मणिकरण साहिब जहां भगवान शिव ने अपनी तीसरी आंख खोली थी: Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi

Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi:- यहां भगवान शिव ने अपनी तीसरी आंख खोली थी, शेषनाग की दहाड़ से यहां का पानी आज भी उबलता है। मणिकर्ण के संबंध में कहा जाता है कि भगवान शिव ने यहां अपनी तीसरी आंख खोली थी। Manikaran Himachal Pradesh में कुल्लू से 45 किमी दूर है… हिंदू धर्म में भगवान शिव को त्रिदेवों में गिना जाता है।

कसोल भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य में कुल्लू जिले का एक गाँव है। यह भुंतर और मणिकरण के बीच, पार्वती नदी के तट पर, पार्वती घाटी में स्थित है। यह भुंतर से 30 किमी और मणिकरण से 3.5 किमी दूर स्थित है। कसोल बैकपैकर्स के लिए एक हिमालयी हॉटस्पॉट है। और मलाणा और खीरगंगा के नजदीकी ट्रेक के लिए आधार के रूप में कार्य करता है। यहां इजरायली पर्यटकों का प्रतिशत अधिक होने के कारण इसे भारत का मिनी इजरायल कहा जाता है।

Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi

Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi – श्री मणिकरण साहिब कसोल यात्रा की जानकारी

मणिकरण एक तीर्थ स्थल है जो हिंदुओं के लिए पवित्र स्थान माना जाता है। यहां कई मंदिरों और गुरुओं की मौजूदगी के कारण यह एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल बन जाता है। यहां आपको गर्म पानी के झरने भी देखने को मिलेंगे। Manikaran Parvati Valley में मौजूद है. यहां के गर्म झरने, धार्मिक प्रवृत्तियां और खूबसूरत वातावरण पर्यटकों को काफी आकर्षित करते हैं। मणिकरण साहिब में मंदिरों और गुरुद्वारों की संख्या इस स्थान को एक धार्मिक स्थान बनाती है। मणिकरण साहिब गुरुद्वारा सिखों और हिंदुओं दोनों द्वारा पवित्र माना जाता है। हर धर्म की मान्यताओं के पीछे अपने-अपने कारण होते हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

हिंदुओं का मानना है कि भगवान शिव और देवी पार्वती यहां लगभग 1100 वर्षों तक रहे थे और सिखों के अनुसार, गुरु नानक जी ने यहां कई चमत्कार किए थे। मणिकरण साहिब कुल्लू का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है। इस गुरुद्वारे का उल्लेख जियान सिख द्वारा लिखित ‘बारहवें गुरु खालसा’ में भी किया गया है। अगर आप मणिकरण साहिब के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं तो इस Blog को जरूर पढ़ें, इसमें हम आपको मणिकरण घूमने और इसके आसपास के प्रमुख पर्यटन स्थलों (Major Tourist Places Around Manikaran Sahib) के बारे में जानकारी बताने जा रहे हैं।

Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi

History, Stories And Mythology Behind The Existence of Manikaran – मणिकरण के अस्तित्व के पीछे का इतिहास, कहानियाँ और पौराणिक कथाएँ

मणिकरण जैसे नाम से पता चलता है कि यह मणि या मणि से बना है। इस स्थान पर, भगवान शिव और उनकी पत्नी देवी पार्वती इस स्थान की सुंदरता से मोहित हो गए और 1100 वर्षों तक यहां रहे। जब वह यहां रह रहे थे, देवी पार्वती ने मणि को धारा में खो दिया और इसके बारे में चिंतित थीं। शेषनाग ने मणि निगल ली थी जिसके परिणामस्वरूप इससे भगवान शिव क्रोधित हो गए और उन्होंने अपनी तीसरी आंख खोल दी, जिससे माता नैना देवी नामक शक्ति का जन्म हुआ।

माता नैना देवी ने भगवान शिव को बताया कि उनकी मणि पाताल में शेषनाग के पास है। देवताओं की प्रार्थना पर शेषनाग ने मणि तो वापस कर दी लेकिन वे इतने क्रोधित थे कि उन्होंने जोर से फुफकार मारी जिससे इस स्थान पर गर्म पानी की धारा फूट पड़ी। तभी से इस स्थान का नाम मणिकर्ण पड़ा। शेष नाग ने उबलते पानी और गर्म झरनों को जन्म दिया और पार्वती के रत्नों के समान रत्न पूरे पानी में फैल गए, जिसके बाद इस स्थान का नाम मणिकर्ण पड़ा।

Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi, Tourist Place in Kasol in Hindi, Places To Visit In Manikaran In Hindi, Stories And Mythology Behind The Existence of Manikaran, Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi,

सिखों के अनुसार, सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक जी 1574 में तीसरे ओडिशा के दौरान अपने अनुयायी भाई मर्दाना के साथ यहां आए थे। मणिकरण साहिब गुरुद्वारा किसी चमत्कारी तीर्थ स्थल से कम नहीं है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस गुरुद्वारे का पानी बर्फीली ठंड में भी उबलता रहता है। गुरुद्वारा मणिकरण साहिब गुरु नानक देव जी की यहां यात्रा की याद में बनाया गया है। ऐसा कहा जाता है कि यह पहला स्थान है जहां गुरु नानक देव जी ने ध्यान किया और महान चमत्कार किये। उनका शिष्य मरदाना भूखा था लेकिन उसके पास भोजन नहीं था। इसलिए गुरु नानक जी ने उसे लंगर के लिए खाना इकट्ठा करने के लिए भेजा।

लोगों ने रोटियां बनाने के लिए आटा दान किया. सामान होते हुए भी आग न होने के कारण वे भोजन नहीं बना पा रहे थे। इसके बाद गुरु नानक देव जी ने मरदाना को एक पत्थर उठाने को कहा और जैसे ही उसने ऐसा किया, वहां से गर्म पानी का एक गिलास निकला। इस गिलास का उबलता पानी आज भी गुरुद्वारे में रोटी, चावल, दाल आदि पकाने के लिए उपयोग किया जाता है।

Best Time To Visit Manikaran Sahib In Hindi – मणिकरण साहिब जाने के लिए सबसे अच्छा समय

मणिकरण शहर हिमाचल प्रदेश में समुद्र तल से लगभग 1760 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ऊंचाई पर स्थित होने के कारण यहां का मौसम साल भर बहुत ठंडा रहता है और औसत तापमान 10 डिग्री रहता है। कई पर्यटक ठंड से बचने के लिए गर्मी के मौसम (अप्रैल-जून) के दौरान आना पसंद करते हैं। मणिकरण अपने प्राकृतिक गर्म झरनों के लिए भी प्रसिद्ध है जो शहर के चारों ओर फैले हुए हैं जो इस क्षेत्र को कुल्लू का एक प्रमुख पर्यटन स्थल बनाते हैं। सर्दियों के मौसम में मणिकर्ण में बहुत ठंड होती है। इस मौसम में कई लोग घूमना भी पसंद करते हैं.

Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi, Tourist Place in Kasol in Hindi, Places To Visit In Manikaran In Hindi, Stories And Mythology Behind The Existence of Manikaran, Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi,

Places To Visit In Manikaran In Hindi – मणिकरण के पास के प्रमुख पर्यटन स्थल

खीरगंगा – Khirganga In Hindi

Khirganga In Hindi

खीरगंगा मणिकर्ण से लगभग 22 कि.मी. दूर स्थित हैै। यहां के इलाके घने जंगल, कैंपिंग, नेचर वॉकिंग और माऊंटेन क्लाइंबिंग व ट्रैकिंग के लिए बेहद खास हैं। हरे-भरे जंगलों के बीच से सूर्यास्त और ट्रैकिंग के अविश्वसनीय दृश्यों का अनुभव बेहद खास होता है।

तीर्थन घाटी – Tirthan Valley In Hindi

Tirthan Valley In Hindi

तीर्थन घाटी कुल्लू में घूमने के लिए एक अच्छी जगह (A good place to visit in Kullu) है। जो लोग शांति की तलाश में हैं वे तीर्थन घाटी की यात्रा कर सकते हैं। बहती नदियाँ, हरी-भरी घाटियाँ और झीलें तीर्थन घाटी ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के बफर ज़ोन में स्थित है। तीर्थन घाटी साहसिक गतिविधियों से समृद्ध है और प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग है। पर्यटक यहां ट्राउट मछली पकड़ने/रैपलिंग/रॉक क्लाइंबिंग का आनंद ले सकते हैं। मणिकर्ण से तीर्थन घाटी की दूरी 83 किलोमीटर है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

महादेव मंदिर – Bijli Mahadev Temple In Hindi

Bijli Mahadev Temple In Hindi

बिजली महादेव मंदिर कुल्लू का एक प्रमुख मंदिर है जो ‘काश’ शैली में बना है। इस मंदिर में एक शिव लिंगम स्थापित है। पारबती, गरसा, भुंतर और कुल्लू घाटियों से घिरा चमत्कारों और रहस्यों से भरा यह मंदिर एक पहाड़ी पर स्थित है। पहाड़ी के नीचे एक छोटा सा गांव है और इसका नाम बिजली महादेव के नाम पर रखा गया है। बिजली महादेव मंदिर का नाम यहां हुए चमत्कार के नाम पर पड़ा।

यहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि हर 12 साल में इस मंदिर के अंदर रखे शिवलिंग पर बिजली गिरती है और यह शिवलिंग कई टुकड़ों में टूट जाता है। इसके बाद मंदिर का पुजारी मक्खन की सहायता से शिवलिंग को जोड़ देता है और कुछ समय बाद यह शिवलिंग अपने पुराने स्वरूप में आ जाता है। मणिकर्ण से बिजली महादेव मंदिर की दूरी 39 किलोमीटर है।

कैसरधर – Kais Dhar In Hindi

Kais Dhar In Hindi

कैसरधर कुल्लू घाटी का एक प्रमुख और आकर्षक पिकनिक स्थल है, जो चारों तरफ ऊंचे देवदार के पेड़ों से घिरा हुआ है। कैसरधर कुल्लू से लगभग 15 किमी दूर खजियार में स्थित है, जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। कैसरधर प्रकृति की गोद में कुछ समय बिताने के लिए एक अच्छी जगह है। यह स्थान आस-पास की घाटी और गाँव का शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है। कैसरधार एक बेहतरीन ट्रैकिंग स्थल है जो देवदार और नीले देवदार के जंगलों से होकर गुजरता है। कैसरधार मणिकर्ण से 53 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

भृगु झील – Bhrigu Lake In Hindi

Bhrigu Lake In Hindi

भृगु झील मनाली का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है, जिसका नाम ऋषि भृगु के नाम पर रखा गया है, जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने इस झील के पास तपस्या की थी। इस झील को एक प्राचीन लोककथा के कारण ‘देवताओं का तालाब’ भी कहा जाता है, जिसमें कहा गया है कि देवताओं ने इसके पवित्र जल में डुबकी लगाई थी। यहां के स्थानीय लोगों का मानना है कि इसी वजह से यह झील कभी पूरी तरह नहीं जमती। भृगु झील रोहतांग दर्रे के पूर्व में स्थित है और गुलाबा गाँव से 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। भृगु झील मणिकरण से 92 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

नग्गर – Naggar In Hindi

naggar castle ghumne ki jankari

नग्गर हिमाचल प्रदेश राज्य के कुल्लू जिले में स्थित है। यह एक छोटा सा शहर है जो अपनी आश्चर्यजनक प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। यह पर्यटन स्थल उन लोगों के लिए बेहद खास जगह है जो प्रकृति की गोद में आराम करना चाहते हैं। आप नग्गर में ट्रैकिंग और कैंपिंग का भी आनंद ले सकते हैं। आपको बता दें कि नग्गर में एक महल भी स्थित है जिसे अब एक लक्जरी होटल में बदल दिया गया है, जहां कोई भी जा सकता है। इसके अलावा, नग्गर में एक लोक कला संग्रहालय और एक गर्म पानी का झरना है, जिसे पर्यटकों को अवश्य देखना चाहिए। मणिकर्ण से नग्गर की दूरी 62 किलोमीटर है।

पार्वती घाटी ट्रेक – Parvati Valley Trek In Hindi

Parvati Valley Trek In Hindi

पार्वती वैली ट्रेक को हिमालय क्षेत्र में सबसे चुनौतीपूर्ण ट्रेक में से एक माना जाता है, जो रोमांच चाहने वालों के लिए बिल्कुल उपयुक्त है। यहां के मनमोहक दृश्य आपको अपनी सुंदरता से मंत्रमुग्ध कर देंगे। पार्वती घाटी ट्रेक काफी लंबा और काफी आश्चर्यजनक है लेकिन यह बिल्कुल शानदार है। जैसे-जैसे ऊंचाई बढ़ेगी, आसपास के घने जंगल, हरे-भरे घास के मैदान और नदियाँ अपने आकर्षण से आपका मन मोह लेंगी। हिमालय पास ट्रेक के बाद पार्वती वैली ट्रेक सबसे अधिक पसंद किये जाने वाले ट्रेक में से एक है।

How To Reach Manikaran Sahib In Hindi – मणिकरण साहिब कैसे पहुँचे?

मणिकरण का मुख्य रेलवे स्टेशन पठानकोट में है जो 300 किमी दूर है। कोई भी पर्यटक कुल्लू या मनाली से मणिकर्ण की यात्रा कर सकता है, क्योंकि दोनों एक-दूसरे के बहुत करीब हैं। पर्यटक एक शहर से दूसरे शहर जाने के लिए टैक्सियों का उपयोग कर सकते हैं। कसोल आने वाले कई पर्यटक मणिकरण भी जाना पसंद करते हैं।

मणिकरण पहुंचने के लिए पर्यटक भुंतर हवाई अड्डे से उड़ान ले सकते हैं। इस हवाई अड्डे से मणिकरण, हिमाचल प्रदेश के बीच की दूरी 34.8 किमी है। भुंतर के मणिकर्ण तक बस की सहायता से पहुंचा जा सकता है। भुंतर से मणिकरण के लिए कई स्थानीय बसें उपलब्ध हैं। निकटतम प्रमुख हवाई अड्डा चंडीगढ़ में है जो भुंतर से 8 घंटे की दूरी पर है।

मणिकरण स्थानीय राज्य बसों के माध्यम से भुंतर से जुड़ा हुआ है। भुंतर शिमला, पठानकोट, चंडीगढ़ और नई दिल्ली जैसे आसपास के सभी प्रमुख शहरों से सड़कों द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इसके साथ ही आसपास के सभी इलाकों से टैक्सियां भी आसानी से मिल जाती हैं।

मणिकर्ण का अपना कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। निकटतम प्रमुख स्टेशन पठानकोट स्टेशन, पंजाब है जहाँ जम्मू मेल, रवि एक्सप्रेस और धौलाधार एक्सप्रेस पठानकोट तक चलती हैं। पठानकोट से मणिकरण पहुंचने के लिए आपको लगभग 300 किमी की दूरी के साथ सड़क मार्ग से 8 घंटे लगेंगे। पठानकोट से मणिकरण पहुंचने का सबसे अच्छा तरीका टैक्सी बुक करना या भुंतर तक बस लेना और फिर वहां से स्थानीय बस लेना है।

Manikaran Stock Photos, Images & Pictures

Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi, Tourist Place in Kasol in Hindi, Places To Visit In Manikaran In Hindi, Stories And Mythology Behind The Existence of Manikaran, Shri Manikaran Sahib Kasol Travel Info In Hindi, Manikaran Stock Photos, Images & Pictures


Leave a Comment

गर्मी की छुट्टियों में घूमने का ले भरपूर मजा इन खूबसूरत हिल स्टेशन पर इस गर्मी जयपुर में एन्जॉय करने के लिए बेस्ट वाटर पार्क 2024 चिलचिलाती गर्मी में कूल वाइब्स के लिए घूम आएं इन ठंडी जगहों पर जयपुर के न्यू हवाई-जहाज वॉटर पार्क के टिकट में बड़ा बदलाव, जानिए जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी