राजस्थान के 567 साल पुराने चौथ माता मंदिर का इतिहास और दर्शन की जानकारी: Chauth Mata Mandir Barwada Rajasthan Info In Hindi

Chauth Mata Mandir Barwada Rajasthan Info In Hindi:- दुनिया में सबसे ज्यादा मंदिरों वाले देश भारत, म्यांमार और इंडोनेशिया हैं। हिन्दू समुदाय के सर्वाधिक अनुयायी भी भारत में ही हैं। यहां 90 करोड़ से ज्यादा हिंदू हैं, जिनके लिए हजारों मंदिर हैं। हर मंदिर की कोई न कोई कहानी या मान्यता होती है। कई मंदिर हजारों टन सोने से बने होते हैं, तो कई मंदिरों में भगवान की चांदी-तांबे की मूर्तियां होती हैं।

देश में कुछ ऐसे मंदिर हैं जो अपने अलग-अलग तरह के प्रसाद के लिए मशहूर हैं। नदियों और समुद्रों के किनारे सदियों से मंदिर स्थापित होते आ रहे हैं और पहाड़ों पर स्थित मंदिरों की प्रसिद्धि भी दूर-दूर तक है। अगर आप सोचते हैं कि करवा चौथ से जुड़ा कोई मंदिर नहीं होगा तो आप गलत हैं। राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के चौथ का बरवाड़ा गांव में चौथ माता का मंदिर स्थित है, जिसके नाम पर इस गांव का नाम ही बरवाड़ा से चौथ का बरवाड़ा हो गया। यह चौथ माता का सबसे पुराना और प्रसिद्ध मंदिर माना जाता है।

Chauth Mata Mandir Barwada Rajasthan Info In Hindi

Chauth Mata Mandir Barwada Rajasthan Info In Hindi – चौथ माता मंदिर राजस्थान की जानकारी

भारत का सबसे पुराना चौथ माता मंदिर (Choth Mata Mandir Barwada) करीब 567 साल पुराना है। यह मंदिर (Chauth Mata Mandir) राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के चौथ का बरवाड़ा कस्बे में स्थित है। इस चौथ माता मंदिर की स्थापना 1451 में शासक भीम सिंह ने की थी (Chauth mata mandir history)।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

करवा चौथ के व्रत के दौरान चौथ माता की पूजा की जाती है और विवाहित महिलाएं उनसे अपने सुहाग की रक्षा के लिए प्रार्थना करती हैं। चौथ माता गौरी देवी का ही एक रूप है। चौथ माता की पूजा करने से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है और दांपत्य जीवन में सुख बढ़ता है।

Choth Mata Mandir Barwada, Chauth Mata Mandir History, Choth Mata Puja Vrat, Choth Mara Kinki Kul devi Hai, Choth Mata Konse Jile me Hai, Choth Mata Kis Jati ki Hai, Chuth Mata Ki Swari Konsi hai, Choth Mata Mandir Me Kitni Sidiyan Hai, Choth Mata ka Dusra Name Kya hai, Chauth Mata Ku Puja Kab Hoti hai, Chauth Mata Vrat Katha, Choth Matar Ka Mela, Chauth Mata Mela Kis Tarikh Ko Hai, Chauth Mata Mandir, Chauth Mata Mandir Bundi, Chauth Mata Mandir Chauth Ka Barwada, Chauth Mata Mandir Jaipur, Chauth Mata Mandir Kota, Chauth Mata Mandir me kitni sidiya hai, Chauth Mata Mandir Near Me, Chauth Mata Mandir Stairs, Chauth Mata Mandir Barwada Photos And Images,

चौथ का बरवाड़ा अरावली पर्वत श्रृंखला में स्थित एक मीना और गुर्जर बहुल क्षेत्र है। 1451 में चौथ माता के नाम पर बरवाड़ा का नाम चौथ का बरवाड़ा घोषित किया गया। चौथ माता मंदिर के अलावा यहां भगवान मीन का एक भव्य मंदिर भी है।

चौथ माता मंदिर राजस्थान के रोचक तथ्य – Interesting facts about Chauth Mata Temple Rajasthan

  • चौथ माता को हिंदू धर्म की प्रमुख देवी माना जाता है, जो माता पार्वती का ही एक रूप हैं। भारत का सबसे प्राचीन चौथ माता मंदिर चौथ का बरवाड़ा कस्बे में स्थापित है जहां हर माह की चतुर्थी को लाखों श्रद्धालु माता जी के दर्शन के लिए आते हैं।
  • चौथमाता कंजर जनजाति की कुल देवी हैं।
  • भारत का सबसे पुराना चौथ माता मंदिर लगभग 567 वर्ष पुराना है और यह राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के चौथ का बरवाड़ा कस्बे में स्थित है।
  • राजस्थान में अनेक जनजातियाँ पाई जाती हैं जिनमें मीना, सहरिया, गाड़िया लोहार कुछ प्रमुख जनजातियाँ हैं। कंजर जनजाति भी इन्हीं जनजातियों में से एक है। चौथ माता कंजर जनजाति की कुल देवी हैं।
  • चौथ माता का वाहन सिंह है.
  • बरवाड़ा चौथ माता के मंदिर में हर चौथ को एक बड़ा मेला लगता है। इस दौरान देशभर से श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। 1000 फीट की ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर तक पहुंचने के लिए लगभग 700 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं।
  • चौथ माता का दूसरा नाम करक चतुर्थी या करवा चौथ भी है। इस त्योहार के दौरान विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए चंद्रमा निकलने तक निर्जला व्रत रखती हैं।
  • हिंदू कैलेंडर के अनुसार माघ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को चौथ माता की पूजा की जाती है।
  • इस बार (2024) चौथ का बरवाड़ा का लक्खी मेला 29 जनवरी से आयोजित हो रहा है।
  • इस बार सकट चौथ का व्रत माघ मास की चतुर्थी तिथि को है जो 29 जनवरी 2024 को पड़ रही है।

चौथ माता का व्रत क्या है? – Chauth Mata Vrat Kya Hai

Choth Mata Mandir Barwada, Chauth Mata Mandir History, Choth Mata Puja Vrat, Choth Mara Kinki Kul devi Hai, Choth Mata Konse Jile me Hai, Choth Mata Kis Jati ki Hai, Chuth Mata Ki Swari Konsi hai, Choth Mata Mandir Me Kitni Sidiyan Hai, Choth Mata ka Dusra Name Kya hai, Chauth Mata Ku Puja Kab Hoti hai, Chauth Mata Vrat Katha, Choth Matar Ka Mela, Chauth Mata Mela Kis Tarikh Ko Hai, Chauth Mata Mandir, Chauth Mata Mandir Bundi, Chauth Mata Mandir Chauth Ka Barwada, Chauth Mata Mandir Jaipur, Chauth Mata Mandir Kota, Chauth Mata Mandir me kitni sidiya hai, Chauth Mata Mandir Near Me, Chauth Mata Mandir Stairs, Chauth Mata Mandir Barwada Photos And Images,

हर महीने कृष्ण पक्ष चतुर्थी के दिन संकट चतुर्थी और चौथमाता का व्रत रखा जाता है। इसके लिए पूरे दिन व्रत रखा जाता है। फिर रात में चंद्रमा निकलने पर अर्घ्य देकर भगवान गणेश और चौथ माता की पूजा करके लड्डू बनाकर भोजन करती हैं।

करवा चौथ, भाद्रपद चौथ, माघ चौथ और लक्खी मेले पर लाखों श्रद्धालु माधोपुर आते हैं और देवी मां के दर्शन करते हैं। करवा चौथ के दिन चौथ माता के मंदिर को दुल्हन की तरह सजाया जाता है। यहां मान्यता है कि करवा चौथ के दिन देवी मां के दर्शन और पूजन से अखंड सौभाग्य का वरदान मिलता है और दांपत्य जीवन में भी खुशियां बढ़ती हैं।

चौथ माता मंदिर की वास्तुकला – Architecture of Chauth Mata Temple

Choth Mata Mandir Barwada, Chauth Mata Mandir History, Choth Mata Puja Vrat, Choth Mara Kinki Kul devi Hai, Choth Mata Konse Jile me Hai, Choth Mata Kis Jati ki Hai, Chuth Mata Ki Swari Konsi hai, Choth Mata Mandir Me Kitni Sidiyan Hai, Choth Mata ka Dusra Name Kya hai, Chauth Mata Ku Puja Kab Hoti hai, Chauth Mata Vrat Katha, Choth Matar Ka Mela, Chauth Mata Mela Kis Tarikh Ko Hai, Chauth Mata Mandir, Chauth Mata Mandir Bundi, Chauth Mata Mandir Chauth Ka Barwada, Chauth Mata Mandir Jaipur, Chauth Mata Mandir Kota, Chauth Mata Mandir me kitni sidiya hai, Chauth Mata Mandir Near Me, Chauth Mata Mandir Stairs, Chauth Mata Mandir Barwada Photos And Images,

यह मंदिर 1451 ई. में राजस्थान के सवाई माधोपुर के बरवाड़ा कस्बे के पास बनाया गया था। यह मंदिर एक हजार फीट से भी अधिक ऊंचाई पर स्थित है। 568 साल पुराने यानी देश के सबसे पुराने मंदिरों में से एक इस मंदिर में करवा चौथ के मौके पर 2 से 3 लाख महिलाएं पूजा करती हैं।

यह स्थान पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है और इसकी प्राकृतिक सुंदरता मनमोहक है। इस स्थान पर सफेद संगमरमर से बने कई स्मारक हैं। दीवारों और छत पर जटिल शिलालेखों के साथ, मंदिर वास्तुकला की पारंपरिक राजपूताना शैली को दर्शाता है। मंदिर में वास्तुकला की पारंपरिक राजपूताना शैली देखी जा सकती है।

यहां पहुंचने के लिए करीब 700 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं। मंदिर परिसर में देवी की मूर्ति के अलावा भगवान गणेश और भैरव की भी मूर्तियाँ हैं। मंदिर का जीर्णोद्धार 1452 में किया गया था। जबकि मंदिर के रास्ते में बिजली की छतरी और तालाब का निर्माण 1463 में किया गया था। कहा जाता है कि महाराजा भीम सिंह पांचाल के पास एक गांव से चौथ माता की मूर्ति लाए थे।

चौथ माता मंदिर राजस्थान का इतिहास – History of Chauth Mata Temple Rajasthan

Choth Mata Mandir Barwada, Chauth Mata Mandir History, Choth Mata Puja Vrat, Choth Mara Kinki Kul devi Hai, Choth Mata Konse Jile me Hai, Choth Mata Kis Jati ki Hai, Chuth Mata Ki Swari Konsi hai, Choth Mata Mandir Me Kitni Sidiyan Hai, Choth Mata ka Dusra Name Kya hai, Chauth Mata Ku Puja Kab Hoti hai, Chauth Mata Vrat Katha, Choth Matar Ka Mela, Chauth Mata Mela Kis Tarikh Ko Hai, Chauth Mata Mandir, Chauth Mata Mandir Bundi, Chauth Mata Mandir Chauth Ka Barwada, Chauth Mata Mandir Jaipur, Chauth Mata Mandir Kota, Chauth Mata Mandir me kitni sidiya hai, Chauth Mata Mandir Near Me, Chauth Mata Mandir Stairs, Chauth Mata Mandir Barwada Photos And Images,

चौथ का बरवाड़ा निस्संदेह एक छोटा सा क्षेत्र है, जहां शक्तिगिरि पर्वत पर एक मंदिर बना हुआ है। इसके बावजूद यह श्रद्धालुओं का पसंदीदा धार्मिक स्थल बना हुआ है। चौथ माता को हिंदू धर्म की प्रमुख देवी माना जाता है, जो स्वयं माता पार्वती का ही एक रूप मानी जाती हैं। हर माह की चतुर्थी को यहां लाखों श्रद्धालु माता जी के दर्शन के लिए आते हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

चौथ का बरवाड़ा कस्बे में हर चतुर्थी को महिलाएं माता जी के मंदिर में जाकर अपना व्रत खोलती हैं और सदैव सुहागन रहने का आशीर्वाद लेती हैं। करवा चौथ और माही चौथ पर यहां लाखों की संख्या में दर्शनार्थी पहुंचते हैं। चौथ माता के दर्शन के लिए पुरुषों की तुलना में महिलाओं की भीड़ अधिक होती है क्योंकि यह मंदिर विवाह के लिए आशीर्वाद पाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण स्थान माना जाता है।

चौथ माता मंदिर राजस्थान की पौराणिक कहानी – Mythological story of Chauth Mata Temple Rajasthan

Choth Mata Mandir Barwada, Chauth Mata Mandir History, Choth Mata Puja Vrat, Choth Mara Kinki Kul devi Hai, Choth Mata Konse Jile me Hai, Choth Mata Kis Jati ki Hai, Chuth Mata Ki Swari Konsi hai, Choth Mata Mandir Me Kitni Sidiyan Hai, Choth Mata ka Dusra Name Kya hai, Chauth Mata Ku Puja Kab Hoti hai, Chauth Mata Vrat Katha, Choth Matar Ka Mela, Chauth Mata Mela Kis Tarikh Ko Hai, Chauth Mata Mandir, Chauth Mata Mandir Bundi, Chauth Mata Mandir Chauth Ka Barwada, Chauth Mata Mandir Jaipur, Chauth Mata Mandir Kota, Chauth Mata Mandir me kitni sidiya hai, Chauth Mata Mandir Near Me, Chauth Mata Mandir Stairs, Chauth Mata Mandir Barwada Photos And Images,

इस मंदिर की स्थापना राजा भीम सिंह ने की थी। किंवदंतियों के अनुसार देवी चौरू माता ने राजा भीम सिंह चौहान को सपने में दर्शन दिए और उन्हें यहां अपना मंदिर बनाने का आदेश दिया। एक बार राजा शाम के समय बरवाड़ा से शिकार के लिए जा रहे थे, तभी उनकी रानी रत्नावली ने उन्हें रोक लिया। लेकिन भीम सिंह ने यह कहकर बात टाल दी कि चौहान एक बार चढ़ जाते हैं तो शिकार करने के बाद ही नीचे उतरते हैं। इस प्रकार रानी की बात को अनसुना कर भीम सिंह अपने कुछ सैनिकों के साथ घने जंगलों की ओर चले गये।

शाम होते-होते उन्हें वहां एक हिरण दिखाई दिया, सभी लोग उस हिरण का पीछा करने लगे। कुछ देर बाद रात हो गयी. रात होने के बावजूद भीम सिंह हिरण का पीछा करता रहा। धीरे-धीरे हिरण भीम सिंह की नज़रों से ओझल हो गया। तब तक साथ आये सैनिक भी राजा से दूर हो गये थे। राजा अकेला पाकर व्याकुल हो गया।

काफी ढूंढने के बाद भी पीने का पानी नहीं मिला. इससे वह बेहोश होकर जंगल में गिर गया। तभी बेहोशी की हालत में भीम सिंह को पचाला तलहटी में चौरू माता की मूर्ति नजर आने लगी. कुछ देर बाद उन्होंने देखा कि जोरों की बारिश होने लगी और बिजली गिरने लगी. जब राजा बेहोशी से उठे तो उन्होंने अपने चारों ओर पानी ही पानी देखा।

राजा ने पहले पानी पिया। तभी उस अँधेरी रात में उसकी नज़र एक तेजस्वी लड़की पर पड़ी। वह बच्ची खेलती नजर आई। राजा ने पूछा कि तुम इस जंगल में अकेले क्या कर रहे हो? जहां अपने माता – पिता हैं? लड़की ने धीमी आवाज़ में कहा, ‘हे राजा, कृपया मुझे बताओ कि आपकी प्यास बुझी या नहीं।’ इतना कहकर वह कन्या अपने असली देवी स्वरूप में आ गई। तब राजा उसके चरणों पर गिर पड़ा। उन्होंने कहा, “हे आदिशक्ति महामाया!” मुझे आपसे कुछ नहीं चाहिए, यदि आप मुझसे प्रसन्न हैं तो सदैव हमारे प्रान्त में ही निवास करें। फिर ‘ऐसा ही होगा’ कहकर देवी अंतर्ध्यान हो गईं।

राजा को वहां चौथ माता की एक मूर्ति मिली। राजा चौथ माता की वही मूर्ति लेकर बरवाड़ा की ओर लौट आये। बरवाड़ा पहुंचते ही राजा ने राज्य का सारा हाल सुनाया। तब पुरोहितों की सलाह पर संवत 1451 में माघ कृष्ण चतुर्थी को बरवाड़ा के पर्वत शिखर पर उस प्रतिमा को विधि-विधान से मंदिर में स्थापित किया गया। कहा जाता है कि तब से लेकर आज तक यहां इस दिन चौथ माता का मेला लगता है। करवा चौथ के मौके पर कई राज्यों से लाखों श्रद्धालु मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं।

राजपरिवार इन्हें कुलदेवी के रूप में पूजते है

आज भी बूंदी राजघराने में चौथ माता को कुल देवी के रूप में पूजा जाता है। माता के नाम पर यहां चौथा माता बाजार भी है। भक्त अपने पति की लंबी उम्र, संतान प्राप्ति और सुख-समृद्धि की कामना लेकर मंदिर में आते हैं।

मंदिर में जलती है अखंड ज्योति

मंदिर में सैकड़ों वर्षों से अखंड ज्योति भी जल रही है। आगंतुकों की संख्या के आधार पर इस मंदिर को राजस्थान के 11 सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में स्थान दिया गया है। वैसे तो यहां हर दिन भक्तों की भीड़ लगती है, लेकिन करवा चौथ पर अलग ही नजारा देखने को मिलता है.

यहां के स्थानीय लोग हर शुभ कार्य से पहले चौथ माता को आमंत्रित करते हैं। तभी वह अपना शुभ कार्य करता है। लोगों का कहना है कि ऐसा करने से सभी शुभ कार्य बिना किसी बाधा के पूरे हो जाते हैं।

चौथ माता मंदिर जानिए कैसे पहुंचे और कब जाएं – Know how to reach Chauth Mata Temple and when to go

इस मंदिर में साल में किसी भी समय जाया जा सकता है, लेकिन नवरात्रि और करवा चौथ के दौरान यहां आने का विशेष महत्व माना जाता है। नवरात्रि के दौरान यहां मेला लगता है। इसके अलावा आप किसी भी समय यहां जाकर अपने पति की लंबी उम्र और सुखी वैवाहिक जीवन की प्रार्थना कर सकती हैं।

इस मंदिर के दर्शन के लिए आपको सबसे पहले सवाई माधोपुर पहुंचना होगा। चौथ का जयपुर बरवाड़ा से 130 किमी दूर है। जयपुर से यहां तक लोकल ट्रेनें चलती हैं।

Chauth Mata Mandir Barwada Photos And Images

Tags

Choth Mata Mandir Barwada, Chauth Mata Mandir History, Choth Mata Puja Vrat, Choth Mara Kinki Kul devi Hai, Choth Mata Konse Jile me Hai, Choth Mata Kis Jati ki Hai, Chuth Mata Ki Swari Konsi hai, Choth Mata Mandir Me Kitni Sidiyan Hai, Choth Mata ka Dusra Name Kya hai, Chauth Mata Ku Puja Kab Hoti hai, Chauth Mata Vrat Katha, Choth Matar Ka Mela, Chauth Mata Mela Kis Tarikh Ko Hai, Chauth Mata Mandir, Chauth Mata Mandir Bundi, Chauth Mata Mandir Chauth Ka Barwada, Chauth Mata Mandir Jaipur, Chauth Mata Mandir Kota, Chauth Mata Mandir me kitni sidiya hai, Chauth Mata Mandir Near Me, Chauth Mata Mandir Stairs, Chauth Mata Mandir Barwada Photos And Images,


Leave a Comment

बेहद सुकून और प्रदूषण मुक्त सीक्रेट हिल स्टेशन जो है नैनीताल के करीब चिलचिलाती गर्मी के लिए बेस्ट है जयपुर का यह वाटर पार्क एडवेंचर के हैं शौकीन तो जाए खीर गंगा, जो है हिमाचल की वादियों में बसी। गर्मी से मिलेगी राहत, सिर्फ दो हजार में घूमे दिल्ली के पास इन जगहों पर मई में बजट में घूमने के लिए डलहौजी से लेकर नैनीताल तक परफेक्ट हैं ये जगहें गर्मी की छुट्टियों में घूमने का ले भरपूर मजा इन खूबसूरत हिल स्टेशन पर इस गर्मी जयपुर में एन्जॉय करने के लिए बेस्ट वाटर पार्क 2024 चिलचिलाती गर्मी में कूल वाइब्स के लिए घूम आएं इन ठंडी जगहों पर जयपुर के न्यू हवाई-जहाज वॉटर पार्क के टिकट में बड़ा बदलाव, जानिए जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें