शाकंभरी माता मंदिर राजस्थान की सम्पूर्ण जानकारी: Shakambhari Mata Mandir Sambhar Rajasthan

Shakambhari Mata Mandir Sambhar Rajasthan: – मां दुर्गा का दूसरा रूप शाकंभरी देवी है, ये राजस्थान और उत्तर प्रदेश में लोकदेवी के नाम से प्रसिद्ध हैं। शाकंभरी देवी का मुख्य मंदिर राजस्थान के सीकर जिले के उदयपुर वाटी में स्थित है, जो सकरई मां के नाम से प्रसिद्ध है, इसके अलावा दो अन्य मुख्य मंदिर क्रमशः जयपुर की सांभर तहसील और उत्तर प्रदेश के सहारनपुर पास में स्थित हैं।

राजस्थान की राजधानी जयपुर से करीब 100 किलोमीटर दूर सांभर कस्बे में स्थित Shakambhari Mata Mandir करीब 2500 साल पुराना बताया जाता है। यूं तो शाकम्बरी माता चौहान वंश की कुलदेवी हैं, लेकिन कई अन्य धर्मों और समाजों के लोग मां की पूजा करते हैं। शाकम्बरी को दुर्गा का अवतार माना जाता है। देश भर में शाकम्बरी मां के तीन शक्तिपीठ हैं और माना जाता है कि सबसे पुराना शक्तिपीठ यहीं है। मंदिर में भादवा सुदी अष्टमी को मेले का आयोजन किया जाता है। दोनों ही नवरात्रों में मां के दर्शन के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं। मां शाकम्बरी का वर्णन महाभारत और शिव महापुराण में भी मिलता है।

Shakambhari Mata Mandir Sambhar Rajasthan

Shakambhari Mata Mandir Sambhar Rajasthan – शाकम्बरी माता मंदिर सांभर राजस्थान

देवी दुर्गा के नौ रूपों के मंदिर लगभग पूरे भारत में बने हैं और उनमें से एक प्रसिद्ध मंदिर राजस्थान के सांभर शहर में स्थित है। सांभर जयपुर से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां मां दुर्गा का शाकम्बरी स्वरूप स्थापित है। वैसे तो देश भर में दुर्गा जी के इस स्वरूप के कई मंदिर हैं, लेकिन यह मंदिर बहुत ही खास और प्रसिद्ध माना जाता है। सांभर का नाम भी मां शाकम्बरी के तप के कारण पड़ा। लेकिन नमक की झील और मंदिर से जुड़ी कुछ खास बातें हैं, जो मंदिर की खासियत बताती हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

इन परिवारों में शादी, बच्चे के जन्म जैसे शुभ अवसरों पर ठगी करने की परंपरा है। मंदिर में भादवा सुदी अष्टमी को मेले का आयोजन किया जाता है। दोनों ही नवरात्रों में मां के दर्शन के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं।

shakambari mata mandir

यहां की मूर्ति के संबंध में मान्यता है कि देवी की यह प्रसिद्ध मूर्ति जमीन से स्वत: ही प्रकट हुई है। विभिन्न वृत्तांतों के अनुसार, चौहान वंश के एक शासक वासुदेव ने सातवीं शताब्दी में शाकम्बरी माता मंदिर के पास सांभर झील और सांभर शहर की स्थापना की थी। पौराणिक कथाओं के अनुसार सांभर शाकम्बरी का अपभ्रंश है। माता शाकंभरी का उल्लेख महाभारत, शिव पुराण और मार्कंडेय पुराण जैसे धार्मिक ग्रंथों में मिलता है। इसके अनुसार माता ने 100 वर्ष तक निर्जन स्थान पर तपस्या की जहां वर्षा नहीं होती थी। इस तपस्या के दौरान मां ने महीने में एक बार ही वनस्पति का सेवन किया था।

Shakambhari Mata History In Hindi – शाकंभरी माता इतिहास

मां दुर्गा का दूसरा रूप शाकम्बरी देवी है, ये राजस्थान और उत्तर प्रदेश में लोकदेवी के नाम से प्रसिद्ध हैं। शाकंभरी देवी का मुख्य मंदिर राजस्थान के सीकर जिले के उदयपुर वाटी में स्थित है, जो सकरई मां के नाम से प्रसिद्ध है, इसके अलावा दो अन्य मुख्य मंदिर क्रमशः जयपुर की सांभर तहसील और उत्तर प्रदेश के सहारनपुर पास में स्थित हैं।

माँ शाकम्बरी देवी की पूजा कई अन्य रूपों में की जाती है जैसे वैष्णो देवी, चामुंडा, कांगड़ा वाली, ज्वाला, चिंतपूर्णी, कामाख्या, शिवालिक पर्वत वासिनी, चंडी, बाला सुंदरी, मनसा, नैना और शताक्षी देवी आदि। भारत में देवी के कई पीठ हैं। जहां उनके विशाल मंदिर बने हुए हैं और श्रद्धालु श्रद्धा से यहां आते हैं लेकिन देवी का एक ही शक्तिपीठ है जो सहारनपुर में स्थित है। यह भारत के सबसे अधिक भक्तों द्वारा दौरा किया गया मंदिर है।

इस शक्तिपीठ के बारे में इतिहास में कहा जाता है कि आचार्य चाणक्य और उनके परम शिष्य चंद्रगुप्त ने भी यहां कुछ समय बिताया था, मौर्य काल में यह पीठ श्रुघ्न देश के अंतर्गत आता था। इस शक्तिपीठ के कई ऐतिहासिक साक्ष्य भी प्राप्त हुए हैं जिनमें कई प्राचीन मंदिर और मूर्तियाँ शामिल हैं। 8वीं शताब्दी पूर्व का एकमुखी शिवलिंग भी यहां के अवशेषों में से एक है। यहाँ आदि शंकराचार्य के आगमन का विवरण भी मिलता है।

यहीं उनका आश्रम भी बना हुआ है, यहाँ रहते हुए उन्होंने देवी की मूर्ति के दाहिनी ओर भीम और भ्रामरी देवी की मूर्ति और बाईं ओर शताक्षी देवी की मूर्ति स्थापित की। इतिहास में यह भी दर्ज है कि माता शाकंभरी का यह पीठ महाभारत काल में घने जंगलों में लुप्त हो गया था। मानव आबादी से दूर होने के कारण शायद लोग यहां का रास्ता भूल गए थे।

बाद में नैन गूजर नाम के एक अंधे व्यक्ति ने इस मंदिर की खोज की, जो खुद रास्ता भटक गया और देवी ने उसे दर्शन दिए और अपना परिचय दिया, तब से यह मंदिर फिर से सुर्खियों में आ गया।

Shakambari Mata Mandir Sambhar Rajasthan History – शाकम्बरी माता मंदिर सांभर राजस्थान इतिहास

माता शाकम्बरी के पौराणिक ग्रंथों में वर्णित कथा के अनुसार एक समय दुर्गम नामक दैत्य ने पृथ्वी पर आतंक मचा रखा था, तब पृथ्वी पर लगातार सौ वर्षों तक वर्षा नहीं हुई। तब सभी लोग अन्न-जल के अभाव में मरने लगे। सभी जीव भूख से मरने लगे। उस समय सभी ऋषियों ने मिलकर देवी भगवती की आराधना की। जिससे दुर्गा जी ने नए रूप में अवतार लिया और उनकी कृपा से वर्षा हुई। इस अवतार में महामाया ने वर्षा से पृथ्वी को हरी सब्जियों और फलों से लबालब कर दिया, जिससे पृथ्वी के सभी प्राणियों को जीवन प्राप्त हुआ। शाकम्भरी नाम शाक पर आधारित तपस्या के कारण पड़ा। इस तपस्या के बाद यह स्थान हरा-भरा हो गया।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Shakambari Mata Mandir Sambhar Rajasthan History

किंवदंतियों और स्थानीय लोगों के अनुसार, मां शाकम्बरी की तपस्या से यहां अपार धन की प्राप्ति हुई थी। समृद्धि के साथ-साथ इस प्राकृतिक सम्पदा पर संघर्ष भी आया। जब समस्या ने गंभीर रूप धारण कर लिया तो यहां की मां ने यहां की अनमोल संपदा और बेशकीमती खजाने को नमक में बदल दिया। इस तरह हुई सांभर झील की उत्पत्ति। वर्तमान में लगभग 90 वर्ग मील में एक नमक की झील है।

चौहान वंश ने की थी शाकम्बरी माता मंदिर की स्थापना

मान्यता है कि इस मंदिर की स्थापना चौहान वंश के शासक वासुदेव ने सातवीं शताब्दी में सरोवर और सांभर नगर में की थी। सांभर के शाकंभरी माता मंदिर में स्थापित प्रतिमा शक्ति मां की कृपा से प्रकट हुई स्वयंभू प्रतिमा बताई जाती है। मां शाकंभरी को चौहान वंश की कुलदेवी भी माना जाता है। सांभर में की जाने वाली कोई भी पूजा मां के आशीर्वाद के बिना नहीं होती है। मान्यता है कि हर शुभ कार्य को करने से पहले मां का आशीर्वाद लिया जाता है।

ऐसे हुई थी सांभर झील की उत्पत्ति

इस निर्जन स्थान में जड़ी-बूटी की उत्पत्ति माता की तपस्या के कारण हुई थी। ऐसे में ऋषि-मुनि यह देखने पहुंचे थे। शाकम्भरी नाम शाक पर आधारित तपस्या के कारण पड़ा। इस तपस्या के बाद यह स्थान हरा-भरा हो गया। कीमती धातुएँ पृथ्वी में प्रमुख हो गईं। समृद्धि के साथ-साथ इस प्राकृतिक सम्पदा पर संघर्ष भी आया। तब यहां की मां ने यहां की बेशकीमती दौलत और बेशकीमती खजाने को नमक में तब्दील कर दिया।

Shakambari Mata Temple Sambhar Photos

वर्तमान में लगभग 90 वर्ग मील में एक नमक की झील है। कई साल पहले यह और भी व्यापक था। चौहान काल में सांभर तथा उसके निकटवर्ती क्षेत्र को सपादलक्ष (सवा लाख जनसंख्या, सवा लाख ग्राम अथवा सवा लाख राजस्व संग्रहण क्षेत्र) कहा जाता था। एक अन्य कथा के अनुसार यहां राजा ययाति ने शुक्राचार्य की पुत्री देवयानी और शर्मिष्ठा से विवाह किया था।

Other Temples of Shakambhari Devi – शाकंभरी देवी के अन्य मंदिर

Temples of Shakambhari Devi

सकरई धाम राजस्थान:

देवी का मुख्य शक्तिपीठ सहारनपुर, यूपी में स्थित है, शेष दो मुख्य मंदिर राजस्थान में हैं। जिसमें एक सकरई धाम है जो अरावली पहाड़ियों में सीकर जिले में स्थित है। सैकड़ों साल पहले स्थापित इस मंदिर में ब्राह्मणी और मां रुद्रानी की मूर्तियां विराजमान हैं। सिद्ध पीठ होने के कारण यह मंदिर देश भर के भक्तों के बीच लोकप्रिय है।

सांभर धाम:

यह शाकंभरी देवी का तीसरा मुख्य धाम है, जो जयपुर के पास सांभर झील में एक पहाड़ी पर स्थित है। इस मंदिर का निर्माण पृथ्वीराज चौहान के समय में हुआ था।

यह पीठ लगभग ढाई हजार साल पुराना माना जाता है, लेकिन यहां के मंदिर का निर्माण सातवीं या आठवीं शताब्दी में हुआ था। ऐसा माना जाता है कि देवी शाकंभरी की कृपा से यहां की भूमि से चांदी का उत्पादन शुरू हुआ, लेकिन जब लोगों ने चांदी के लिए लड़ाई शुरू की तो देवी ने इसे नमक में बदल दिया। आज सांभर देश की खारे पानी की झील है।

अन्य मंदिर:

देश भर में शाकंभरी देवी माता के कुछ अन्य लोकप्रिय मंदिर हैं। जिनमें उत्तराखंड के त्रियुगीनारायण, नगेवाड़ा, कटक, हरिद्वार, कुरालसी, शाहबाद और कांधला के लोकप्रिय मंदिर हैं। मां बनशंकरी देवी का मंदिर कर्नाटक राज्य के बागलकोट जिले में स्थित है, जिसे शाकंभरी देवी का ही एक रूप माना जाता है।

Shakambari Mata Temple Sambhar Photos

शाकम्बरी माता मंदिर सांभर कैसे पहुंचे – How To Reach Shakambari Mata Temple Sambhar

सांभर कस्बे से शाकम्भरी माता के मन्दिर की दूरी करीब 15 किलोमीटर है। सांभर ​जयपुर से करीब 70 किलोमीटर है। जयपुर में सांगानेर हवाई अड्डा सांभर से करीब 90 किलोमीटर, बस स्टैंड और रेल्वे स्टेशन करीब 70 किलोमीटर है। जयपुर से सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है। सांभर में रेलवे स्टेशन है जो जयपुर, अजमेर, नागौर आदि शहरों से जुड़ा है।

Shakambari Mata Temple Sambhar Timing – शाकंभरी माता मंदिर सांभर का समय

  • 6.00 A.M TO 9.30 P.M DAILY

OTHER BLOG – https://ganeshoffical.com/shakambhari-mata-temple-sambhar-history-of-rajasthan/

Shakambari Mata Temple Sambhar Photos – Shakambari Mata Temple Sambhar Images

Taga

shakambari mata mandir,shakambari mata sambhar,shakambari mata temple,shakambari mata to jaipur,shakambari mata dwar,shakambari mata kuldevi,shakambari mata mandir udaipurwati,shakambari mata kha h,shakambari mata mandir timings,shakambari mata mandir kha h,shakambari mata jhunjhunu,shakambari mata photo,shakambari mata mandir sikar,shakambari mata udaipurwati,shakambari mata aarti,

shakambari mata sambhar lake,shakambari mata sambhar,shakambari mata mandir sambhar,shakambari mata temple sambhar rajasthan, shakambari mata temple sambhar rajasthan,shakambari mata mandir sambhar,shakambari mata mandir timings,chatushrungi mata temple timings,sundha mata temple timings,mata no madh temple timings,parvathamalai temple opening time,

sambhar lake jaipur,sambhar lake distance,sambhar lake resort,sambhar lake town railway station,sambhar lake in which district,sambhar lake camping,sambhar lake palace,sambhar lake festival,sambhar lake timings,sambhar lake to jaipur train,sambhar lake kha hai,sambhar lake news,sambhar lake to jaipur distance by train,sambhar lake hotel,sambhar lake train,


Leave a Comment

जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य