जोबनेर ज्वाला माता शक्तिपीठ का इतिहास और घूमने की जानकारी: Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan

Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan: जोबनेर की ज्वाला माता का नाम राजस्थान के इतिहास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, देश के विभिन्न स्थानों से लाखों श्रद्धालु नवरात्रों में इनके दर्शन के लिए आते हैं। कहा जाता है कि जो भी भक्त सच्चे मन से इसकी सेवा करता है उसकी मनोकामना पूरी होती है। जोबनेर के ज्वाला माता के नवरात्रों में इतनी भीड़ होती है कि लोग दूर-दूर से झाखी डीजे या बैंड-बाजे के साथ दर्शन करने आते हैं।

राजस्थान के जयपुर के जोबनेर में स्थित ज्वालामाता का यह मंदिर राजस्थान का एक प्राचीन और प्रसिद्ध शक्तिपीठ है, जिसकी सदियों से विश्व में काफी मान्यता है। यह धाम जयपुर से लगभग 45 कि. मी. पश्चिम में ढूंढ़ाड़ अंचल के प्राचीन कस्बे जोबनेर में स्थित है। जोबनेर का सीधा सम्पर्क जयपुर से कालवार रोड के माध्यम से होता है।

Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan

Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan

Jobner Ka Itihaas – जोबनेर का इतिहास

Jwala Mata Jobner अति प्राचीन है। जोबनेर की प्राचीनता का पता उन साहित्यिक ग्रन्थों एवं शिलालेखों से चलता है जिनमें जबानेर, जब्बनकर, जोवनपुरी, जोबनेरी, जोबनेर आदि विभिन्न नामों से इसका उल्लेख किया गया है। कुर्मविलास में इसका दूसरा नाम जोगनेर (योगिनी नगरी) मिलता है जो प्रतीत होता है इसका प्राचीन नाम हो।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

भारत राजस्थान राज्य के जयपुर जिले में स्थित एक नगर पालिका है, जिसमें रावल नरेंद्र सिंह ने 1947 में भारत में पहला कृषि महाविद्यालय बनाया था, जो कृषि अनुसंधान और विस्तार के एक प्रमुख केंद्र के रूप में प्रसिद्ध है।

अरावली पर्वतमाला में एक पहाड़ की गोद में बसा जोबनेर ज्वालमाता के प्राचीन शक्तिपीठ के लिए जाना जाता है। जोबनेर कस्बे की कुल आबादी लगभग 12000 है और इसमें हिन्दी, राजस्थानी, धुंधाड़ी भाषा बोली जाती है। इसके आसपास यादव, जैन, जाट, राजपूत, मुस्लिम, मीणा, कुमावत और कई अन्य जातियों के लोग रहते हैं।

Jobner Ka Itihaas
Jobner Ka Itihaas

Jobner Jwala Mata Ka Itihaas – जोबनेर ज्वाला माता का इतिहास

जालपा या ज्वालामाता देवी या शक्ति का रूप है। जोबनेर के इस पूर्व नाम जोगनेर का उल्लेख कूर्मविलास नामक ऐतिहासिक काव्य में किया गया है, जो हमारे मत की पुष्टि करता है। कूर्मविलास में कवि ने जोगनेर के लिए जोबनेर का भी प्रयोग किया है, जो दोनों की अविभाज्यता सिद्ध करता है। जोबनेर अरावली पर्वतमाला की विशाल पर्वत चोटी की गोद में स्थित है, इसके पर्वत ढाल पर पर्वत के मध्य में इसके मध्य में ज्वालामता का भव्य मंदिर बना हुआ है।

मंदिर का निर्माण 1296 में चोहन काल में हुआ था। जगमाल सिंह कछवाहा के पुत्र खंगार ने 1600 में जोबनेर पर शासन किया, जो जोबनेर ज्वाला माता का बहुत बड़ा भक्त था। ऐसा माना जाता है कि जब जोबनेर पर शासन करने में राव भांगड़ को काफी सहयोग दिया गया था। जब अजमेर के शाही सेनापति मोहम्मद मुराद ने 1641 के आसपास उसके शासक जय सिंह के समय में जोबनेर पर हमला किया तो जोबनेर के पहाड़ से मधुमक्खियों का एक विशाल झुंड उन पर गिर पड़ा और इस तरह माता ज्वाला ने अप्रत्यक्ष रूप से उनका साथ दिया। जय सिंह को जीत दिलाई।

सफेद संगमरमर से बना ज्योति का यह मंदिर बहुत ही सुंदर और आकर्षक लगता है और दूर से ही दिखाई देता है। ज्वालामाता जोबनेर नगर के अधिष्ठाता कुलदेवी हैं। इस मंदिर के सावा मंडप पर प्रतापी चौहान का 1965 ई. का शिलालेख देखने को मिला है। जोबनेर पर आज भी चौहान के अवशेष मिलेंगे। ज्वाला माता मंदिर का उल्लेख मध्य साहित्य में भी मिलता है। जोबनेर की ज्वाला माता 500 वर्ष पूर्व से ही मारवाड़ क्षेत्र में तथा सम्पूर्ण भारतवर्ष में वर्धयात्री के नाम से प्रसिद्ध है।

Jobner Jwala Mata Mandir

रावल नरेंद्र सिंह ने मंदिर की ओर जाने वाले रास्ते में अपने राजप्रसाद के प्रसरू से एक ज्वाला पोल बनवाया था, जो आज भी अच्छी स्थिति में है। नगर पालिका जोबनेर द्वारा इस पोल की समय पर मरम्मत कराई जाती है। इसी ज्वाला पोल के ठीक ऊपर चोहन वंश के शासकों का महल आज भी अच्छी तरह से बना हुआ है, जो आने जाने वालों को जोबनेर का इतिहास बताता है।

ज्वाला माता का मंदिर संगमरमर के पत्थर से बना यह मंदिर दिल को मोह लेता है, यह मंदिर पहाड़ की चोटी के नीचे हृदय में स्थित है। गणेश पोल में प्रवेश करते ही आपको काली माता के दर्शन हो जाएंगे। पौराणिक कथा के अनुसार भगवान शिव ने सती के शव को कंधे पर उठाकर तांडव नृत्य किया था। उस समय सती का शरीर खंडित हो गया और उनके अंग अलग-अलग स्थानों पर गिरे जो शक्तिपीठ बन गए। उनका जानू-भाग (घुटना) जोबनेर पर्वत पर गिरा था, जिसे उनका प्रतीक मानकर ज्वालामता या जालपा देवी के रूप में पूजा जाता है।

jobner mata mandir jobner rajasthan

विशालकाय मेले का आयोजन होता है

शारदीय नवरात्र में शक्तिपीठ के रूप में प्रसिद्ध ज्वाला माता के स्थान पर लक्खी मेला लगता है। यह मेला 15 दिनों तक चलता है। यहां साल में दो मेले लगते हैं, जिनमें लाखों की संख्या में श्रद्धालु मां के दर्शन के लिए आते हैं। पौराणिक मान्यता है कि यहां मां के घुटने की पूजा की जाती है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
jobner jwala mata ka mandir

मंदिर के पुजारी बनवारी ने बताया कि मंदिर के नीचे ऊंचे चबूतरे पर लंगुरिया बलवीर विराजमान हैं। लंगुरिया को भैरव भी कहा जाता है, जो माता के रक्षक माने जाते हैं। मेले के लिए श्रद्धालुओं को परमिट उस जगह से भेजा जाता है, जिसे राव जाति के लोग श्रद्धालुओं के पास ले जाते हैं।

मेले में पहुंचे विभिन्न संप्रदायों के लोगों को पूर्व राजपरिवार की ओर से पाग, शिरोपाव और नारियल देकर सम्मानित किया जाता है। मान्यता है कि संतान की कामना करने वाले निःसंतान दंपत्ति मां के मुख्य द्वार पर मेंहदी से हाथ का निशान बनाते हैं और उल्टा स्वास्तिक बनाते हैं। रोगों से मुक्ति पाने के लिए महिलाएं अपने शरीर का एक टुकड़ा मां के यहां छोड़ जाती हैं।

यहाँ होती है मनोकामना पूरी

नवरात्रों में लोग जरुला और अपने बच्चे के दूल्हा-दुल्हन के रूप में सिर झुकाने आते हैं। लोगों की मनोकामना पूरी होने पर लोग मां की प्रसादी का भोग लगाते हैं। पुत्र जन्म या खुशी के दिन गणेश द्वार के दोनों ओर की दीवार पर रोली-मौली, मेहंदी और काजल से साटा बनाया जाता है।

jobner jwala mata ka mandir

ऐसा माना जाता है कि ज्वाला माता के दर्शन करने के बाद जब तक आप भैरवनाथ के दर्शन नहीं कर लेते, तब तक आपकी यात्रा पूरी नहीं मानी जाती है, इसलिए हर यात्री ज्वाला माता के दर्शन करने के बाद उनके दर्शन करता है। युद्ध के मैदान में बजाये जाने वाले नोबत को मंदिर के प्रांगण में रखा जाता है, जो पुत्र प्राप्ति या किसी शुभ कार्य की सफलता पर नोबत बजाने वाले को उपहार देकर बजाया जाता है। गर्भगृह के बाईं ओर एक विशाल गुफा है।

ज्वाला माता मनोहर दासोत खंगारोतों की कुलदेवी मानी गई हैं। 1641 के आसपास, अजमेर के शाही सेनापति मुराद ने जोबनेर के जैतसिंह के शासनकाल में जोबनेर पर हमला किया, तब मधुमक्खियों के एक बड़े झुंड ने जोबनेर पहाड़ से उस पर हमला किया और इस तरह ज्वाला माता स्वयं प्रकट हुईं और वहां के शासक की रक्षा की। जीत गया

जोबनेर ज्वाला माता मंदिर

मंदिर तक कैसे पहुंचे

ज्वाला माता के मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां बनाई गई हैं, ताकि बच्चों से लेकर बूढ़ों तक आराम से चढ़ सकें। यात्रियों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े, इसके लिए सीढ़ियां शुरू होने के स्थान से ही छाया के लिए लोहे के टेंट लगाए गए हैं।

jobner mata mandir jobner rajasthan

अभी हाल ही में मंदिर तक जाने के लिए एक सुलभ मार्ग का निर्माण किया गया है जिसके माध्यम से आप आपने निजी वाहन से मंदिर तक जा सकते है ऊपर वहां पार्क करने की सुविधा भी है।

बीच रास्ते में पानी और बैठने की सुविधा दी गई है, जिसमें यात्री आराम से आराम कर सकते हैं और अपने साथ लाए भोजन को खा सकते हैं। ज्वाला माता के रास्ते पर जाने पर आपको ज्वाला पोल से शुरू होने वाली कई दुकानें मिल जाएंगी, जहां आपको मिठाई, प्रसादी, मां के नाम के झंडे मिलेंगे, जिन पर जय माता दी लिखी होती है और उसका नाम भी लिखा होता है।

Other Blog About JWALA MATA JOBNERhttps://ganeshoffical.com/jobner-jwala-mata/

Jobner Jwala Mata Ki Photos

Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan

Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan, jobner jwala mata, jobner mata ka mandir, jobner mata ji, Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan, जोबनेर की ज्वाला माता की कहानी, Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan, jobner jwala mata, jobner mata ka mandir, jobner mata ji, Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan, जोबनेर की ज्वाला माता की कहानी, Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan, jobner jwala mata, jobner mata ka mandir, jobner mata ji, Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan, जोबनेर की ज्वाला माता की कहानी, Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan, jobner jwala mata, jobner mata ka mandir, jobner mata ji, Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan, जोबनेर की ज्वाला माता की कहानी,


3 thoughts on “जोबनेर ज्वाला माता शक्तिपीठ का इतिहास और घूमने की जानकारी: Jobner Jwala Mata Mandir Rajasthan”

  1. मैं माता जी को दिल से नमन करता हूं इस जोबनेर माता को हम कुलदेवी के रूप में पूजते है ये माता हमारे सभी कष्टों को दूर करती है मैं माता से विनती करता हूं की मेरे सभी कष्ट दूर करे जय माता दी
    जय जोबनेर माता

    Reply
  2. मैं माता जी को maan से नमन करता हूं इस जोबनेर माता को हम कुलदेवी के रूप में पूजते है ये माता हमारे सभी कष्टों को दूर करती है, मैं माता से विनती करता हूं की मेरे सभी कष्ट दूर करे जय माता दी
    जय जोबनेर माता.

    Reply

Leave a Comment

चिलचिलाती गर्मी के लिए बेस्ट है जयपुर का यह वाटर पार्क एडवेंचर के हैं शौकीन तो जाए खीर गंगा, जो है हिमाचल की वादियों में बसी। गर्मी से मिलेगी राहत, सिर्फ दो हजार में घूमे दिल्ली के पास इन जगहों पर मई में बजट में घूमने के लिए डलहौजी से लेकर नैनीताल तक परफेक्ट हैं ये जगहें गर्मी की छुट्टियों में घूमने का ले भरपूर मजा इन खूबसूरत हिल स्टेशन पर इस गर्मी जयपुर में एन्जॉय करने के लिए बेस्ट वाटर पार्क 2024 चिलचिलाती गर्मी में कूल वाइब्स के लिए घूम आएं इन ठंडी जगहों पर जयपुर के न्यू हवाई-जहाज वॉटर पार्क के टिकट में बड़ा बदलाव, जानिए जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें