फूलों की घाटी का रहस्य और घूमने की जानकारी 2023: Valley Of Flowers Uttarakhand History In Hindi

Valley Of Flowers Uttarakhand History In Hindi:- मेरे प्रिय पाठक, आपको हमारे इस नए ब्लॉग में बहुत बहुत आभार और नमस्कार। इस ब्लॉग में हम फूलों की घाटी यानि की Valley Of Flowers के अद्भुद रहस्य और इतिहास के बारे में पूरी जानकारी देंगे, इसलिए आपसे अनुरोध है कि इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें।

हमारे देश में घूमने की कई खास जगहें हैं, जिनमें फूलों की घाटी भी शामिल है। फूलों की घाटी को अंग्रेजी में Valley of Flowers के नाम से जाना जाता है। Valley of Flowers Trek हिमालय में भारत के सबसे लोकप्रिय ट्रेक में से एक है। जो लोग कभी हिमालय नहीं गए उन लोगों ने भी इस ट्रेक का नाम जरूर सुना होगा।

Valley Of Flowers Uttarakhand History In Hindi
Contents show

Valley Of Flowers Opening Dates 2023 – वैली ऑफ फ्लावर्स के खुलने की तारीखें 2023

फूलों की घाटी 1 जून 2023 को ओपन हो गयी है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

यह उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है। Phulo Ki Ghati को यूनेस्को के वर्ल्ड हेरिटेज साइड में भी शामिल है, जिससे आप समझ सकते हैं कि यह जगह कितनी खास है। यह पूरी तरह से प्राकृतिक घाटी है, Valley Of Flowers हर साल मई या जून में खुलती है और लगभग अक्टूबर-नवंबर तक खुली रहती है।

फूलों की घाटी अपनी उत्कृष्ट प्राकृतिक सुंदरता, लुप्तप्राय जानवरों और स्थानिक अल्पाइन फूलों के लिए प्रसिद्ध है। यह घाटी भारत के राष्ट्रीय उद्यान की श्रेणी में आती है। यह लगभग 88 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है।

Valley of Flowers Uttarakhand in Hindi –  फूलों की घाटी उत्तराखंड

फूलों की घाटी Most Famous Tourist Places Of Uttarakhand में से एक है। यह मुख्य रूप से उत्तराखंड का एक National Park है, जहाँ मानसून के महीने में फूलों की 500 – 600 के करीब फूलो की प्रजातियाँ देखी जाती हैं। अगर आप भी यहां आने का प्लान कर रहे हैं तो मानसून के समय में ही जाएं, ताकि आप यहां ज्यादा से ज्यादा फूल देख सकें।

वैली ट्रेक के फूल धरती पर स्वर्ग का अहसास कराते हैं। लेकिन Valley of Flowers की प्रसिद्धि और लोकप्रियता के पीछे एक ठोस कारण है – फूलों की घाटी ट्रेक Oldest and Popular Treks in India में से एक है।

1980 में, भारत सरकार ने Valley Of Flowers National Park बनाया और बाद में 2002 में इसे यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रूप में मान्यता दी गई। इसने दुनिया भर के ट्रेकर्स की सूची में फूलों की घाटी को भी जोड़ा। फूलों की घाटी Most Searched Places in Uttarakhand में से एक है। यह खूबसूरत घाटी लगभग 8-10 किलोमीटर तक फैली हुई है,

जब आप फूलों की इस घाटी में प्रवेश करेंगे तो यहां की खूबसूरती देखकर दंग रह जाएंगे, इस ब्लॉग में जो तस्वीरें आप देख रहे हैं उससे कहीं ज्यादा खूबसूरत यह घाटी है।

Valley Of Flowers Uttarakhand History In Hindi

Secret of the Valley of Flowers In Hindi – फुलों की घाटी का रहस्य

पूरे भारत और दुनिया में उत्तराखंड यहां स्थित तीर्थ स्थलों की वजह से ज्यादा मशहूर है। (Kedarnath, Badrinath, Chhota Chardham, Panch Kedar Temple) इसलिए इसे देवभूमि भी कहा जाता है। लेकिन हिमालय में स्थित होने के कारण इस राज्य का वन्य जीवन और वानस्पतिक विविधता साल भर देश-विदेश के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है।

  • उत्तराखंड में कुल 06 राष्ट्रीय उद्यान हैं, जिनमें से सबसे छोटा और सबसे सुंदर राष्ट्रीय उद्यान फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान है, जिसका क्षेत्रफल केवल 87.50 वर्ग किलोमीटर (08 किलोमीटर लंबा और 02 किलोमीटर चौड़ा) है। फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना 06 सितंबर 1982 को समुद्र तल से 3352 मीटर (10997.38 फीट) से लगभग 3658 मीटर (12001.31 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है।
  • और वर्ष 2005 में इस राष्ट्रीय उद्यान को नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान में शामिल कर यूनेस्को विश्व विरासत स्थल का दर्जा दिया गया। अब ऐसा नहीं है कि यह छोटा सा राष्ट्रीय उद्यान यहां पाए जाने वाले वन्य जीवों के लिए अधिक प्रसिद्ध है, बल्कि यह राष्ट्रीय उद्यान यहां पाए जाने वाले फूलों की 500 से अधिक प्रजातियों के लिए अधिक प्रसिद्ध है।
  • और इन सभी फूलों की प्रजातियों में कुछ ऐसे फूलों की प्रजातियों का उपयोग स्थानीय निवासियों द्वारा धार्मिक कार्यों में किया जाता है, जैसे कि ब्रह्मकमल, जो समुद्र तल से केवल 3500 मीटर (11482.94 फीट) की ऊंचाई पर पाया जाता है। इसके अलावा इस राष्ट्रीय उद्यान में जहां हिम तेंदुआ, कस्तूरी मृग, एशियाई काला भालू, भूरा भालू और नीली भेड़ जैसे वन्यजीव मुख्य रूप से पाए जाते हैं वहीं हिमालयी मोनाल तीतर पक्षियों में मुख्य रूप से पाए जाते हैं।
  • Valley Of Flower National Park सर्वाधिक ऊंचाई पर स्थित होने के कारण वर्ष में केवल जून माह से अक्टूबर माह तक ही खुला रहता है। महीने के बाकी दिनों में भारी बर्फबारी के कारण राष्ट्रीय उद्यान पर्यटकों के लिए बंद रहता है।
Valley of Flowers Uttarakhand in Hindi

Valley Of Flowers Uttarakhand History In Hindi – फूलों की घाटी का इतिहास

Valley Of Flowers Uttarakhand History In Hindi – 1931 में, कुछ ब्रिटिश पर्वतारोही फ्रैंक एस. स्मिथ, आरएल होल्ड्सवर्थ और एरिक शिप्टन, माउंट कामेट के एक सफल अभियान से लौटते समय रास्ता भटक गए और फूलों से भरी एक घाटी में पहुँच गए। ब्रिटिश पर्वतारोहियों का यह समूह इस घाटी की सुंदरता से मंत्रमुग्ध हो जाता है और इस स्थान को “फूलों की घाटी” का नाम देते है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

बाद में इन्हीं पर्वतारोहियों में से एक फ्रैंक एस. स्मिथ ने “वैली ऑफ फ्लावर्स” नामक पुस्तक भी लिखी। इस घटना के बाद एक सदी से भी अधिक समय से फूलों की घाटी पर्वतारोहियों, पर्यटकों, वनस्पति विज्ञानियों, फोटोग्राफरों और लेखकों की सबसे पसंदीदा जगहों में से एक रही है।

अब ऐसा नहीं है कि फूलों की घाटी की खोज सिर्फ एक सदी पहले ही हुई है। स्थानीय निवासियों के अनुसार फूलों की घाटी कई सौ साल पहले से ही ऋषियों, संतों और योगियों का निवास स्थान रही है। इसके अलावा इस स्थान पर फूलों की कुछ ऐसी प्रजातियाँ पाई जाती हैं, जिनका उपयोग स्थानीय निवासी अपने घरों में धार्मिक कार्यों में करते हैं।

पौराणिक कथाओं के अनुसार रामायण युद्ध के दौरान हनुमानजी संजीवनी बूटी की तलाश में इस स्थान पर आए थे। 1931 के बाद, 1939 में, जोन मार्गरेट लेग नामक एक वनस्पतिशास्त्री को रॉयल बोटेनिक गार्डन द्वारा फूलों की घाटी में प्रजातियों का अध्ययन करने के लिए भेजा गया था। लेकिन एक चट्टान से गिरकर उसकी मौत हो जाती है।

जिसके बाद उनकी छोटी बहन फूलों की घाटी में जाती है और वहां उनके लिए एक स्मारक बनवाती है। वर्ष 1993 में भारतीय वन्यजीव संस्थान के वनस्पति विज्ञानी प्रो. चंद्र प्रकाश काला को फूलों की घाटी में पाए जाने वाले फूलों पर अध्ययन के लिए उत्तराखंड भेजा गया। इसके बाद उन्होंने फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने वाले 520 अल्पाइन पौधों की एक सूची बनाने में लगभग 10 साल बिताए।

Mythology about the Valley of Flowers – फूलों की घाटी के बारे में पौराणिक कथाएँ

स्थानीय लोग हमेशा घाटी के अस्तित्व के बारे में जानते थे और मानते थे कि यह परियों और देवताओं का निवास है। पहले यह भी माना जाता था कि एक बार जब कोई घाटी में प्रवेश करता है, तो उसे परियों द्वारा ले लिया जाता है और वह कभी वापस नहीं लौटा।

Best Tourist Places Visit in Valley of Flowers in Hindi – फूलों की घाटी में घूमने के लिए बेहतरीन पर्यटन स्थल

  • फूलों की घाटी के पास घूमने लायक बद्रीनाथ मंदिर 
  • फूलों की घाटी के पास जगह औली 
  • फूलों की घाटी के पास जगह जोशीमठ
  • फूलों की घाटी नेशनल पार्क 
  • नंदा देवी नेशनल पार्क 
  • फूलों की घाटी के पास जगह पांडुलेश्वर
  • फूलों की घाटी के पास जगह घांघरिया गाँव

Valley of Flowers Trek in Hindi

Valley of Flowers Trek भारत में हिमालय में सबसे लोकप्रिय ट्रेक में से एक है। जिन लोगों ने हिमालय में पैर भी नहीं रखा है, उन्होंने फूलों की घाटी के बारे में सुना है। लेकिन फूलों की घाटी की पौराणिक लोकप्रियता के पीछे एक ठोस कारण है – यह भारत के सबसे पुराने ज्ञात ट्रेकों में से एक है। इसमें एक दिलचस्प अंतर्दृष्टि भी शामिल है, एक कहानी है कि कैसे फूलों की घाटी और हेमकुंड साहिब की ट्रेकिंग के बाद हिमालयी ट्रेक से प्यार हो सकता है। हाँ, यह हो सकता है।

इस जगह की खूबसूरती को शब्दों में बयां करना बहुत मुश्किल है, इसे आपको खुद अनुभव करना होगा और यह आपके जीवन के सबसे खूबसूरत अनुभवों में से एक होगा। इसकी तुलना किसी और से करना बहुत मुश्किल होगा, इस खूबसूरत घाटी में आपको तरह-तरह के फूल, लाल फूल, पीले फूल, गुलाबी फूल देखने को मिलेंगे, यह सब फूलों की घाटी में अपने आप में एक खूबसूरत नजारा है।

Valley of Flowers Trek in Hindi

Best Time to visit Valley Of Flowers In Uttarakhand In Hindi – फूलों की घाटी जाने का सबसे अच्छा समय

फूलों की घाटी घूमने के लिए मानसून के महीने यानी जुलाई, अगस्त और सितंबर सबसे अच्छे माने जाते हैं। इन महीनों के दौरान इस घाटी में जाने पर फूलों की 500 से अधिक प्रजातियों को देखा जा सकता है। यही कारण है कि यह घाटी दुनिया भर के बागवानों और फूल प्रेमियों के लिए एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल बन गई है। फूलों की इस घाटी में सितंबर के महीने में ब्रह्म कमल खिलता है, जो बहुतों को देखने को नहीं मिलता।

कुल मिलाकर यह राष्ट्रीय उद्यान वर्ष में केवल 05 माह ही पर्यटकों के लिए खुला रहता है, शेष 07 माह यह राष्ट्रीय उद्यान यहाँ हिमपात के कारण पर्यटकों के लिए बंद रहता है।

मई के अंत में जब इस राष्ट्रीय उद्यान में बर्फ पिघलने लगती है। और उसके बाद जून के महीने में यहां धीरे-धीरे नए फूल खिलने लगते हैं। और जुलाई आते-आते ये फूल पूरी तरह खिल जाते हैं, जिससे यह घाटी किसी जन्नत से कम नहीं लगती। और ऐसा ही आसमानी नजारा आपको अगस्त और सितंबर के महीने में भी देखने को मिलता है।

लेकिन सितंबर के अंत तक यहां ठंड पड़ने लगती है और अक्टूबर में बर्फबारी भी शुरू हो जाती है। जिससे स्वर्ग जैसी दिखने वाली घाटी एक बार फिर बर्फ की चादर से ढक जाती है। इसलिए जब आप फूलों की घाटी घूमने जाते हैं तो जुलाई से सितंबर का महीना आपके लिए सबसे अच्छा माना जाता है। साल के बाकी दिनों में यहां बारिश होती है और भूस्खलन की भी आशंका रहती है।

Best Time to visit Valley Of Flowers In Uttarakhand In Hindi

What can be seen in the Valley of Flowers – फूलों की घाटी में क्या-क्या देखने को मिल सकता है ?

सर्वे के दौरान वैज्ञानिकों ने पाया कि फूलों की पांच ऐसी प्रजातियां हैं जिनके बारे में आज तक पता नहीं चल पाया है। यहां किए गए सर्वेक्षण के अनुसार, फूलों की घाटी में पाए जाने वाले फूलों की अधिकांश प्रजातियां पोस्ता, गेंदा, ऑर्किड, प्रिमुला, डेज़ी और एनीमोन हैं। इसके अलावा, पार्क का उप-अल्पाइन वन क्षेत्र बर्च और रोडोडेंड्रोन से युक्त वनस्पति से आच्छादित है।

घाटी बर्फ से ढके पहाड़ों से घिरी हुई है, जिसमें फूलों की 500 से अधिक प्रजातियों को देखा जा सकता है। यह क्षेत्र एशियाई काले भालू, कस्तूरी मृग, हिम तेंदुआ, भूरा भालू और लाल लोमड़ी जैसे कई लुप्तप्राय जानवरों का भी घर है।

Valley of Flowers Entry Fee – फूलों की घाटी में जाने के लिए प्रवेश शुल्क कितना लगता है ?

यहां फूलों की घाटी में प्रवेश के लिए परमिट बनवाया जाता है। यह टिकट काउंटर सुबह 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक खुलता है। उसके बाद फूलों की घाटी में जाने की मनाही है। यह टिकट भारतीयों के लिए ₹150 और विदेशी नागरिकों के लिए ₹650 है।

फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान का प्रवेश टिकट 03 दिनों के लिए वैध है। इसके लिए भारतीय पर्यटकों को 50/- रुपये अतिरिक्त और विदेशी पर्यटकों को 250/- रुपये अतिरिक्त देने होंगे।

प्रोफेशनल कैमरों के लिए, भारतीय पर्यटकों को प्रति दिन 500/- और विदेशी पर्यटकों को प्रति दिन 1500/- रुपये का भुगतान करना पड़ता है।

Valley Of Flower Opening Time in Hindi – फूलों की घाटी प्रवेश का समय

फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान साल में केवल 05 महीने ही पर्यटकों के लिए खुला रहता है। बाकी समय यह पार्क बर्फबारी के कारण पर्यटकों के लिए बंद रहता है। वर्ष के इन महीनों में पर्यटक प्रात: 08:00 बजे से सायं 05:00 बजे तक पर्यटक पार्क में भ्रमण कर सकते हैं। पार्क में रात की अनुमति नहीं है।

Valley of Flowers Entry Fee

Hotels in Valley Of Flowers In Hindi – फूलों की घाटी में ठहरने की व्यवस्था

फूलों की घाटी का निकटतम शहर गोविंदघाट है जहां आपको ठहरने के लिए होम स्टे और होटल मिल जाएंगे। कुछ ऑनलाइन होटल बुकिंग वेबसाइटों की मदद से आप गोविंदघाट में अपने लिए होटल का कमरा बुक कर सकते हैं। बाकी आप चाहें तो गोविंदघाट पहुंचकर होटल में अपने लिए कमरा बुक कर सकते हैं। ट्रेक के दौरान आप घागड़िया नामक स्थान पर रात्रि विश्राम भी कर सकते हैं।

Plan a Trip to the Valley Of Flowers in Uttarakhand – उत्तराखंड में फूलों की घाटी की यात्रा की योजना

वैली ऑफ फ्लावर्स के टूर प्लान की शुरुआत जोशी मठ से होगी। आप सबसे पहले सुबह 5:00 से 6:00 या 7:00 बजे तक जोशी मठ के लिए निकल जाएं। जोशी मठ से गोविंद घाट की दूरी करीब 12 किलोमीटर है। और आप जीप या निजी टैक्सी साझा करके जा सकते हैं और गोविंद घाट पहुंचकर आपकी ट्रेकिंग शुरू हो जाएगी। फूलों की घाटी सुबह लगभग 7:00 या 8:00 बजे खुलती है। आप अपने होटल से निकलने के बाद इस जगह को अच्छी तरह से एक्सप्लोर कर सकते हैं।

वैली ऑफ फ्लावर्स में जाने के लिए अपने साथ खाने-पीने की चीजें ले जाना बेहद जरूरी है। क्योंकि रास्ते में आपको खाने-पीने की कोई दुकान नहीं मिलेगी। आपको गर्म कपड़े रखने होंगे क्योंकि यहाँ बहुत ठंड होगी और चारों ओर बहुत बर्फ होगी।

How To Reach Valley Of Flowers In Uttarakhand In Hindi – कैसे जाएं वैली ऑफ फ्लावर्स 

वैली ऑफ फ्लावर्स जाने के लिए सबसे पहले आपको जोशी मठ पहुंचना होगा। जोशी मठ उत्तराखंड का एक छोटा सा गाँव है और यहाँ पहुँचने के लिए आपको हरिद्वार या देहरादून या ऋषिकेश से बस मिल सकती है। फूलों की घाटी से जोशीमठ की दूरी महज 20 किलोमीटर है।

हरिद्वार से जोशी मठ की दूरी लगभग 274 किमी है और आप 10 से 12 घंटे में जोशी मठ पहुंच जाएंगे, जोशी मठ पहुंचने के बाद आपको गोविंद घाट जाना होगा और उसके बाद आपको लगभग 15 किमी की यात्रा करके वैली ऑफ फ्लावर्स  तक पहुंचना होगा।

फूलों की घाटी का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून का जॉली ग्रांट है, जो जोशीमठ से लगभग 268 किमी दूर है। है। जॉली ग्रांट हवाई अड्डे तक देश के प्रमुख शहरों से उड़ानों द्वारा पहुँचा जा सकता है। जॉली ग्रांट हवाई अड्डे से जोशीमठ के लिए बस सुविधा उपलब्ध है।

फूलों की घाटी का निकटतम रेलवे स्टेशन देहरादून रेलवे स्टेशन है, जो जोशीमठ से लगभग 290 किमी दूर है। है। देश के किसी भी बड़े शहर से देहरादून के लिए ट्रेन की सुविधा उपलब्ध है। बिना किसी परेशानी के बस द्वारा देहरादून से जोशीमठ पहुंचा जा सकता है।

How To Reach Valley Of Flowers In Uttarakhand In Hindi

जोशीमठ से फूलों की घाटी कैसे पहुंचे ?

जोशीमठ पहुंचने के बाद फूलों की घाटी जाने के लिए सबसे पहले आपको बस या शेयर टैक्सी से गोविंद घाट (20 किमी) और गोविंद घाट से 4 किमी दूर आना होगा। आगे घांघरिया (13 किमी) की ओर पुलना गांव आना पड़ता है, जो फूलों की घाटी का निकटतम सड़क-बिंदु है।

पुलना पहुंचने के बाद फूलों की घाटी में जाने के लिए सबसे पहले आपको घांघरिया जाना होगा, जो पुलना से करीब 9 किमी दूर है। की दूरी पर स्थित है। फूलों की घाटी घांघरिया से लगभग 1.5-2 किमी दूर है। यह पुलना से फूलों की घाटी तक 10.5-11 किमी की दूरी पर स्थित है। यह दूरी आपको पैदल ट्रेकिंग करके तय करनी होगी।

घांघरिया से करीब 6 किमी. श्री हेमकुंड साहिब 1000 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जिसे आप फूलों की घाटी घूमने से पहले या बाद में देख सकते हैं।

मैं आपको एक दिन के लिए घांघरिया गांव में रहने का सुझाव दूंगा, क्योंकि फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान घूमने के बाद रात भर रहने की सुविधा नहीं है, जिसके कारण आपको घांघरिया गांव का दौरा करने के बाद वापस आना होगा। इसलिए यदि संभव हो तो घांघरिया गांव में एक दिन रुकें और वहां से अगली सुबह Valley of Flowers Tour शुरू करें।

Valley of Flowers Photos \ Valley of Flowers Images

Valley of Flowers Photos \ Valley of Flowers Images
How To Reach Valley Of Flowers In Uttarakhand In Hindi
Valley of Flowers Photos \ Valley of Flowers Images

Valley Of Flowers Uttarakhand History In Hindi,


Leave a Comment

गर्मी की छुट्टियों में घूमने का ले भरपूर मजा इन खूबसूरत हिल स्टेशन पर इस गर्मी जयपुर में एन्जॉय करने के लिए बेस्ट वाटर पार्क 2024 चिलचिलाती गर्मी में कूल वाइब्स के लिए घूम आएं इन ठंडी जगहों पर जयपुर के न्यू हवाई-जहाज वॉटर पार्क के टिकट में बड़ा बदलाव, जानिए जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी