निधिवन का रहस्य, क्या सच में रास रचाने आते हैं राधा कृष्ण: Nidhivan Ka Rahasya In Hindi

Nidhivan Ka Rahasya In Hindi: क्या आप कृष्ण भक्तों के स्वर्ग को जानते हैं? सीधा सा जवाब है “Vrindavan“। भक्तों को इस धार्मिक स्थान की खोज करके शांति और एक अनोखी तरह की शांति मिलती है। बांके बिहारी मंदिर से लेकर इस्कॉन मंदिर तक, देखने के लिए कई स्थान हैं। क्या आपको पता है कि सभी जगहों में से सबसे रहस्यमयी जगह कौन सी है?

वृंदावन में कई मंदिर श्री कृष्ण के प्रेम को समर्पित हैं, लेकिन एक है Nidhivan नामक रहस्यमयी जंगल। एक स्थान, जिसके बारे में माना जाता है कि वह स्थान है जहाँ श्री कृष्ण आज भी रास लीला करने आते हैं। आइए आपको इस आर्टिकल में निधिवन के बारे में बताते हैं।

निधिवन मथुरा नगरी में भगवान श्री कृष्ण की नगरी वृंदावन में स्थित एक विशाल वन (Nidhivan Ka Rahasya) है, जिसमें असंख्य वृक्ष हैं। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इसका महत्व भगवान श्री कृष्ण के समय से है। यहां रहने वाले ब्रजवासियों के अनुसार आज भी भगवान कृष्ण रासलीला रचाने यहां आते हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

निधिवन एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ होता है खजाने का जंगल। स्थानीय लोगों के अनुसार, निधिवन की स्थापना गुरु हरिदास ने की थी, जिनकी गहरी भक्ति, तपस्या और ध्यान ने भगवान कृष्ण को इस स्थान पर आने के लिए मजबूर किया था।

Nidhivan Ka Rahasya In Hindi
Contents show

Nidhivan Ka Rahasya In Hindi (निधिवन का रहस्य)

भगवान कृष्ण और राधा रानी के साथ वृंदावन की गोपियों की रासलीला पौराणिक कथाओं में शामिल है। रासलीला शुद्ध प्रेम और भक्ति से उत्पन्न एक ऐसा नृत्य है जिसमें गोपियाँ सब कुछ भूलकर कृष्ण की दीवानी हो जाती हैं। हालांकि, कम ही लोग जानते हैं कि मथुरा के पास निधिवन नामक एक रहस्यमयी जगह है जहां विश्वास के अनुसार भगवान कृष्ण अभी भी राधा के साथ गोपियों के साथ दिव्य रासलीला करने आते हैं।

इस दौरान वह राधा और कई गोपियों के साथ डांस करते हैं। इसलिए रात के समय निधिवन के अंदर प्रवेश पूर्णतया वर्जित है। दिन में श्रद्धालु प्रवेश कर सकते हैं, कोई रोक-टोक नहीं है। लेकिन, शाम होते ही निधिवन खाली हो जाता है।

पेड़ बन जाती हैं गोपियाँ (Nidhivan Ki Story)

यहां आप जितने भी पेड़ (Nidhivan Ke Ped) देखेंगे, वे सभी अपने आप में अजीब हैं। सभी वृक्षों की शाखाएँ सीधी होने के स्थान पर मुड़ी हुई होती हैं। सामान्यतया संसार के सभी वृक्षों की शाखाएँ नीचे से ऊपर की ओर जाती हैं लेकिन निधिवन में सभी वृक्षों की शाखाएँ ऊपर से नीचे की ओर जाती हैं। यह बात अपने आप में अजीब है।

मान्यता है कि सूर्यास्त के बाद पेड़ों की ये शाखाएं गोपियों में बदल जाती हैं जिनके साथ भगवान श्री कृष्ण रासलीला रचते हैं। सूर्योदय से पहले ही ये वापस अपने स्वरूप में आ जाते हैं।

जबकि अन्य का दावा है कि ये श्री कृष्ण की 16,000 रानियां हैं जो हर रात जीवित आती हैं। इस रहस्य को जानने के लिए प्रसिद्ध इतिहासकारों और वैज्ञानिकों ने निधिवन का दौरा किया, लेकिन वे सभी खाली हाथ लौट आए।

Nidhivan Ki Story

जोड़ो में हैं तुलसी के पौधे (Nidhivan Tulsi Tree Story In Hindi)

यहां आपको तुलसी के असंख्य पौधे मिल जाएंगे लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि तुलसी का कोई भी पौधा अकेला नहीं होता यानी हर तुलसी के साथ एक और तुलसी का पौधा होता है। यहां आपको कोई भी तुलसी का पौधा अकेले (Nidhivan Ka Ithihas) नहीं दिखेगा क्योंकि सभी तुलसी के पौधे जोड़े में हैं जो श्रीकृष्ण और राधा के प्रेम को रेखांकित करते हैं। तुलसी के पेड़ों का ऐसा संगम आपको इस जंगल में ही देखने को मिलेगा।

पशु-पक्षी निधिवन को चले जाते हैं छोड़कर

निधिवन में दिन में शोर मचाने वाले पशु-पक्षी भी शाम तक निधिवन से निकल जाते हैं। निधिवन में एक महल है, ‘रंग महल’, जिसकी छत के नीचे श्रीकृष्ण और गोपियों के लिए संध्या भोग रखा जाता है, जो प्रात:काल दिखाई नहीं देता। ऐसे में कहा जाता है कि कान्हा निशान भी छोड़ते हैं. रास मंडल से जुड़े पुजारी बताते हैं कि निधिवन के अंदर बने महल में रासलीला की मान्यता रही है। हजारों सालों से भक्तों में यह मान्यता रही है कि कन्हैया हर रात ‘रंग महल’ में आते हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Nidhivan Tulsi Tree Story In Hindi

रंग महल (Nidhivan Rang Mahal Ka Rahasya)

इन सबके अलावा यहां एक Rang Mahal भी है जहां माता राधा रानी का श्रृंगार किया जाता है। यह विशेष रूप से महिलाओं द्वारा पेश किया जाता है। कहा जाता है कि रासलीला के समय भगवान कृष्ण इसी रंग महल में विश्राम करते हैं। इसलिए सूर्यास्त से पहले कृष्ण जी के लिए बिस्तर सजा दिया जाता है और एक लौटा हुआ जल, दातून, पान और अन्य सामान रख दिया जाता है। सुबह जब Rang Mahal के कपाट खोले जाते हैं तो सारा सामान इस्तेमाल किया हुआ मिलता है और पलंग भी इस तरह मोड़ा जाता है जैसे उस पर कोई बैठा हो।

इसे देखने के लिए आप सूर्योदय से पहले निधिवन पहुंचें और इंतजार करें। 5 से 6 बजे के बीच निधिवन के कपाट खोल दिए जाएंगे और पंडित जी आपके सामने रंगमहल के सातों ताले खोल देंगे और श्रीकृष्ण द्वारा प्रयोग में लाई गई सभी चीजें आपको दिखाएंगे।

ललिता कुंड (Lalita Kund Story In Hindi)

यहां आपको एक कुंड भी मिलेगा जिसे ललिता कुंड के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार द्वापर युग में जब भगवान श्री कृष्ण रासलीला रच रहे थे, तब अचानक गोपियों में से एक ललिता को प्यास लगी। ललिता राधा की प्रिय सखी थी जिसने कान्हा और राधा को बृजवासियों की नजरों से बचाकर मिलने में मदद की थी। तब भगवान श्री कृष्ण ने उसी कुंड का निर्माण किया जो आज ललिता कुंड के नाम से जाना जाता है।

Nidhivan Timing Vrindavan In Hindi

शाम के समय निधिवन जाने की है मनाही (Mystery of Nidhivan Vrindavan in Hindi)

यह केवल दिन के समय भक्तों के लिए खुला रहता है। यहां सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद किसी का भी जाना बिल्कुल मना है। सूर्यास्त से पहले इस जंगल को खाली कर बंद कर दिया जाता है। यहां तक कि मंदिर के पुजारी भी सूर्यास्त से पहले वहां से चले जाते हैं। इस जंगल में आपको दिन में कई पक्षी और बंदर दिख जाएंगे, लेकिन शाम होते ही ये भी इस जंगल को छोड़ देते हैं।

Mystery of Nidhivan Vrindavan in Hindi

क्या होगा अगर रात में कोई वन में रह जाये ?

रासलीला देखने वाले खो देते हैं अपना मानसिक संतुलन, गूंगे हो जाते हैं या सदमे से मर जाते हैं।

मंदिर शाम को 5 बजे बंद हो जाता है जिसके बाद किसी को भी मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं होती है। निधिवन और उसके आसपास के घरों में खिड़कियां नहीं हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि जो लोग रात में रासलीला की एक झलक पाने के लिए बाहर निकलते हैं, वे या तो अपना मानसिक संतुलन खो बैठते हैं, गूंगे हो जाते हैं या सदमे से मर जाते हैं। निधिवन के निवासी धार्मिक मान्यताओं का पालन करते हैं और भगवान की रासलीला के दौरान रात में सख्ती से घर के अंदर रहते हैं। कुछ लोगों का यह भी दावा है कि उन्होंने रात में जंगल से बांसुरी संगीत और घुंघरू या पायल की आवाज सुनी है।

YouTuber Gaurav wanted to reveal the secret of Nidhivanगौरव जोन निधिवन के रहस्य को प्रकट करना चाहते थे।

यूट्यूबर गौरव जोन को दिल्ली से मथुरा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था

यूपी पुलिस द्वारा पकड़े जाने के बाद YouTuber गौरव जोन ने बताया कि वह निधिवन के ठिकाने का खुलासा करना चाहता था। तभी 6 नवंबर की रात उसने अपने मौसेरे भाई प्रशांत और कुछ दोस्तों के साथ निधिवन में घुसकर वीडियो शूट कर लिया. वीडियो शूट करने के बाद वह करीब 15 से 20 मिनट में वापस आ गए। गौरव ने बताया कि दिल्ली पहुंचने के बाद 9 नवंबर को यूट्यूब पर वीडियो अपलोड किया गया था. हालांकि, पुजारियों की आपत्ति के बाद उन्होंने इस वीडियो को यूट्यूब से हटा दिया.

Nidhivan Timing Vrindavan In Hindi

कैसे पहुंचें वृंदावन – How to Reach Vrindavan

  • रेल या सड़क मार्ग से दिल्ली से वृंदावन पहुंचा जा सकता है।
  • रेल – निकटतम रेलवे स्टेशन मथुरा में है यानी वृंदावन से 14 किमी दूर है और वहां से वृंदावन पहुंचने के लिए कैब/बस या ऑटो किराए पर लेते हैं। हर 15 मिनट में एक ऑटो या बस वृंदावन के लिए निकलती है।
  • सड़क – वृंदावन दिल्ली से 193 किमी दूर है और यमुना एक्सप्रेसवे के माध्यम से 2.5 घंटे में पहुंचा जा सकता है।

वृंदावन जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to go Vrindavan

वृंदावन जाने का सबसे अच्छा समय सर्दियों का है यानी अक्टूबर से मार्च या मानसून। ग्रीष्मकाल (अप्रैल-जून) में यहाँ का तापमान बहुत अधिक होता है।

Best time to go Vrindavan

कब जाये निधिवन या निधिवन खुलने का समय (Nidhivan Timing Vrindavan In Hindi)

अगर आप मथुरा वृंदावन घूमने का प्लान बना रहे हैं तो दोपहर के समय इस जंगल में घूमने जा सकते हैं। दोपहर का समय इस जंगल में जाने का सबसे अच्छा समय है क्योंकि उस समय मथुरा वृंदावन के सभी मंदिर बंद हो जाते हैं जो शाम 4 बजे के बाद खुलते हैं। तो इस समय आप निधिवन में घूम सकते हैं और इसकी सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।

ऋतु के अनुसार इसके कपाट सुबह 5 से 6 बजे के बीच खुलते हैं। यहां करीब छह बजे मंगला आरती होती है। सूर्यास्त से कुछ समय पहले यहां के कपाट बंद कर दिए जाते हैं। आपको यहां कई महापुरुषों की समाधि भी देखने को मिलेगी जो भगवान कृष्ण की भक्ति में लीन थे। पेड़-पौधों के बीच उनकी कब्रें बनाई गई हैं। इसके साथ ही आपको इस जंगल के आसपास अन्य मंदिरों के दर्शन भी करने चाहिए।

Nidhivan HD Images | Nidhivan Night Images | Nidhivan Photos

Nidhivan Night Images
Nidhivan Rang Mahal Ka Rahasya
Nidhivan Photos
Nidhivan Photos
Nidhivan HD Images
Nidhivan HD Images

Nidhivan Ka Rahasya In Hindi, About Nidhivan in Vrindavan, Banke Bihari Temple, Best time to go Vrindavan, Best Time to Visit Vrindavan, Delhi, How to Reach Vrindavan, Lalita Kund or well in Nidhi Van, Lalita Kund Story In Hindi, Madan Mohan Temple, mathura, Mysterious Facts, Mystery of Nidhivan Vrindavan in Hindi, nidhivan hd images,

Nidhivan Ka Rahasya, Nidhivan Ka Rahasya In Hindi, Nidhivan Ke Ped, Nidhivan Ki Story, nidhivan mystery solved, Nidhivan Rang Mahal Ka Rahasya, Nidhivan Timing Vrindavan In Hindi, Nidhivan Tulsi Tree Story In Hindi, Prem Mandir, Priyakant Ju Temple, Rang Mahal, Saint Haridas Temple, Shahji Temple and many more, Shree Radha Temple, Shri Radha Raman Mandir, true stories of krishna devotees in hindi, true stories of vrindavan, up news, Uttar Pradesh, Uttar Pradesh news, vrindavan, What happens in Nidhivan at night, YouTuber Gaurav wanted to reveal the secret of Nidhivan, निधिवन का रहस्य क्या है,


Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन