लक्षद्वीप जाने के लिए कैसे मिलता है परमिट? इन डॉक्यूमेंट के बिना नहीं मिलेगी एंट्री; जानिए पूरी जानकारी! How To Get Travel Permit To Visit In Lakshadweep In Hindi

How To Get Travel Permit To Visit In Lakshadweep In Hindi:- नियमों के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति जो लक्षद्वीप का मूल निवासी नहीं है, उसे इन द्वीपों में प्रवेश करने और रहने से पहले सक्षम प्राधिकारी से निर्धारित फॉर्म में परमिट प्राप्त करना होगा। प्रवेश परमिट प्राप्त करने के लिए स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस यहां दी गई है।

भारतीय द्वीपों में पर्यटन फलने-फूलने लगा है। पीएम मोदी के लक्षद्वीप दौरे के बाद इसमें अचानक बढ़ोतरी हुई है. अब बहुत से लोग लक्षद्वीप जाना चाहते हैं। लक्षद्वीप जाने के लिए आपको हवाई सुविधा लेनी होगी, क्योंकि यह द्वीप समूह केरल राज्य में कोच्चि से 440 किलोमीटर दूर अरब सागर में है।

भारत में कहीं भी घूमने के लिए आपका वहां जाने का मूड होना चाहिए। लेकिन भारत में लक्षद्वीप जाने का फैसला आप केवल अपने मूड के आधार पर नहीं कर सकते, भले ही आप भारतीय नागरिक हों। यदि आप लक्षद्वीप के निवासी नहीं हैं, तो आपको परमिट प्राप्त करने की आवश्यकता होगी। लक्षद्वीप जाने के लिए आपको सबसे पहले परमिट लेना होगा। यह प्रवेश परमिट 30 दिनों तक वैध रहेगा। यह परमिट कैसे और कहां से प्राप्त किया जा सकता है और आप इसके लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे कर सकते हैं, आज यहां समझें-

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Contents show

How To Get Travel Permit To Visit In Lakshadweep In Hindi – लक्षद्वीप की यात्रा के लिए हिंदी में यात्रा परमिट कैसे प्राप्त करें

Who Needs a Lakshadweep Permit? परमिट की आवश्यकता किसे है?

लक्षद्वीप के मूल निवासियों और ड्यूटी पर तैनात सरकारी अधिकारियों को छोड़कर हर किसी को, हां हर किसी को, इन प्राचीन द्वीपों पर कदम रखने के लिए परमिट की आवश्यकता होती है। यह भारतीय नागरिकों और विदेशी पर्यटकों पर समान रूप से लागू होता है।

Which islands can you visit In Lakshadweep? आप किन द्वीपों की यात्रा कर सकते हैं?

आप लक्षद्वीप के सभी द्वीप विजिट नहीं कर सकते। भारतीय पांच द्वीपों की यात्रा कर सकते हैं: कावारत्ती, अगत्ती, बंगाराम, कदमत और मिनिकॉय।

लक्षद्वीप में परमिट लेने के पीछे क्या कारण है? What is the reason behind taking permit in Lakshadweep?

2011 की जनगणना के अनुसार, लक्षद्वीप की जनसंख्या 64429 है। 93% से अधिक जनसंख्या लक्षद्वीप की मूल निवासी है। यहां के लोगों का मुख्य व्यवसाय मछली पकड़ना, नारियल की खेती करना है। पर्यटन वहां एक उभरता हुआ उद्योग है। नियमों के मुताबिक, हर उस व्यक्ति को लक्षद्वीप में प्रवेश के लिए परमिट लेना होगा जो लक्षद्वीप का मूल निवासी नहीं है। लक्षद्वीप पर्यटन वेबसाइट के मुताबिक, इसका कारण वहां रहने वाली अनुसूचित जनजातियों की रक्षा करना है। यह परमिट भारतीय नागरिकों और विदेशी पर्यटकों पर समान रूप से लागू होता है।

एंट्री परमिट के लिए ऐसे करें अप्लाई – How to apply for entry permit To Visit Lakshadweep

आवेदन करने के दो तरीके हैं:

  • ऑनलाइन: सबसे आसान और तेज़ विकल्प! ePermit पोर्टल (https://epermit.utl.gov.in/pages/signup) पर जाएं और एक खाता बनाएं। अपने विवरण के साथ फ़ॉर्म भरें, अपना द्वीप और यात्रा की तारीखें चुनें, और कोई भी आवश्यक दस्तावेज़ अपलोड करें। फीस का भुगतान करें! आपकी यात्रा से 15 दिन पहले आपका परमिट आपको ईमेल कर दिया जाएगा
  • ऑफ़लाइन: लक्षद्वीप प्रशासन की वेबसाइट (http://www.lakshadweeptourism.com/contact.html) से आवेदन पत्र डाउनलोड करें या कवरत्ती में जिला कलेक्टर के कार्यालय से प्राप्त करें। उन्हें भरें, दस्तावेज़ संलग्न करें और कलेक्टर कार्यालय में जमा करें। इस प्रक्रिया में अधिक समय लग सकता है, इसलिए तदनुसार योजना बनाएं।

प्रवेश की अनुमति

What Documents Do You Need For Lakshadweep Permit ? लक्षद्वीप परमिट के लिए आपको किन दस्तावेज़ों की आवश्यकता है?

  • आईडी प्रूफ यानी आधार कार्ड, वोटर ID कार्ड आदि
  • ट्रैवल प्रूफ के तौर पर फ्लाइट टिकट या बोट बुकिंग टिकट
  • होटल बुकिंग कंफर्मेशन
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • पुलिस क्लीयरेंस सर्टिफिकेट

किसे मिलती है इस परमिट से छूट? Who is exempt from this permit?

लैकाडिव, मिनिकॉय और अमीनदीवी द्वीप समूह (प्रवेश और निवास पर प्रतिबंध) नियम, 1967 के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति जो इन द्वीपों का मूल निवासी नहीं है, उसे प्रवेश के लिए परमिट प्राप्त करना आवश्यक है। केवल इन द्वीपों पर काम करने वाले या दौरा करने वाले सरकारी अधिकारियों और सशस्त्र बलों के सदस्यों और उनके परिवार के सदस्यों को छूट दी गई है।

कैसा है लक्षद्वीप, कहां कितने टापू है? How is Lakshadweep, how many islands are there?

लक्षद्वीप अरब सागर में 36 छोटे द्वीपों का एक समूह है। 2011 की जनगणना के मुताबिक यहां की कुल आबादी 1 लाख से भी कम है, जिनमें से ज्यादातर मुस्लिम हैं। लक्षद्वीप का क्षेत्रफल लगभग 32 वर्ग किलोमीटर है। यानी हिंद महासागर में स्थित पड़ोसी देश मालदीव के क्षेत्रफल से करीब 10 गुना कम.

  • टूरिस्ट्स यहां पर सिर्फ 5 द्वीप की ही यात्रा कर सकते हैं.
  • जिन द्वीपों पर टूरिस्ट्स जा सकते हैं, उनमें कावारत्ती, अगत्ती, बंगाराम, कदमत और मिनिकॉय शामिल हैं.
  • अधिक जानकारी के लिए ये लिंक क्लिक कीजिए— https://lakshadweep.gov.in/tourism/entry-permit

Additional Tips

  • पहले से ही आवेदन करें, खासकर पीक सीजन (अक्टूबर-मार्च) के दौरान। परमिट पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर जारी किए जाते हैं
  • अपना स्थान सुरक्षित करने के लिए परमिट प्राप्त करने के तुरंत बाद अपना आवास बुक करें और यात्रा करें
  • अपना द्वीप सावधानी से चुनें. प्रत्येक एक अनूठा अनुभव प्रदान करता है: हलचल भरे बाजारों के लिए कावारत्ती, पानी के खेल के लिए अगत्ती, आरामदेह माहौल के लिए कदमत, आदि।
  • स्थानीय संस्कृति और पर्यावरण का सम्मान करें। जिम्मेदार पर्यटन लक्षद्वीप को आने वाली पीढ़ियों के लिए सुंदर बनाए रखने में मदद करता है।

लक्षद्वीप परमिट की फीस और वैधता – Fees and validity of Lakshadweep permit

  • परमिट शुल्क आपकी राष्ट्रीयता और रहने की अवधि के आधार पर भिन्न होता है। वर्तमान दरों के लिए ई-परमिट वेबसाइट देखें
  • परमिट आम तौर पर 30 दिनों के लिए वैध होते हैं, विशेष परिस्थितियों में विस्तार संभव है।

क्या मुझे लक्षद्वीप जाने के लिए परमिट की आवश्यकता है?

नियमों के मुताबिक, हर उस व्यक्ति को परमिट लेना होगा, जो लक्षद्वीप का मूल निवासी नहीं है।

लक्षद्वीप के लिए परमिट शुल्क क्या है?

प्रवेश परमिट फॉर्म ऑनलाइन उपलब्ध है, और आपको इसे व्यवस्थापक को जमा करना होगा। फॉर्म के लिए 50 रुपये का आवेदन शुल्क आवश्यक है। भारतीय आगंतुकों को भारत में अपने गृह जिले के पुलिस आयुक्त द्वारा जारी पुलिस क्लीयरेंस प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

लक्षद्वीप की यात्रा के लिए मुझे किन दस्तावेजों की आवश्यकता होगी?

लक्षद्वीप एंट्री परमिट के लिए जरूरी दस्तावेज?
वोटर आईडी कार्ड या आधार कार्ड- ID Proof
हवाई टिकट या नाव बुकिंग टिकट- Travel Proof
होटल बुकिंग की पुष्टि (Hotel Booking Confirmation)
पुलिस क्लीयरेंस प्रमाण पत्र (Police Clearance Certificate)
पासपोर्ट साइज फोटो (Passport Size Photo)

क्या लक्षद्वीप महंगा है?

आप इस गंतव्य पर जाने के लिए विभिन्न ऑनलाइन पोर्टल पर उपलब्ध यात्रा पैकेज भी देख सकते हैं। इन पैकेजों की कीमत 25,000 रुपये से 1,00,000 रुपये के बीच हो सकती है।

क्या मैं लक्षद्वीप में शराब ले जा सकता हूँ?

लक्षद्वीप में प्रतिबंधित दवाएं और नशीले पदार्थ ले जाना एक दंडनीय अपराध है। लक्षद्वीप में शराब की अनुमति नहीं है। नग्न होकर तैरने या धूप सेंकने की अनुमति नहीं है। पेड़ों से नारियल न तोड़ें।

क्या मैं कार से लक्षद्वीप जा सकता हूँ?

चूंकि लक्षद्वीप द्वीपों का एक समूह है, इसलिए सड़क मार्ग से एक से दूसरे द्वीप तक यात्रा करना संभव नहीं है। एकमात्र विकल्प नाव और घाट या हेलीकाप्टर सेवाएं हैं।

क्या लक्षद्वीप के लिए 4 दिन काफी हैं?

द्वीपों का पता लगाने और आराम करने के लिए आपके लिए तीन से पांच दिन पर्याप्त हैं। लेकिन अगर आप कहीं घूमने जाना चाहते हैं तो पांच दिन की यात्रा आपको लक्षद्वीप द्वीप समूह की प्राकृतिक समृद्धि के करीब ले जाएगी।

लक्षद्वीप घूमने का अच्छा समय क्या है?

लक्षद्वीप की यात्रा का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मध्य मई तक है। मध्य मई से सितम्बर तक वर्षा होती है। हालाँकि लक्षद्वीप में सभी रिसॉर्ट पूरे साल खुले रहते हैं, लेकिन मानसून के दौरान जहाज से वहाँ पहुँचना मुश्किल होता है।

लक्षद्वीप की यात्रा करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

लक्षद्वीप तक फ्लाइट या जहाज से पहुंचा जा सकता है। लक्षद्वीप (अगत्ती हवाई अड्डा) का निकटतम हवाई अड्डा केरल में कोच्चि हवाई अड्डा है। क्रूज शिप पैकेज पर कोच्चि से जहाज द्वारा भी लक्षद्वीप की यात्रा की जा सकती है।

लक्षद्वीप में सबसे स्वच्छ समुद्र तट कौन सा है?

थुंडी बीच लक्षद्वीप द्वीपसमूह के सबसे प्राचीन और सुरम्य समुद्र तटों में से एक है, जहां लैगून के फ़िरोज़ा नीले पानी से सफेद रेत फैली हुई है, कदमत बीच विशेष रूप से क्रूज पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है जो पानी के खेल के लिए द्वीप पर आते हैं।

कोच्चि से लक्षद्वीप जहाज टिकट की कीमत

कोच्चि से लक्षद्वीप तक जहाज टिकट की कीमत बर्थ के आधार पर 2,200-7,000 रुपये तक हो सकती है। कुछ टिकट की कीमतों में शामिल हैं:
प्रथम श्रेणी, 2 बर्थ केबिन: INR 5,000
द्वितीय श्रेणी, 4 बर्थ केबिन: INR 2,200
गोल्ड क्लास, 4 बर्थ केबिन: INR 4,100
डायमंड क्लास, 2 बर्थ केबिन: INR 7,000
कोच्चि से लक्षद्वीप के लिए 5 दिन, 4 रात की यात्रा की लागत करों सहित लगभग 15,000 रुपये है। इस लागत में जल क्रीड़ाएँ शामिल नहीं हैं।

Tags

How To Get Travel Permit To Visit In Lakshadweep In Hindi, Lakshadweep Tour Tips, LAKSHADWEEP TOUR GUIDE, Lakshadweep Tourist Places, Lakshadweep Travel Plan Full Info, Who Needs a Lakshadweep Permit, Which islands can you visit, What is the reason behind taking permit in Lakshadweep, How to apply for entry permit To Visit Lakshadweep, What Documents Do You Need For Lakshadweep Permit, Fees and validity of Lakshadweep permit,

How To Get Entry Permit To Visit Lakshadweep Islands, Lakshadweep Entry Permit and other Mandatory Documents, Travel permit to visit in lakshadweep from mumbai, Travel permit to visit in lakshadweep from india, lakshadweep permit cost, lakshadweep permit apply online, lakshadweep entry permit form pdf, how to get lakshadweep permit, why do we need permission to visit lakshadweep, lakshadweep tour packages,

lakshadweep ke liye permit kaise apply karen, lakshadweep kaise jaye in hindi, kochi to lakshadweep ship ticket price,


Leave a Comment

जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य