा. तो अगर आप जयपुर के आसपास हैं और ऐसी जगह की तलाश में हैं जो हरियाली से भरपूर हो ओर समुन्द्र जैसा अहसास दिलाता हो ओर वहा पर्यटकों की भीड़ न हो तो आज हम आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं। जी हां हम बात कर रहे हैं एक ऐसी जगह की जो Bisalpur Dam के पास स्थित है और जयपुर से महज 3 घंटे की दूरी पर है।

जयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा, टोंक और दौसा की जीवन रेखा कहे जाने वाले बीसलपुर बांध का निर्माण बीसलपुर गांव के पास अरावली पर्वत श्रृंखलाओं के बीच बनास, खारी और दई नदियों के संगम पर किया गया है।

Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me

Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me – बीसलपुर बांध घुमने की जानकारी

राजस्थान के लिए सच ही कहा गया है कि यहां ‘यह राजस्थान है साहब न जाने क्या दिख जाए‘ ‘वैसे तो Tonk Tourism की दृष्टि से बेहद लोकप्रिय जगह (Best Places To Visit) है और यहां कई ऐसी जगहें हैं जो पर्यटकों का ध्यान अपनी ओर खींचती हैं। यह भी सच है कि राजस्थान में कई ऐसी खूबसूरत जगहें हैं, जहां विदेशों से ज्यादातर पर्यटक नहीं पहुंच पाते। आज हम आपको अपने ब्लॉग (Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me) में इन्हीं छुपी अद्भुत जगहों में से एक के बारे में बताने जा रहे हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me

Bisalpur Dam History In Hindi – बीसलपुर बांध का इतिहास

बीसलपुर बांध राजस्थान के टोंक जिले में बनास नदी पर बनाया गया है। इसका निर्माण कंक्रीट से किया गया है. यह बांध जयपुर, टोंक, अजमेर सहित कई शहरों की प्यास बुझाता है और सिंचाई की जरूरतें पूरी करता है। बीसलपुर राजस्थान के टोंक जिले में स्थित एक गाँव है और यह भगवान गोकर्णेश्वर के प्राचीन मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।

बनास नदी पर बना बीसलपुर बांध बीसलपुर का एक और आकर्षण है (Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me) जो गांव को सुर्खियों में लाता है। यह बांध दो चरणों में बनाया गया था। पहले चरण का उद्देश्य गांव के लोगों को पीने का पानी उपलब्ध कराना था जबकि दूसरे चरण का उद्देश्य सिंचाई सुविधाओं में सुधार करना था। यह बांध 574 मीटर लंबा और 39.5 मीटर ऊंचा है।

बांध का शिलान्यास 25 जनवरी 1985 को तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवचरण माथुर ने किया था। बांध निर्माण का मुख्य उद्देश्य जयपुर और अजमेर में पानी की आपूर्ति करना था, जबकि बचे हुए पानी से सिंचाई का काम करना था। बांध का निर्माण कार्य 1987 में शुरू हुआ, जो लगभग 300 करोड़ रुपये की लागत से 1996 में पूरा हुआ। बांध का जलग्रहण क्षेत्र लगभग 28 हजार 800 वर्ग किमी है। इसके कुल जल भराव क्षेत्र में 21 हजार 300 हेक्टेयर भूमि है। बांध के डूब क्षेत्र में 68 गांव हैं, जिनमें 25 गांव पूर्ण रूप से तथा 43 गांव आंशिक रूप से डूब क्षेत्र में हैं।

Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me

About Bisalpur Dam Tonk In Hindi – बीसलपुर बांध टोंक के बारे में

बांध बनने के बाद पहली बार 2001 में 311 आरएल मीटर भरा गया था। जबकि 2004, 2006, 2014, 2016 और 2019 में 315.50 आरएल मीटर पूर्ण जलभराव होने पर बनास नदी में पानी की निकासी करनी पड़ी थी। वहीं, 2010 में बांध निर्माण के बाद सबसे कम गेज 298.67 आरएल मीटर दर्ज किया गया है, जिससे बांध पूरी तरह सूखने की कगार पर पहुंच गया था.

बीसलपुर बांध से सिंचाई के लिए दायीं और बायीं ओर दो मुख्य शहरों का निर्माण किया गया है, जो मुख्य शहरों के साथ-साथ छोटी और वितरिकाओं सहित संपूर्ण नहर प्रणाली 700 किमी के क्षेत्र में फैली हुई है। दायीं मुख्य नहर से जिले की 69393 हेक्टेयर तथा बायीं मुख्य नहर से 12407 हेक्टेयर भूमि सिंचित होती है। दोनों नहरों से कुल 81 हजार 800 हेक्टेयर भूमि सिंचित होती है।

बीसलपुर बांध का निर्माण 1987 में शुरु किया गया था। इसके बाद 1994 में इस बांध से अजमेर शहर को पेयजल सप्लाई से जोड़ा गया था। साल 1996 में बांध का पूर्ण निर्माण कर लिया गया था।

Bisalpur Dam History In Hindi

Best Places To Visit In Bisalpur Dam In Hindi – बीसलपुर बांध में घूमने के लिए सर्वोत्तम स्थान

बीसलपुर बांध की पूर्ण भराव क्षमता 315.50 आरएल मीटर तक पहुंचने के बाद पानी का फैलाव समुद्र जैसा प्रतीत होता है। बांध भरने के बाद बांध की ऊपरी धारा में पानी का फैलाव इस तरह दिखाई देता है मानो जमीन और आसमान दोनों यहां विलीन हो गए हों। बीसलपुर बांध की विशालता भी अपने आप में देखने लायक है। यहां पहुंचने वाले लोग इसे देखकर हैरान रह जाते हैं।

बारिश के दिनों में जहां अलग रौनक रहती है। बड़ी संख्या में लोग पहुंचे हैं। यहां रूककर मौसम का आनन्द लेते हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Bisalpur Dam History In Hindi

Gokarneshwar Mahadev Temple Bisalpur Tonk – गोकर्णेश्वर महादेव मंदिर बीसलपुर टोंक

बीसलपुर में अरावली पर्वत मालाओं के बीच जमीन से करीब डेढ़ सौ फीट की ऊंचाई पर बनी पहाड़ी गुफा में स्थित महादेव मंदिर में पचास फीट से अधिक लंबे शिवलिंग की पूजा की जाती है। जिसे गोकर्णेश्वर महादेव के नाम से जाना जाता है। यहां के पवित्र दह के पास खारी, बनास और दई नदियों का त्रिवेणी संगम होने के कारण दह के प्रति लोगों की आस्था और भी बढ़ गई है।

प्रसिद्ध गोकर्णेश्वर महादेव मंदिर बीसलपुर बांध के पास बना हुआ है। जो लाखों लोगों की आस्था का केंद्र है। जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां रावण ने तपस्या की थी। इस दौरान श्रावण माह में मंदिर में पर्यटन के लिए आने वाले लोगों का तांता लगा रहता है। सावन के मौके पर यहां बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं.

चारों ओर हरियाली के साथ-साथ वन क्षेत्र और बीसलपुर बांध के कारण यहां साल भर रोजाना सैकड़ों श्रद्धालुओं की भीड़ रहती है। प्रत्येक सोमवार, अमावस्या, पूर्णिमा, प्रदोष, चतुर्दशी आदि पर बड़ी संख्या में भक्त मंदिर पहुंचते हैं। मंदिर परिसर में हर साल कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा, वैशाख शुक्ल पूर्णिमा महाशिवरात्रि पर मेला लगता है। जिसमें हजारों की संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचकर पवित्र स्नान करते हैं और भगवान शिव का जलाभिषेक करते हैं।

Gokarneshwar Mahadev Temple Bisalpur का निर्माण जयपुर के राजा सवाई जय सिंह ने 1725 ई. में करवाया था। उस समय मंदिर, द्वार, सीढ़ियाँ तथा सामने नौचौक का निर्माण राजा जयसिंह ने ही करवाया था। तभी से इस जगह को लेकर पुरानी रियासत राजमहल और बीसलपुर के राजाओं के बीच विवाद चला आ रहा है।

Gokarneshwar Mahadev Temple Bisalpur Tonk

Bisaldev Temple Bisalpur Tonk In Hindi – बीसलदेव मंदिर बीसलपुर टोंक राजस्थान

राजस्थान के बड़े बांधों में शामिल बीसलपुर के गेट नंबर एक के पास बना प्राचीन बीसलदेव मंदिर रामायण काल से जुड़ा है। कहा जाता है कि रावण ने भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए इसी स्थान पर तपस्या की थी। इसका उल्लेख शिव पुराण में भी मिलता है। बीसलदेव मंदिर राजस्थान के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है जो टोंक जिले में बीसलपुर बांध के तट पर स्थित है। जो भगवान शिव को समर्पित है. इस मंदिर को गोकर्णेश्वर के नाम से भी जाना जाता है। बीसलदेव मंदिर का गहरा धार्मिक एवं सामाजिक महत्व है। महाशिव रात्रि के अवसर पर हजारों भक्त इस मंदिर में आते हैं।

Bisaldev Temple Bisalpur Tonk In Hindi

इस मंदिर का निर्माण 12वीं शताब्दी में राजा चाहमान के शासक विग्रहराज VI ने करवाया था। जिसे बिसल देव के नाम से भी जाना जाता है। बीसलदेव के कारण ही इस मंदिर का नाम बीसलदेव मंदिर रखा गया है। यह मंदिर बनास नदी के बीसलपुर बांध पर स्थित है। मंदिर प्रांगण अब आंशिक रूप से पानी में डूबा हुआ है। 1990 के दशक में बांध के निर्माण से पहले, मंदिर बनास और दाई नदियों के संगम की ओर देखने वाली एक पहाड़ी की चोटी पर खड़ा है।

अब यह मंदिर भारतीय पुरातत्व विभाग के अंतर्गत आता है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा भी इस मंदिर को ‘राष्ट्रीय महत्व का स्मारक’ माना गया है।

Tour of Mini Goa Bisalpur – मिनी गोवा बीसलपुर की यात्रा

बीसलपुर बांध पहुंचने के बाद आप Mini Goa नामक गंतव्य तक पहुंचने के लिए गूगल मैप का अनुसरण कर सकते हैं। आपको बता दें कि इस जगह के लिए गूगल मैप को ठीक से अपडेट किया गया है और इसकी मदद से आप आसानी से गंतव्य तक पहुंच सकते हैं। इसके अलावा बीसलपुर बांध के पास के स्थानीय लोग इस जगह को “मिनी गोवा” के रूप में नहीं जानते हैं, इसलिए हम आपको केवल Google Map का अनुसरण करने का सुझाव देंगे।

Tour of Mini Goa Bisalpur

मिनी गोवा की ओर 3-4 किमी जाने के बाद आप गांवों की कच्ची सड़क में प्रवेश करेंगे लेकिन सड़क की स्थिति अच्छी नहीं होगी लेकिन कोई भी अपने दो या चार पहिया वाहनों के साथ आसानी से जा सकता है। आख़िरकार बीसलपुर बांध से लगभग 7 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद आप उस स्थान पर पहुंचेंगे और पहली नज़र में इस स्थान को देखने के बाद आप वास्तव में इसकी छिपी सुंदरता से आश्चर्यचकित हो जाएंगे।

चारों ओर प्राकृतिक और विशाल हरे घास के बगीचे और बड़े-बड़े मैदान देखने को मिलेंगे और सामने खूबसूरत पानी की झील और झील के पीछे हरे-भरे पहाड़ दिखाई देंगे। ये सभी चीजें इस जगह को एक आदर्श पिकनिक स्पॉट बना देंगी और आपको आश्चर्य होगा कि यह अद्भुत जगह अब तक अधिक प्रसिद्ध क्यों नहीं है। इसके अलावा इस झील के किनारे एक नाव खड़ी मिलेगी और यह आपके खूबसूरत पलों को संजोने के लिए कुछ बेहतरीन तस्वीरें देगी।

Tour of Mini Goa Bisalpur

आपको यह भी बताना चाहेंगे कि चूंकि यह जगह पर्यटकों के लिए बिल्कुल भी प्रसिद्ध नहीं है, इसलिए यहां नाश्ते आदि की कोई दुकान नहीं है, इसलिए जब भी आप मिनी गोवा, बीसलपुर की यात्रा की योजना बनाएं तो उसी के अनुसार योजना बनाएं और पानी पिएं। और अपने साथ कुछ स्नैक्स लेकर आएं।

आप इस जगह पर पूरे साल कभी भी जा सकते हैं लेकिन सबसे अच्छा समय मानसून के दौरान होगा जब आप चारों ओर हरियाली देख सकते हैं।

How to Reach Bisalpur Dam and Mini Goa – बीसलपुर बांध ओर मिनी गोवा कैसे पहुंचे

  • जयपुर हवाई अड्डा बीसलपुर का निकटतम हवाई अड्डा है और जयपुर से आप मिनी गोवा तक पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं जो 150 किमी दूर है। आप 2.5 से 3 घंटे के सफर में आसानी से वहां पहुंच सकते हैं।
  • जयपुर से आप मिनी गोवा तक पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं जो 150 किमी दूर है या आप अपने वाहन से जा सकते हैं क्योंकि जयपुर से बीसलपुर तक कोई सीधी बस कनेक्टिविटी नहीं है। जयपुर से आप 2.5 से 3 घंटे के सफर में आसानी से वहां पहुंच सकते हैं। यह टोंक शहर से लगभग 60 किमी दूर है।
  • निकटतम रेलवे स्टेशन निवाई तहसील में ‘वनस्थली’ है और मिनी गोवा यहां से लगभग 100 किमी दूर है।

Bisalpur Dam Images Or Photos

Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me, Bisalpur Dam Images Or Photos, Best Places To Visit In Bisalpur Dam In Hindi, Bisalpur Dam History In Hindi, Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me, Mini Goa Bisalpur,

Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me, Bisalpur Dam Images Or Photos, Best Places To Visit In Bisalpur Dam In Hindi, Bisalpur Dam History In Hindi, Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me, Mini Goa Bisalpur,


1 thought on “राजस्थान का मिनी गोवा बीसलपुर घूमने के बारे में जानें सबकुछ: Bisalpur Dam Ghumne Ki Jankari Hindi Me”

Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन