महाराष्ट्र में सबसे खूबसूरत और खतरनाक किला, कोई नहीं रहना चाहता यहां: Prabalgad Fort Maharashtra Travel Info In Hindi

Prabalgad Fort Maharashtra Travel Info In Hindi:- महाराष्ट्र में ‘मौत का किला‘ के नाम से मशहूर प्रबलगढ़ किला, जिसे कलावंतिन दुर्ग के नाम से भी जाना जाता है के बारे में बताने जा रहे हैं। 2300 फीट ऊंची खड़ी पहाड़ी पर बना यह किला देश के खतरनाक किलों (Dangerous Forts of the Country) में से एक है। यहां अब तक कई लोगों की जान जा चुकी है, लेकिन आज भी इसका रोमांच लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

भारत अपने इतिहास के लिए सबसे ज्यादा जाना जाता है, जिसमें कई किलों के बारे में आप खुद भी जानते होंगे। इनमें से कई किले अपनी बनावट के लिए जाने जाते हैं। लेकिन आज हम आपको उन किलों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो बेहद खतरनाक हैं और लोग सूरज ढलते ही यहां से निकलना सही समझते हैं। हम बात कर रहे हैं महाराष्ट्र के माथेरान और पनवेल के बीच स्थित (Kalavantin Durg Trek Maharashtra In Hindi) प्रबलगढ़ किले की।

Prabalgad Fort Maharashtra Travel Info In Hindi

Prabalgad Fort Maharashtra Travel Info In Hindi – प्रबलगढ़ किला महाराष्ट्र घूमने की पूरी जानकारी

भारत में राजाओं के कई ऐसे किले हैं, जो बेहद खूबसूरत होने के साथ-साथ खतरनाक भी हैं। महाराष्ट्र में माथेरान और पनवेल के बीच एक ऐसा किला स्थित है, जो भारत के खतरनाक किलों में गिना जाता है। इस किले को प्रबलगढ़ किले के नाम से जाना जाता है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

Prabalgad Fort Maharashtra के रायगढ़ जिले में स्थित है और मुंबई के बहुत करीब है। और समुद्र तल से 2300 फीट की ऊंचाई पर एक पठार पर स्थित है। आम तौर पर मानसून के दौरान जाना पसंद किया जाता है, हरे-भरे जंगल से गुजरते हुए रास्ते में आपको कुछ झरने मिलेंगे।

Kalavantin Durg Trek Maharashtra In Hindi

यह किला इतना खतरनाक इसलिए माना जाता है क्योंकि….

यह किला इतना खतरनाक इसलिए माना जाता है क्योंकि यहां ट्रैकर्स चट्टानों को काटकर बनाई गई पहाड़ियों और तेज सीढ़ियों से होकर गुजरते हैं, जिनके चारों ओर न तो रेलिंग होती है और न ही उन्हें पकड़ने के लिए रस्सियां होती हैं। मतलब अगर चढ़ाई करते वक्त आपका पैर जरा सा भी फिसला तो आप 2300 फीट नीचे खाई में गिर जाएंगे।

अगर आप दिमाग से चढ़ सकते हैं तो इस कठिन ट्रैकिंग में शामिल हो सकते हैं। आप सोच रहे होंगे कि ऐसा ट्रैकिंग पार्ट किसने बनाया होगा तो हम आपको बता दें कि खतरनाक होने के बाद भी कई लोग यहां ट्रैकिंग करने आते हैं। लेकिन कुछ ही लोग इसे सफलतापूर्वक पूरा कर पाते हैं। कलावंती किले के शीर्ष से चंदेरी, माथेरान, करनाल और इरशाल को देखा जा सकता है। यहां से मुंबई की कई जगहें भी देखी जा सकती हैं।

Prabalgad Fort Maharashtra Travel Info In Hindi

History of Kalavanti Fort in Hindi – कलावंती किले का इतिहास हिंदी में

कहा जाता है कि इस किले से गिरने के कारण कई लोगों की जान जा चुकी है। किले का नाम पहले मुरंजन किला था, लेकिन छत्रपति शिवाजी महाराज के शासनकाल में इसका नाम बदल दिया गया। कहा जाता है कि शिवाजी महाराज ने इस किले का नाम रानी कलावंती के नाम पर रखा था।

How To Reach Kalavanti Fort (Prabalgad Fort) – कलावंती किला (प्रबलगढ़ किला) कैसे पहुंचें

ट्रैकर्स आमतौर पर ठाकुरवाड़ी गांव से ट्रैकिंग शुरू करते हैं। गाँव तक पहुँचने के लिए, मुंबई से पनवेल तक ट्रेन लें और फिर इस गंतव्य तक बस लें।

आप इस ट्रेक को अकेले करना चुन सकते हैं या किसी ट्रैवल कंपनी के साथ जाना चुन सकते हैं जो आपके लिए इस ट्रेक की योजना बना सके। बल्कि यह एजेंसी आपको इस पैकेज में 1000 रुपये के खर्च पर अलाव के साथ किले में रात भर कैंपिंग का विकल्प भी देती है।

Kalavantin Durg trek (4)

Interesting Facts About Kalavantin Fort (Prabalgad Fort) – कलावंतिन किले (प्रबलगढ़ किला) के बारे में रोचक तथ्य

  • महाराष्ट्र में माथेरान और पनवेल के बीच स्थित इस किले को Kalavantin Durg के नाम से भी जाना जाता है।
  • इस किले के बारे में कहा जाता है कि कठिन रास्ता होने के कारण यहां बहुत कम लोग आते हैं और जो आते हैं उन्हें सूरज डूबने से पहले वापस लौटने की सलाह दी जाती है।
  • दरअसल, खड़ी चढ़ाई के कारण यहां इंसान ज्यादा देर तक नहीं रुक पाता है।
  • इसके साथ ही यहां बिजली, पानी से लेकर कोई व्यवस्था नहीं है. शाम होते ही मीलों तक सन्नाटा पसर जाता है।
  • इस किले पर चढ़ने के लिए चट्टानों को काटकर सीढ़ियाँ बनाई गई हैं।
  • इन सीढ़ियों पर ना तो रस्सियां हैं और ना ही कोई रेलिंग.
  • चढ़ाई के समय अगर जरा सी चूक हो जाए या पैर फिसल जाए तो आदमी नीचे खाई में गिर जाता है।
  • आज तक इस किले से गिरकर कई लोगों की मौत हो चुकी है।
  • यहां होने वाले हादसों के कारण स्थानीय लोग इसे ‘मौत का किला’ भी कहते हैं।
  • लोगों का मानना है कि यहां मरने वाले लोगों की आत्माएं आज भी भटकती हैं।
  • कलावंती दुर्ग के किले से चंदेरी, माथेरान, करनाल, इरशाल किले भी दिखाई देते हैं।
  • इस किले से मुंबई शहर का कुछ क्षेत्र भी देखा जा सकता है।
  • इस किले पर अक्टूबर से मई तक चढ़ाई की जा सकती है।
  • बारिश के मौसम में यहां चढ़ना बेहद खतरनाक हो जाता है।
Kalavantin Durg Trek Maharashtra In Hindi

Best time to visit Kalavanti Fort – कलावंती किला घूमने का सबसे अच्छा समय

मानसून (मई से सितंबर) के दौरान किले की ओर ट्रैकिंग करने से बचें क्योंकि यहां रास्ता काफी फिसलन भरा हो जाता है और गिरने की संभावना बढ़ जाती है। इस किले पर ट्रैकिंग करने का सही समय अक्टूबर से मार्च है।

Prabalgad Fort Maharashtra Photos

Prabalgad Fort Maharashtra Travel Info In Hindi, Kalavantin Durg Trek Maharashtra In Hindi, Information about visiting Prabalgad Fort Maharashtra, History of Kalavantin Fort in Hindi, Prabalgad Fort Maharashtra Photos,

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

Prabalgad Fort Maharashtra Travel Info In Hindi, Kalavantin Durg Trek Maharashtra In Hindi, Information about visiting Prabalgad Fort Maharashtra, History of Kalavantin Fort in Hindi, Prabalgad Fort Maharashtra Photos,


Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन