श्री दादू पालका भेराणा धाम मंदिर जानकारी: Dadu Palka Bherana Dham Akoda Rajasthan:

Dadu Palka Bherana Dham Akoda Rajasthan: भारत देश अनादि काल से विश्व गुरु की उपाधि धारण करता आ रहा है। इसका प्रमुख कारण इस पवित्र भूमि पर संतों का आगमन होता रहा है। अनेक ऋषि-मुनियों ने भारत में जन्म लेकर भारत की धारा को पवित्र किया। इसीलिए भारत को सोने की चिड़िया के साथ-साथ विश्व गुरु भी कहा जाता है। संतों की कृपा से यहां जो शास्त्र, पुराण, ज्ञान के भण्डार बने हैं, वे अद्वितीय हैं।

भारत खंड आज साधु-संतों के उपकार को कभी नहीं भूल सकता। आज इस लेख में हम ऐसे ही एक महान संत श्री दादू जी महाराज के बारे में चर्चा करने जा रहे हैं। दोस्तों आज आप इस लेख में संत श्री दादू जी महाराज के जीवन परिचय की पूरी चर्चा पढ़ने वाले हैं। इस लेख के माध्यम से आपको विशेष जानकारी देने का प्रयास किया जा रहा है।

Dadu Palka Bherana Dham Akoda Rajasthan

Dadu Palka Bherana Dham Akoda Rajasthan – श्री दादू पालका भेराणा धाम मंदिर

जयपुर-अजमेर राजमार्ग पर जयपुर शहर से 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दादू पालका अपने आप में एक अनूठा तीर्थ स्थल है। वर्षों पूर्व प्रसिद्ध संत श्री दादू जी ने इसी स्थान पर ब्रह्मलीन को प्राप्त किया था। अपने शरीर को छोड़ने से पहले, उन्होंने अपने अनुयायियों से भैराना पर्वत की खोल में अपना शरीर छोड़ने के लिए कहा। तब से यह स्थान दादू वाणी मंदिर असंख्य संतों की तपस्या से पवित्र हो गया है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

Dadu Palka Dham Bherana – दादू वाणी मंदिर प्रमुख तीर्थ स्थल

Dadu Palka Dham

यहां दादू वाणी मंदिर, गुफा मंदिर और दादू खोल प्रमुख तीर्थ स्थल हैं। मान्यता के अनुसार दादू संप्रदाय के अनुयायी शरीर को छोड़ने के बाद उसे जलाने या दफनाने के बजाय दादू पालका स्थित भैराना पर्वत पर छोड़ देते हैं। यह प्रथा प्राचीन काल से निरन्तर चली आ रही है। दादू संप्रदाय के लोग इस स्थान को दादू पालका या मुक्ति धाम के नाम से भी जानते हैं। दादू पालका नाम इसलिए पड़ा क्योंकि संत दादूजी की पालकी को अंतिम बार इसी स्थान पर देखा गया था।

Dadu Palka Dham Akoda Rajasthan Story

प्रचलित प्रथा के अनुसार यहां तपस्या करने वाले सभी संतों के शरीर उनके ब्रह्मलीन के बाद भैराना पर्वत पर स्थित खोल में छोड़ दिए जाते हैं। दादू संप्रदाय के संत ब्रह्मलीन होने पर यहां उत्सव के रूप में मेले लगते हैं, जिसमें देश भर से हजारों की संख्या में दादू समाज के लोग भाग लेते हैं।

Dadu Palka Dham Akoda Rajasthan Story

Dadu Palka Bherana Dham Akoda Rajasthan, दादू दयाल जी मंदिर Timing

यह सुबह 4:30 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहता है। विशेष त्योहारों और त्योहारों पर दर्शन का समय बढ़ाया जाता है।

How To Reach Dadu Palka Bherana Dham Mandir – दादू पालका भेराना धाम मंदिर कैसे पहुंचे

दादू धाम पहुंचने के लिए जयपुर से निजी बस या टैक्सी से जा सकते हैं, रास्ते में करीब दो घंटे लग सकते हैं। उसके बाद यात्री दादू धाम में ही ठहर सकेंगे। यहां यात्रियों के लिए मुफ्त भोजन और रहने की व्यवस्था है। आप बंधे का बालाजी होते हुए भी यहाँ पहुंच सकते है

लिंक

Sant Dadu Dayal Ji ki Sampurn Jivani

संत कवि दादू दयाल का जन्म फागुन सुदी, संवत 1601 (1544 ई.) के आठवें गुरुवार को हुआ था। जन्म स्थान भारत की भूमि अहमदाबाद में था। कवि संत दादू के जीवन परिचय को लेकर इतिहासकारों में भ्रम की स्थिति है। क्योंकि उनके अनुयायियों का मानना है कि संत दादू का जन्म नहीं हुआ था। वह एक छोटे बच्चे के रूप में साबरमती नदी में एक टोकरी में तैरता हुआ पाया गया था। वैसे भी उनके जन्म के रहस्य पर आज भी इतिहासकारों का पर्दा पड़ा हुआ है। राजस्थान में उनके फॉलोअर्स की संख्या ज्यादा देखी जाती है। कवि संत का अधिकांश जीवन राजस्थान के जयपुर जिले में स्थित नरेना, सांभर आदि स्थानों पर व्यतीत हुआ। इन स्थानों पर दयाल महाराज की पीठ स्थापित की गई है। दादू दयाल एक कवि थे और उन्होंने अपने जीवन काल में समाज कल्याण के लिए अनेक रचनाएँ की हैं। उनके काव्य की प्रमुख रचनाओं में सखी, पाद्य, हरदेवनी, अंगवधू शामिल हैं।

Sant Dadu Dayal Ji Ka Parichay
Dadu Palka Bherana Dham Akoda Rajasthan

दादू पेशे से धूम्रपान करने वाले थे और मुगल बादशाह शाहजहाँ (1627-58) के समकालीन थे। धीरे-धीरे उनकी रुचि धार्मिक प्रवृत्ति की ओर बढ़ने लगी। उनकी राय मूर्ति पूजा और सांसारिक रीति-रिवाजों से अलग थी। वे राम नाम जपते थे और उनका मानना था कि हम सब राम नाम के गुलाम हैं और हमें श्रीराम नाम के गुलाम ही रहना चाहिए। इसी प्रकार भक्तों में राम नाम को बहुत महत्व दिया जाता था। हम सब राम के दास हैं, इसलिए सभी संतों ने दास नाम को ही श्री दादू पंथ का प्रमुख आधार माना। दादू पंथ में जितने भी संत हुए, उनके नाम के साथ दास जुड़ते गए।

मुख्य रूप से नरेना-सांभर और भैराना धाम जहां “दादू पालका” नाम का मंदिर स्थापित है

संत दादू दयाल जी ने अपने जीवनकाल में संसार को सांसारिक रीति-रिवाजों, मूर्ति पूजा आदि को अंधविश्वास कहा था। उन्होंने विश्व कल्याण के लिए अपनी रचना गाई, इस रचना को “दादू वाणी” के नाम से जाना जाता है। सभी अनुयायी दादू वाणी को चालीसा के रूप में जपते हैं। संत दयाल महाराज द्वारा भारत में कई पीठों और मंदिरों की स्थापना की गई है। लेकिन उनकी पीठ और मंदिर राजस्थान में अधिक मिलते हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

मुख्य रूप से नरेना-सांभर और भैराना धाम जहां “दादू पालका” नाम का मंदिर स्थापित है। दयाल महाराज के सभी मंदिरों में दादू पालका धाम को ही श्रेष्ठता दी जाती है। क्योंकि दयाल महाराज ने इसी स्थान पर अंतिम सांस ली थी। यह स्थान आज पूरे भारत में एक तीर्थ के रूप में जाना जाता है। इस स्थान पर संत दयाल महाराज की अंतिम तिथि यानी पुण्यतिथि पर एक बड़ा आयोजन किया जाता है। जिसमें देश के कोने-कोने से श्रद्धालु इस शुभ अवसर का लाभ उठाते हैं।

Dadu Palka, Bhairana, Rajasthan
Dadu Palka Bherana Dham Akoda Rajasthan

Dadu Palka Bherana Dham Photos

Bherana Dham Temple Rajasthan
Dadu Palka Bhairana Dham Temple Rajasthan
Dadu Palka, Bhairana, Rajasthan
How To Reach Dadu Palka Bherana Dham Mandir
dadu palka dham akoda rajasthan

Dadu Palka Bherana Dham Akoda Rajasthan, dadu palka dham akoda, dadu palka dham, dadu palka dham akoda rajasthan, dadu palka, dadu palka Jaipur, dadu palka dham images, dadu palka dham bichoon, dadu palka dham akoda, dadu palka dham Bherana Dham Mandir,


Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन