सिटी पैलेस जयपुर का इतिहास और जानकारी: City Palace Jaipur In Hindi

City Palace Jaipur In Hindi: सिटी पैलेस जयपुर, राजस्थान में सबसे प्रसिद्ध ऐतिहासिक और पर्यटन स्थलों में से एक है। यह एक महल परिसर है। यह ‘Pink City‘ जयपुर के ठीक मध्य में स्थित है। इस खूबसूरत परिसर में कई इमारतें, विशाल आंगन और आकर्षक बगीचे हैं, जो इसके शाही इतिहास की निशानी हैं। परिसर में ‘चंद्र महल’ और ‘मुबारक महल’ जैसी महत्वपूर्ण इमारतें भी हैं। यहां पुराने जमाने की बेशकीमती चीजें सुरक्षित रखी गई हैं। महल के एक छोटे से हिस्से को संग्रहालय और आर्ट गैलरी में बदल दिया गया है। दुनिया भर से हजारों पर्यटक सिटी पैलेस की खूबसूरती देखने आते हैं।

राजस्थान में दो सिटी पैलेस हैं एक जयपुर में और दूसरा उदयपुर में स्थित है। उदयपुर का सिटी पैलेस जयपुर में स्थित सिटी पैलेस से काफी अलग है, यह महल जयपुर में स्थित महल से बहुत पहले बनाया गया था। आज के इस लेख City Palace Jaipur In Hindi में हम जयपुर के सिटी पैलेस के बारे में बात करेंगे।

City Palace Jaipur In Hindi

City Palace Jaipur History In Hindi – सिटी पैलेस जयपुर इतिहास

सिटी पैलेस जयपुर का निर्माण 1729 और 1732 के बीच महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा किया गया था जो कछवाहा राजपूत वंश के थे। वह जयपुर शहर के संस्थापक थे। उनकी पहले की राजधानी अंबर थी, जो जयपुर से 11 किमी की दूरी पर स्थित है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

जनसंख्या वृद्धि और पानी की कमी के साथ, उन्होंने राजधानी को जयपुर स्थानांतरित करने का निर्णय लिया। उन्होंने शहर की वास्तुकला को डिजाइन करने के लिए उस समय के एक उल्लेखनीय वास्तुकार विद्याधर भट्टाचार्य से संपर्क किया। चार वर्षों के भीतर, शहर के मध्य उत्तर-पूर्व भाग में स्थित सिटी पैलेस जयपुर सहित शहर में प्रमुख महलों का निर्माण किया गया। पैलेस विभिन्न धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का स्थल था।

इसका निर्माण 1729 में शुरू हुआ और इसे पूरा होने में तीन साल लगे। यह महल परिसर वर्ष 1732 में पूरी तरह बनकर तैयार हुआ था। इस संग्रहालय में महाराजा सवाई माधो सिंह (1750 – 1768) द्वारा पहने गए शाही परिधान भी रखे गए हैं जिन्हें आम जनता देख सकती है।

City Palace Jaipur In Hindi

City Palace Jaipur, Rajasthan : Architecture – सिटी पैलेस जयपुर, राजस्थान: वास्तुकला

संरचना एक बड़े क्षेत्र में फैली हुई है, जो जयपुर के पुराने शहर के एक-सातवें हिस्से को कवर करती है। जयपुर भारत के शुरुआती नियोजित शहरों में से एक था। जयपुर सिटी पैलेस समेत शहर के शहरी लेआउट और इसकी संरचनाओं की योजना दो आर्किटेक्ट विद्याधर भट्टाचार्य और सर सैमुअल स्विंटन जैकब ने बनाई थी।

वास्तुकारों ने शिल्प शास्त्र और वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों को दुनिया की प्रमुख स्थापत्य शैली के साथ शामिल किया। लाल और गुलाबी बलुआ पत्थर का उपयोग इस शानदार सिटी पैलेस जयपुर की आकर्षक स्थापत्य सुविधाओं में से एक है। महल का आंतरिक भाग क्रिस्टल झूमर, ऐतिहासिक सोने की परत वाली दीवार की सजावट और जटिल नक्काशी से सुशोभित है। सदियों से शाही परिवार के स्वामित्व वाले अवशेषों और पुरावशेषों का एक विशेष संग्रह है।

परिसर के अंदर सबसे प्रसिद्ध स्मारकों में चंद्र महल, मुबारक महल, मुकुट महल, महारानी महल, श्री गोविंद देव मंदिर और सिटी पैलेस संग्रहालय शामिल हैं। सिटी पैलेस में सबसे दिलचस्प वस्तुओं में से दो स्टर्लिंग सिल्वर जार हैं जो आधिकारिक तौर पर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दुनिया के सबसे बड़े शुद्ध चांदी के जार के रूप में दर्ज हैं।

City Palace Jaipur In Hindi – सिटी पैलेस की जानकारी

City Palace Jaipur In Hindi– वर्तमान में इस भवन को जयपुर के राजा सवाई माधो सिंह द्वितीय को समर्पित एक संग्रहालय में परिवर्तित कर दिया गया है। संग्रहालय बनारसी साड़ियों और पश्मीना शॉल सहित कई शाही परिधानों को प्रदर्शित करता है। सिटी पैलेस परिसर में महारानी पैलेस या महारानी का महल भी स्थित है, जहां कई प्राचीन राजपूत हथियारों का प्रदर्शन किया गया है। हाथी दांत की तलवारें, चेन वाले हथियार, बंदूकें, पिस्तौल, तोपें, ज़हर की नोक वाले ब्लेड और गन पाउडर के पाउच भी यहां संग्रहालय में प्रदर्शित हैं। कैंची-कैंची-एक्शन हथियार इन सब में सबसे उल्लेखनीय है। इनमें से कुछ हथियार 15वीं सदी के आसपास के हैं।

City Palace Jaipur In Hindi

Jaipur City Palace Entrance

इस परिसर की सबसे खास बात इसके भव्य रूप से सजाए गए दरवाजे हैं। परिसर में प्रवेश करने के लिए तीन मुख्य प्रवेश द्वार हैं जो वीरेंद्र पोल, उदय पोल और त्रिपोलिया गेट हैं। आगंतुकों के लिए प्रवेश उदय पोल और वीरेंद्र पोल के माध्यम से होता है जबकि शाही परिवार के सदस्य त्रिपोलिया गेट का उपयोग करते हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

जयपुर के सिटी पैलेस के बारे में यह कहावत सही है कि “सिटी पैलेस शहर के बीच में नहीं है, बल्कि शहर सिटी पैलेस के आसपास है।” इस रहस्यमयी तथ्य का रहस्य जयपुर के स्थापत्य में है। जयपुर की स्थापना पूर्णतः वास्तु आधारित थी। जैसे सूर्य के चारों ओर ग्रह हैं। इसी तरह जयपुर का सूर्य चंद्रमहल यानी सिटी पैलेस है। जिस प्रकार सूर्य सभी ग्रहों के स्वामी हैं, उसी प्रकार जयपुर शहर भी सिटी पैलेस की कृपा पर केन्द्रित था।

नौ ग्रहों की तर्ज पर जयपुर को नौ ब्लॉकों में बसाया गया था। ये ब्लॉक नाहरगढ़ से स्पष्ट दिखाई देते हैं। इन नौ ब्लॉकों में से दो में सिटी पैलेस और शेष सात में जयपुर शहर यानी परकोटा की स्थापना की गई। इस प्रकार सिटी पैलेस, जो शहर के एक बड़े हिस्से में स्थित था, कई इमारतों के दायरे में आ गया। इनमें चंद्रमहल, सूरजमहल, तालकटोरा, हवामहल, चांदनी चौक, जंतर मंतर, जलेब चौक और चौगान स्टेडियम शामिल हैं। वर्तमान में राजपरिवार के लोग चंद्रमहल में निवास करते हैं। शेष हिस्सों को शहर में शामिल कर लिया गया है और सिटी पैलेस के कुछ हिस्सों को एक संग्रहालय में बदल दिया गया है।

City Palace Jaipur: Chandra Mahal

यह महल परिसर की सबसे पुरानी इमारतों में से एक है, जिसमें सात मंजिलें हैं, प्रत्येक का एक विशिष्ट नाम है। पहली दो मंजिलों को सुख निवास के रूप में जाना जाता है, अगली मंजिल शोभा निवास या हॉल ऑफ ब्यूटी है जो रंगीन कांच के काम और सजावटी टाइलों में झिलमिलाती है, इसके बाद छवी निवास नीले और सफेद रंग में सजाया गया है। अंतिम दो मंजिलें बंगले की छत के साथ श्री निवास और मुकुट मंदिर हैं। दीवारों पर कांच का काम और पेंटिंग इस इमारत के कुछ आकर्षण हैं। भूतल पर एक संग्रहालय है।

City Palace Jaipur: Mubarak Mahal

मुबारक महल को सिटी पैलेस जयपुर में मेहमानों को प्राप्त करने के लिए स्वागत कक्ष के रूप में डिजाइन किया गया था। इमारत अब एक संग्रहालय के रूप में कार्य करती है, जिसमें कार्यालय और पहली मंजिल पर एक पुस्तकालय और भूतल पर एक कपड़ा गैलरी है। सिटी पैलेस जयपुर संग्रहालय में शाही परिवार की कलाकृतियों, हथियारों और शाही कपड़ों को भी प्रदर्शित किया गया है। नक्काशीदार संगमरमर का गेट और भारी पीतल के दरवाजे इस इमारत की उल्लेखनीय विशेषताएं हैं।

City Palace Jaipur: Shri Govind Dev Temple

सिटी पैलेस जयपुर के परिसर में प्रसिद्ध गोविंद देव जी मंदिर भी है, जो भगवान कृष्ण और उनकी पत्नी राधा को समर्पित है। महाराजा जय सिंह द्वितीय वृंदावन से मंदिर के देवताओं को लाए। प्रतिदिन होने वाली आरती को देखने के लिए हजारों श्रद्धालु यहां आते हैं।

Pritam Niwas Chowk

चंद्र महल की ओर जाते समय आप एक छोटे से प्रांगण से गुजरते हैं जो प्रीतम निवास चौक है। इस चौक में चार प्रवेश द्वार हैं जिन्हें रिद्धि सिद्धि पोल कहा जाता है और प्रत्येक की अपनी सुंदरता और विशेषता है। चार दरवाजे चार ऋतुओं के प्रतीक हैं और हिंदू देवी-देवताओं को समर्पित हैं।

City Palace Jaipur: Baggi Khana

बग्गी खाना सिटी पैलेस जयपुर परिसर का एक प्रमुख आकर्षण है और इसमें रथों और कोचों का संग्रह शामिल है जो कभी शाही परिवार को ले जाते थे। विशेष रूप से, 1876 में महारानी विक्टोरिया द्वारा महाराजा सवाई राम सिंह द्वितीय को भेंट किया गया शाही रथ और यूरोपीय कैब आगंतुकों का ध्यान आकर्षित करता है।

City Palace Jaipur: Diwan-e-Khas or Sarvato Bhadra

‘सर्वतोभद्र’ अर्थात ‘निजी श्रोता हॉल’ को ‘दीवान-ए-खास’ के नाम से भी जाना जाता है। सर्वतोभद्र में रखे चांदी के दो बड़े घड़े कौतूहल का विषय हैं। महाराजा माधोसिंह ने उन्हें गंगा जल से भर दिया और इंग्लैंड ले गए। इसलिए इन्हें ‘गंगाजली’ कहा जाता है। कीमती धातु के विशाल जहाजों की श्रेणी में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में गंगाजली का विश्व रिकॉर्ड है। सर्वतोभद्र के पूर्व में ही एक छोटा सा द्वार है, जो ‘सभानिवास’ यानी ‘दीवान-ए-आम’ की ओर जाता है। यह आने वाले पर्यटकों के लिए बनाया गया एक भव्य हॉल है।

City Palace Jaipur In Hindi

सिटी पैलेस के बारे में रोचक तथ्य – Facts about City Palace in Hindi

  • सिटी पैलेस को दो आर्किटेक्ट विद्याधर भट्टाचार्य और सर सैमुअल स्विंटन जैकब ने डिजाइन किया था। जो उस समय के प्रसिद्ध वास्तुकार थे।
  • सिटी पैलेस के मुख्य आकर्षण दो चांदी के जार हैं जिन्होंने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दुनिया के सबसे बड़े चांदी के जार के रूप में अपना स्थान पाया है।
  • सिटी पैलेस जयपुर के एक हिस्से में संग्रहालय है जबकि दूसरे हिस्से में जयपुर के पूर्व शासकों के वंशजों का निवास है।
  • सिटी पैलेस का सबसे प्रभावशाली हिस्सा तीसरे प्रांगण में चार छोटे द्वार हैं जो वर्ष के चार मौसमों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

सिटी पैलेस जयपुर कैसे पहुंचे – How To Reach City Palace Jaipur

सिटी पैलेस राजस्थान की राजधानी जयपुर शहर में स्थित है, इसलिए इस शहर में आने के बाद आप सिटी पैलेस आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां आने के लिए देश के प्रमुख शहरों से ट्रेन, बस और हवाई यातायात का विकल्प है। आप निजी वाहन से भी यात्रा कर सकते हैं।

यात्रा का समय – Best Time To Visit City Palace in Hindi

यहां आने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर-मार्च के महीने का है। अगर आप सिटी पैलेस के सिर्फ भीतरी हिस्सों को देखना चाहते हैं तो आप यहां साल के किसी भी समय जा सकते हैं लेकिन अगर आप सिटी पैलेस के पूरे परिसर को देखना चाहते हैं तो सर्दियों का मौसम सबसे अच्छा रहेगा।

City Palace Jaipur In Hindi

City Palace Jaipur Ticket Price and Timing- सिटी पैलेस जयपुर टिकट की कीमत और समय

City Palace Jaipur Entry Fee for Indian Nationals

MuseumCompositeMuseum at NightRoyal GrandeurRoyal Splendor
Adult 200 300 500 1500 3000
Child (5-12 years) 100 200 250 1000 1500
Adult (Senior/ Defence) 100 200 380

City Palace Jaipur Entry Fee for Foreign Nationals

CompositeMuseum at NightRoyal GrandeurRoyal Splendor
Adult 700 1000 2000 3500
Child (5-12 years) 400 500 1500 2000
Adult (Senior/ Defence) 430 780

City Palace Jaipur Timings

DayTiming
Monday9:30 am – 5:00 pm (Day Visit)
7:00 pm – 10:00 pm (Night Visit)
Tuesday9:30 am – 5:00 pm (Day Visit)
7:00 pm – 10:00 pm (Night Visit)
Wedesday9:30 am – 5:00 pm (Day Visit)
7:00 pm – 10:00 pm (Night Visit)
Thursday9:30 am – 5:00 pm (Day Visit)
7:00 pm – 10:00 pm (Night Visit)
Friday9:30 am – 5:00 pm (Day Visit)
7:00 pm – 10:00 pm (Night Visit)
Saturday9:30 am – 5:00 pm (Day Visit)
7:00 pm – 10:00 pm (Night Visit)
Sunday9:30 am – 5:00 pm (Day Visit)
7:00 pm – 10:00 pm (Night Visit)

City Palace Jaipur Address: Jaleb Chowk, Near Jantar Mantar, Tripolia Bazar, Gangori Bazaar, J.D.A. Market, Kanwar Nagar, Jaipur, Rajasthan, 302002, India

City Palace Jaipur Photos


Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन