मालपुरा के डिग्गी कल्याण जी मंदिर के दर्शन की सम्पूर्ण जानकारी: Diggi Kalyan Ji Mandir History In Hindi

Diggi Kalyan Ji Mandir History In Hindi: यह कहना गलत नहीं होगा कि भारत में मंदिरों के रहस्य अनसुलझे हैं। यहां ऐसे कई स्थान हैं, जिनकी स्थापना कब और कैसे हुई? इस प्रश्न का कोई उत्तर नहीं है। फिर चाहे वह टिटलागढ़ का शिव मंदिर हो जहां गर्म पहाड़ों पर भी एसी जैसी ठंडक रहती है। या फिर कानपुर में लगे ताले वाले मंदिर। इनके राज से आज तक पर्दा नहीं उठा है। इसी कड़ी में एक और मंदिर आता है वो है राजस्थान का डिग्गी कल्याण जी मंदिर। तो अगर आप भी धार्मिक यात्रा की योजना बना रहे हैं तो इस अद्भुत मंदिर के दर्शन करने जा सकते हैं।

Diggi Kalyan Ji को श्री कल्याण मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। Diggi Kalyan Ji Ka Mandir राजस्थान के टोंक जिले की मालपुरा तहसील के डिग्गी कस्बे में स्थित है। Diggi Kalyan Ji को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। Diggi Kalyan Ji के मंदिर का निर्माण लगभग 5600 वर्ष पूर्व उस स्थान के राजा दिग्वा ने करवाया था। Diggi Kalyan Ji का इतिहास और कहानी बहुत प्राचीन और पौराणिक है।

Diggi Kalyan Ji Mandir History In Hindi

Diggi Kalyan Ji Mandir – मालपुरा के श्री डिग्गी कल्याण मंदिर के दर्शन की पूरी जानकारी

दिग्गी कल्याण जी मंदिर राजस्थान के टोंक जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है जो हर साल बड़ी संख्या में भक्तों को आकर्षित करता है। इस मंदिर के प्रति भक्तों की आस्था इतनी प्रबल है कि भक्त नंगे पैर चलकर यहां पहुंचते हैं। मेवाड़ शासन के दौरान वर्ष 1527 में डिग्गी कल्याण जी मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया था। यह मंदिर हर साल लक्खी मेले का आयोजन करता है जिसमें जयपुर और आसपास के कई शहरों से लोग इस मंदिर के दर्शन करने और मेले में भाग लेने के लिए पैदल यात्रा करते हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

इस जगह को डिग्गीपुरी के नाम से भी जाना जाता है, हालांकि इस मंदिर में रोजाना भक्तों की भीड़ देखी जा सकती है, लेकिन हर महीने यहां पूर्णिमा को मेला लगता है, जिसमें काफी भीड़ होती है। यदि आप श्री कल्याण जी मंदिर के बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं या इस मंदिर के दर्शन करने की योजना बना रहे हैं तो हमारा यह लेख अवश्य पढ़ें जिसमें हम आपको मंदिर के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं –

Diggi Kalyan Ji Mandir History In Hindi
Diggi Kalyan Ji Mandir History In Hindi

Diggi Kalyan Ji Mandir History In Hindi – डिग्गी कल्याण जी का इतिहास

Shree Diggi Kalyan Mandir Rajasthan के टोंक जिले के डिग्गी कस्बे में स्थित है। इस मंदिर को आमतौर पर कल्याण जी के नाम से जाना जाता है, जिन्हें भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। श्री कल्याण मंदिर का निर्माण 5600 वर्ष पूर्व राजा दिगवा ने करवाया था। यह एक प्राचीन मंदिर है जिसकी सुंदरता और इतिहास पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देता है। मंदिर अपनी वास्तुकला के लिए भी प्रसिद्ध है जिसमें सोलह स्तंभ और शिखर शामिल हैं। पर्यटक इस मंदिर से सटे लक्ष्मी नारायण का एक अलग मंदिर देख सकते हैं।

इस मंदिर का शिखर बहुत ही आकर्षक है और यह सोलह स्तंभों द्वारा समर्थित है जो उन पर बनी मूर्तियों की उपस्थिति के कारण बहुत आकर्षक लगते हैं। मंदिर का गर्भगृह, वृत्ताकार पथ और प्रार्थना कक्ष संगमरमर में सुरुचिपूर्ण वास्तुकला के बेहतरीन उदाहरण हैं। मंदिर के सामने के प्रवेश द्वार पर आकृतियाँ और मूर्तियाँ बहुत ही खूबसूरती से उकेरी गई हैं।

The Story of Diggi Kalyan Ji – डिग्गी कल्याण जी मंदिर की कहानी 

Story of Diggi Kalyan JiDiggi Kalyan Ji, जिन्हें डिग्गी पुरी के राजा और Shri Kalyan Temple, Shri Kalyan Dhani के नाम से जाना जाता है, की कहानी देवराज इंद्र के दरबार से शुरू होती है। देवराज इंद्र देवताओं के राजा थे। देवराज इंद्र के दरबार में कई अप्सराएं थीं जो वहां नृत्य करती थीं और देवराज इंद्र का मनोरंजन करती थीं।

प्रचलित कथा के अनुसार देवराज इंद्र के दरबार की सबसे सुंदर अप्सरा उर्वशी देवराज के मनोरंजन के लिए नृत्य कर रही थी। किसी कारण से वह हँस पड़ी। इससे क्रोधित होकर देवराज इंद्र ने अप्सरा उर्वशी को स्वर्ग से निकाल दिया। और उसे 12 वर्ष तक मृत्युलोक में रहने की सजा दी। अपने निष्कासन के बाद कुछ समय के लिए, उर्वशी सप्त ऋषियों के आश्रम में रही। इसके बाद उन्होंने चंद्रगिरि पर्वत पर शरण ली।

अप्सरा उर्वशी अपनी भूख मिटाने के लिए रात के समय में घोड़ी का रूप धारण करके राजा दिग्वा के उद्यान में अपनी भूख मिटाती थी। जब राजा दिग्वा को पता चला कि रात के समय कोई उनके बगीचे को हानि पहुँचाता है। अत: राजा ने रात में पहरा बिठा दिया और आदेश जारी कर दिया कि जो कोई भी हानि करता दिखाई दे, उसे फौरन पकड़ लिया जाए।

Story of Diggi Kalyan Ji

राजा स्वयं भी बगीचे में निगरानी के लिए गए। जब रात्रि का समय हुआ तो अप्सरा उर्वशी अपनी भूख मिटाने के लिए घोड़ी का रूप धारण करके राजा के उद्यान में आई। राजा ने उसे देखा और उसे पकड़ने के लिए आगे बढ़ा। राजा को अपनी ओर आता देख घोड़ी तेजी से पहाड़ की ओर दौड़ी, राजा दिग्वा ने भी घोड़ी का पीछा किया। पर्वत पर जाकर घोड़ी ने एक सुन्दर स्त्री का रूप धारण किया। मानवीय कमजोरियों वाला राजा देवलोक की अप्सरा के जाल में फंस गया।

उर्वशी ने उन्हें अपनी पूरी कहानी सुनाई, लेकिन राजा ने मोह में आकर महल की शोभा बढ़ाने के लिए उर्वशी को आमंत्रित किया। उर्वशी ने राजा के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया, लेकिन साथ ही एक चेतावनी भी दी कि यदि दंड अवधि समाप्त होने के बाद देवराज इंद्र उसे लेने आएंगे तो राजा दिग्वा उसकी रक्षा नहीं कर सके, तो वह उसे श्राप देगी।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

अप्सरा उर्वशी के दंड की अवधि पूरी होते ही देवराज इंद्र उर्वशी को लेने आ गए। देवराज इंद्र और राजा दिग्वा के बीच भीषण युद्ध हुआ। युद्ध में किसी की हार नहीं होती देख देवराज इंद्र ने भगवान विष्णु से सहायता मांगी। और भगवान विष्णु की सहायता से स्वर्ग के राजा ने पृथ्वी के राजा को हरा दिया। इस पर अप्सरा उर्वशी ने राजा दिग्वा को कोढ़ी हो जाने का श्राप दे दिया। जिससे राजा दिगवा को घोर कोढ़ हो गया।

राजा दिग्वा ने भगवान विष्णु की घोर तपस्या की थी। भगवान विष्णु ने उधर इंद्र की सहायता की, लेकिन दूसरी ओर उन्होंने राजा दिग्वा के कष्ट का उपाय भी बताया। भगवान विष्णु ने कहा कि कुछ समय बाद उनकी मूर्ति समुद्र में तैरती हुई आएगी। उनके दर्शन से शापित राजा के कष्ट दूर हो जाते। कुछ देर बाद विष्णु की मूर्ति सचमुच तैरती हुई आई। जिसे वहां मौजूद एक व्यापारी ने निकाल लिया। मूर्ति को देखकर राजा और व्यापारी दोनों को आशीर्वाद मिला और दोनों संकट से मुक्त हो गए।

diggi kalyan ji photo

अब एक और समस्या खड़ी हो गई थी कि भगवान विष्णु की मूर्ति का प्रभारी कौन होगा। व्यापारी और राजा दोनों इसे अपने पास रखना चाहते थे। कहा जाता है कि तभी आकाशवाणी से निर्देश मिला कि रथ में घोड़ों के स्थान पर जो व्यक्ति मूर्ति को खींच सकता है। उसे प्राप्त करने का अधिकार होगा।

काफी कोशिशों के बाद भी व्यापारी मूर्ति को रथ में नहीं ले जा सका। इसमें कुछ हद तक राजा डिगवा सफल भी हुए। लेकिन राजा का रथ उस स्थान पर रुक गया, जहां देवराज इंद्र और राजा दिग्वा के बीच भीषण युद्ध हुआ था। राजा ने बहुत प्रयत्न किया पर रथ आगे न बढ़ सका। बाद में राजा ने इस स्थान पर कल्याण जी के मंदिर की स्थापना की। और यह स्थान डिग्गी धाम के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

श्री डिग्गी कल्याण जी धाम के मुख्य मंदिर में प्रतिष्ठित मूर्ति हालांकि एक चतुर्भुज विष्णु मूर्ति है। लेकिन भक्त अपनी मान्यता के अनुसार कई देवी-देवताओं के रूपों को अपनी मान्यता के अनुसार मूर्ति में देखते रहते हैं क्योंकि उन्होंने भगवान की मूर्ति को इक्कीस बार देखा था। डिग्गी जी के दर्शन करने वाले भक्तों को इस प्रतिमा में राम, कृष्ण और प्रद्युम्न के रूप मिलते हैं। और ईश्वर से कल्याण की प्रार्थना करें।

Best Time To Visit Shri Diggi Kalyan Mandir

Diggi Kalyan Ji Mela – डिग्गी कल्याण जी का मेला

Shri Kalyan Dhani – हर महीने की पूर्णिमा को दिग्गी पुरी के राजा डिग्गी कल्याण जी का मेला या लक्खी मेला लगता है। वैशाख मास की पूर्णिमा, श्रावण मास की एकादशी और अमावस्या के साथ जलझुलनी ग्यारस को यहां बड़ा मेला लगता है। डिग्गी में डिग्गी कल्याण जी का मेला लगता है। यह स्थान राजस्थान के टोंक जिले में मालपुरा तहसील के पास स्थित है। राजस्थान के टोंक जिले में डिग्गी नामक स्थान पर स्थित श्री कल्याण जी मंदिर में डिग्गी कल्याण जी का मेला लगता है।

यह बहुत प्रसिद्ध मेला है, जिसमें टोंक और आसपास के क्षेत्रों से ही नहीं बल्कि राजस्थान और बाहर से भी लोग श्रद्धा भाव से आते हैं। सावन और भाद्रपद के महीनों में लाखों श्रद्धालु यहां पैदल आते हैं।

Diggi Kalyan Ji Mela

Diggi Kalyan Ji Temple Timings – डिग्गी कल्याणजी मंदिर के खुलने और बंद होने का समय

  • कल्याणजी मंदिर में पूजा ऋतु के अनुसार चलती है। दिग्गी कल्याणजी मंदिर दर्शन के लिए सुबह 5 बजे से रात 9 बजे तक खुला रहता है।
  • आमतौर पर सर्दियों और गर्मी के मौसम में डिग्गी कल्याण जी मंदिर के खुलने और बंद होने के समय में हेरफेर किया जाता है।

Diggi Kalyan Ji Temple Timings – दिग्गी कल्याण जी मंदिर समय

Diggi Kalyan Ji Temple Winter TimingsDiggi Kalyan Ji Temple Summer Timings
मंगल आरती – सुबह 5 बजेमंगल आरती – सुबह 4 बजे
शृंगार आरती – सुबह 7 बजेशृंगार आरती – सुबह 6 बजे
भोग – दोपहर 2 बजेभोग – दोपहर 2 बजे
शयन – दोपहर 2:30 बजेशयन – दोपहर 2:30 बजे
जागरण – दोपहर 3:30 बजेजागरण – शाम 4 बजे
शाम की आरती – शाम 6:30 बजेशाम की आरती – शाम 7:30 बजे
भोग – प्रात: 7:30 बजेभोग – रात्रि 9 बजे
शयन आरती – रात 9 बजेशयन आरती – रात 10 बजे
Shri Kalyan Dhani

Diggi Kalyan Ji Temple Festivals, Puja, And Celebrations – डिग्गी कल्याणजी मंदिर त्यौहार, पूजा और उत्सव

मंदिर परिसर में कई मेलों और त्योहारों का आयोजन किया जाता है। कल्याणजी मंदिर में मनाए जाने वाले महत्वपूर्ण त्योहारों में वैशाखी पूर्णिमा, हरियाली अमावस, कार्तिक पूर्णिमा, पाटोत्सव, जल झूलनी एकादशी और अन्नकूट शामिल हैं। बता दें कि श्रावण और भाद्रपद के महीनों में श्रद्धालु नंगे पैर पैदल ही मंदिर आते हैं।

Diggi Kalyan Ji Temple Timings

Best Time To Visit Shri Diggi Kalyan Mandir – श्री डिग्गी कल्याण मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय

श्री डिग्गी कल्याण मंदिर मालपुरा में साल में कभी भी जाया जा सकता है। अगर आप अपनी यात्रा का पूरा मजा लेना चाहते हैं तो अक्टूबर से मार्च के महीने में मंदिर के दर्शन करने जा सकते हैं।

How To Reach Shri Diggi Kalyan Temple Tonk – श्री डिग्गी कल्याण मंदिर टोंक कैसे पहुंचे

अगर आप टोंक शहर जाने की योजना बना रहे हैं तो बता दें कि यह जयपुर शहर से टोंक तक 96 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जहां आप सड़क, हवाई और रेल आदि परिवहन के माध्यम से यात्रा कर सकते हैं।

  • अगर आप हवाई मार्ग से दिग्गी कल्याण जी मंदिर जाने के लिए जा रहे हैं तो बता दें कि जयपुर सांगानेर हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है और देश के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इस हवाई अड्डे से आप टोंक शहर तक पहुँचने के लिए कैब या बस से यात्रा कर सकते हैं।
  • जो पर्यटक रेल मार्ग से दिग्गी कल्याण जी मंदिर की यात्रा करना चाहते हैं, उनके लिए हम उन्हें सूचित करना चाहेंगे कि टोंक का निकटतम मुख्य रेलवे स्टेशन बनस्थली-नयई है, जो टोंक से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यात्री इस रेलवे स्टेशन से भंवर टोंक के लिए ट्रेन पकड़ सकते हैं।
  • जो लोग अपनी निजी कार से या बसों और टैक्सियों की मदद से डिग्गी कल्याण जी मंदिर जाने की योजना बना रहे हैं, उनके लिए टोंक अच्छी सड़कों के माध्यम से राज्य के प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। राजस्थान पर्यटन यात्रियों को कई नियमित बस सेवाएं प्रदान करता है जो प्रमुख पर्यटक शहरों से चलती हैं।
Story of Diggi Kalyan Ji

diggi kalyan ji photo, diggi kalyan ji ka mela, diggi kalyan ji mandir, diggi kalyan ji distance, diggi kalyan ji temple, diggi kalyan ji photo, diggi kalyan ji story, diggi kalyan ji maharaj, diggi kalyan ji darshan today, diggi kalyan ji ka mela kahan bharta hai, diggi kalyan ji photo download, diggi kalyan ji maharaj, diggi kalyan ji bhajan mp3 download, diggi kalyan ji bhajan, diggi kalyan ji bhajan mp3 download, diggi kalyan ji ke bhajan lyrics,

jaipur to diggi kalyan ji bus, jaipur to diggi kalyan ji bus distance, diggi kalyan ji mela ke bare mein bataiye, diggi kalyan ji ka mela kab bharta hai, diggi kalyan ji ka mela kahan bharta hai, diggi kalyan ji darshan time, diggi kalyan ji history in hindi, diggi kalyan ji history, diggi kalyan ji hotel, diggi kalyan ji hd wallpaper, diggi kalyan ji wikipedia in hindi, diggi kalyan ji ka mandir kahan hai, diggi kalyan ji full story in hindi, diggi kalyan ji ka mela kab lagta hai,

diggi kalyan ji image, diggi kalyan ji information, diggi kalyan ji history in hindi, diggi kalyan ji wikipedia in hindi, diggi kalyan ji full story in hindi, diggi kalyan ji details in hindi, diggi kalyan ji distance, How To Reach Shri Diggi Kalyan Temple Tonk, Best Time To Visit Shri Diggi Kalyan Mandir, Diggi Kalyan Ji Temple Festivals, Diggi Kalyan Ji Temple Timings, Diggi Kalyan Ji Mela, The Story of Diggi Kalyan Ji, Diggi Kalyan Ji Mandir History In Hindi,


Leave a Comment

चिलचिलाती गर्मी के लिए बेस्ट है जयपुर का यह वाटर पार्क एडवेंचर के हैं शौकीन तो जाए खीर गंगा, जो है हिमाचल की वादियों में बसी। गर्मी से मिलेगी राहत, सिर्फ दो हजार में घूमे दिल्ली के पास इन जगहों पर मई में बजट में घूमने के लिए डलहौजी से लेकर नैनीताल तक परफेक्ट हैं ये जगहें गर्मी की छुट्टियों में घूमने का ले भरपूर मजा इन खूबसूरत हिल स्टेशन पर इस गर्मी जयपुर में एन्जॉय करने के लिए बेस्ट वाटर पार्क 2024 चिलचिलाती गर्मी में कूल वाइब्स के लिए घूम आएं इन ठंडी जगहों पर जयपुर के न्यू हवाई-जहाज वॉटर पार्क के टिकट में बड़ा बदलाव, जानिए जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें