सालासर बालाजी मंदिर की सम्पूर्ण जानकारी Salasar Balaji Temple History In Hindi

Salasar Balaji Temple History In Hindi:- भारतीय संस्कृति में मानव जीवन के लक्ष्य भौतिक सुख और आध्यात्मिक आनंद की प्राप्ति के लिए अनेक देवी-देवताओं की पूजा का विधान है, जिसमें पंचदेव प्रमुख हैं। श्री हनुमान जी पंच देवों के तेजोमय पुंज हैं। प्राचीन ग्रंथों में वर्णित सात कोटि मंत्रों में श्री हनुमान जी की उपासना का विशेष उल्लेख है। श्री राम भक्त, रुद्र अवतार, सूर्य-शिष्य, वायु, पुत्र केसरी, नंदन, महाबल, श्री बालाजी और माँ अंजनी के गर्भ से प्रकट, हनुमान जी में पाँच देवताओं की महिमा समाहित है।

हनुमान जी पूरे भारत में पूजे जाते हैं और लोगों के देवता हैं। हर कोई बिना किसी भेदभाव के हनुमान की पूजा करने का हकदार है। अतुलनीय बलशाली होने के कारण इन्हें बालाजी की संज्ञा दी गई है। देश के हर क्षेत्र में हनुमान जी की पूजा करने की अलग परंपरा है। वीरभूमि राजस्थान में बाबाश या बालाजी के नाम से प्रसिद्ध हनुमान जी के अनेक प्रसिद्ध मंदिर हैं, जिनमें सालासर के चमत्कारी श्री बालाजी मंदिर का विशेष महत्व है।

Shri Salasar Balaji Dham Mandir Rajasthan

अगर आप हनुमानजी के भक्त हैं और राजस्थान घूमने गए हैं तो Salasar Balaji Temple के दर्शन करना न भूलें। यह मंदिर राजस्थान के चूरू जिले में स्थित है। सालासर बालाजी पवन पुत्र हनुमान का पवित्र निवास स्थान है। कहने को तो भारत देश में हनुमानजी के कई मंदिर हैं, लेकिन हनुमानजी के इस मंदिर की उनके भक्तों में काफी मान्यता है। यही कारण है कि यहां हर साल 6 से 7 लाख हनुमान भक्त उनके दर्शन के लिए जुटते हैं। यहां बालाजी के प्रकट होने की कहानी जितनी चमत्कारी है, उतने ही चमत्कारी तरीके से पवनपुत्र हनुमान बालाजी के रूप में अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। उनके द्वार से कोई खाली हाथ नहीं लौटता।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

तो चलिए आज इस लेख के माध्यम से हम आपको राजस्थान के प्रसिद्ध सालासर बालाजी मंदिर के इतिहास और दर्शन से रूबरू कराते हैं।

Salasar Balaji Dham Mandir Rajasthan

Shri Salasar Balaji Dham Mandir Rajasthan – सालासर बालाजी मंदिर की जानकारी, इतिहास और यात्रा

भारत में दो प्रसिद्ध बालाजी मंदिर हैं। एक आंध्र प्रदेश में स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर और दूसरा राजस्थान में स्थित सालासर बालाजी मंदिर। इस मंदिर की महिमा अपार है। भगवान हनुमान की लीलाओं का ही परिणाम है कि साल दर साल लोगों की आस्था भगवान हनुमान के प्रति बढ़ती जा रही है। सालासर बालाजी मंदिर के इतिहास में, यह भारत में हनुमानजी का एकमात्र मंदिर है, जहां हनुमानजी दाढ़ी और मूंछ में गोल चेहरे के साथ देखे जाते हैं। हालांकि इसके पीछे भी एक बड़ी दिलचस्प कहानी बताई जाती है।

अगर आप इस धाम जा रहे हैं तो आपके ठहरने से लेकर खाने-पीने तक की पूरी व्यवस्था है। यहां ठहरने के लिए कई ट्रस्ट और धर्मशालाएं हैं। हर साल चैत्र पूर्णिमा और आश्विन पूर्णिमा पर यहां एक भव्य मेले का आयोजन किया जाता है, इन अवसरों पर सालासर का छोटा शहर एक महान कुंभ की तरह दिखता है।

सालासर राजस्थान राज्य के चूरू जिले की सुजानगढ़ तहसील में स्थित है। सुजानगढ़ से लगभग 25 किमी दूर सालासर का परम पवित्र क्षेत्र मरूस्थल कटीलों के बीच स्थित है। श्री बालाजी सालासर के कण-कण में विद्यमान हैं। श्री बालाजी मंदिर सालसारा राजस्थानी शैली में निर्मित एक भव्य एवं विशाल मंदिर है।

History Of Salasar Balaji

Salasar Balaji Temple History In Hindi – श्री सालासर बालाजी धाम मंदिर का इतिहास

Salasar Balaji Temple Story In Hindi- जब सालासर बालाजी मंदिर में हनुमानजी की मूर्ति स्थापित की गई। सालासर बालाजी मंदिर के इतिहास में भगवान हनुमान चमत्कारिक रूप से यहां प्रकट हुए थे। इसके पीछे की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है. घटना विक्रम संवत 1811 (1755) श्रावण शुक्ल नवमी शनिवार की है जब नागपुर जिले के असोटा गांव में एक जाट किसान अपने खेत की जुताई कर रहा था। तभी उसका हल किसी नुकीली चट्टानी वस्तु से टकरा गया।

जब उसने खोदा तो देखा कि यहां एक पत्थर है। जब उसने पत्थर को अपने अंगूठे से साफ किया तो उसने देखा कि पत्थर पर भगवान बालाजी की छवि बनी हुई है। उसी समय जाट की पत्नी भोजन लेकर आई, उसने भी अपनी साड़ी से मूर्ति को साफ किया और दोनों दंपती ने पत्थर को प्रणाम किया। तब किसान ने बाजरे के चूरमे का पहला भोग बालाजी को लगाया।

History Of Salasar Balaji In Hindi

सालासर बालाजी मंदिर के इतिहास से लेकर अब तक सालासर बालाजी मंदिर में केवल बाजरे का चूरमा चढ़ाया जाता है मूर्ति के प्रकट होने की खबर पूरे गाँव सहित गाँव के ठाकुर तक पहुँची। एक रात सपने में असोटा के ठाकुर को बालाजी ने मूर्ति को सालासर ले जाने के लिए कहा। दूसरी ओर हनुमान भक्त ने स्वप्न में सालासर के महाराज मोहनदास से कहा कि जिस बैलगाड़ी से मूर्ति सालासर जाती है उसे कोई न रोके। जहां बैलगाड़ी अपने आप रुक जाती है, वहां उनकी प्रतिमा स्थापित करनी चाहिए। स्वप्न में प्राप्त इन्हीं आदेशों का पालन करते हुए भगवान सालासर बालाजी की मूर्ति को उसके वर्तमान स्थान पर स्थापित किया गया।

दाढ़ी-मूंछ वाले हनुमान जी की मूर्ति के पीछे भी एक रोचक कहानी है। बताया जाता है कि सालासर बालाजी मंदिर के इतिहास में हनुमानजी ने पहली बार मोहनदास को दाढ़ी-मूंछ के रूप में दर्शन दिए थे, तब मोहनदास ने बालाजी को इसी रूप में प्रकट होने को कहा था। यही वजह है कि यहां दाढ़ी-मूंछ में हनुमानजी की मूर्ति स्थापित है। सालासर में कुएँ हैं, ऐसा माना जाता है कि इन कुओं का पानी बालाजी के आशीर्वाद के कारण है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

सालासर बालाजी मंदिर दो प्रमुख त्योहार “श्री मोहनदास जी महाराज का श्राद्ध दिवस (श्रद्धा पक्ष में त्रयोदशी) और “श्री बालाजी महाराज का प्राकट्य दिवस” (श्रवण शुक्ल नवमी) बड़े उत्साह और उत्साह के साथ मनाता है, जिसमें हजारों भक्त बाबा भक्त भाग लेते हैं। विश्व प्रसिद्ध सिद्ध पीठ श्री सालासर धाम में 125 से अधिक धर्मशालाएं यात्रियों की सुविधा और यात्रियों को उत्कृष्ट सेवाएं प्रदान करने के लिए आधुनिक सुविधाओं से लैस हैं। इस धार्मिक संस्थान में श्री हनुमान सेवा समिति की धर्मशालाओं में बर्तन, भोजन की नि:शुल्क सेवा के साथ-साथ नि:शुल्क आवासीय व्यवस्था भी उपलब्ध है।

Architecture Of Salasar Balaji In Hindi – सालासर बालाजी की वास्तुकला

मंदिर का निर्माण 1755 में शुरू हुआ था, जिसे पूरा होने में दो साल लगे। बता दें कि मंदिर बनाने वाले कारीगर मुस्लिम थे, जिनके नाम नूरा और दाऊ थे। पूरा मंदिर सफेद संगमरमर से बना है। सालासर बालाजी मंदिर में इस्तेमाल होने वाले बर्तन और दरवाजे चांदी के बने होते हैं। यहां बालाजी गोल चेहरे और दाढ़ी-मूंछों के साथ नजर आते हैं। बाकी सिंदूर राम की उम्र बढ़ाने के लिए उनके पूरे चेहरे पर लगाया जाता है। सालासर बालाजी मंदिर का इतिहास और निर्माण दोनों ही अद्भुत है।

Salasar Balaji Mandir Open Timing – मन्दिर खुलने का समय

Darshan Timings Salasar Balaji In Hindi

सर्दी में आरती समयगर्मी में आरती समय
मंगला आरती:5:30 बजे सुबहमंगला आरती:5:00 बजे सुबह
मोहनदास जी आरती:6:00 बजे सुबहमोहनदास जी आरती:5:30 बजे सुबह
राजभोग आरती:10:15 बजे सुबहराजभोग आरती:10:00 बजे सुबह
धूप ग्वाल आरती:5:00 बजे सांयधूप ग्वाल आरती:6:30 बजे सांय
मोहन दास जी आरती:5:30 बजे सांयआरती मोहन दास जी:7:00 बजे सांय
संध्या आरती:6:00 बजे सांयसंध्या आरती:7:30 बजे सांय
बाल भोग स्तुती:7:00 बजे सांयबाल भोग स्तुती:8:00 बजे सांय
शयन आरती:9:00 बजे रात्रिशयन आरती:10:00 बजे सांय
राजभोग महाप्रसाद आरती (केवल मंगलवार को):11:00 बजे सुबहराजभोग महाप्रसाद आरती (केवल मंगलवार को):10:30 बजे सुबह
Darshan Timings Salasar Balaji In Hindi
Salasar Balaji Mandir Open Timing

VIP Darshan In Salasar Balaji In Hindi – सालासर बालाजी में ऐसे हो सकते हैं वीआईपी दर्शन

सालासर बालाजी में दर्शन के लिए लंबी लाइन में खड़ा होकर तीन घंटे तक इंतजार करना पड़ता है। अगर आप वीआईपी दर्शन करना चाहते हैं तो मंदिर के पिछले गेट पर 4 से 5 काउंटर हैं, जहां से आप 1000 रुपये की पर्ची ले सकते हैं और बिना किसी लाइन के आप सीधे दर्शन के लिए पहुंच सकते हैं। यदि आप 1000 रुपये की पर्ची नहीं प्राप्त कर सकते हैं, तो दूसरा विकल्प काउंटर पर 100 रुपये की पर्ची कटवाना है। लेकिन यहां से दर्शन के लिए आपको 20 मिनट लगेंगे लेकिन दर्शन के लिए लगने वाली लंबी लाइन से आप बच जाएंगे।

Mausoleum of Mohandasji

How To Reach Rajasthan Salasar Balaji In Hindi – राजस्थान सालासर बालाजी कैसे पहुंचे

Balaji Dham Salasar – अगर आप ट्रेन से सालासर बालाजी मंदिर जाना चाहते हैं तो बता दें कि यहां कोई रेलवे स्टेशन भी नहीं है। इसके लिए आपको तालछापर स्टेशन जाना पड़ेगा, जहां से सालासर की दूरी 26 किमी है। जबकि सीकर से इसकी दूरी 24 किमी है और लक्ष्मणगढ़ से ये मंदिर 42 किमी की दूरी पर बसा हुआ है।

आप अपने व्हीकल से बाय रोड जा रहे हैं तो दिल्ली से जयपुर होते हुए सीकर और फिर सालासर वाला रूट अपनाना होगा। यहां पर कई ट्रस्ट बने हैं, जहां आप ठहर सकते हैं, जिनमें से मालू सेवा धाम, अदमपुर सेवा सदन, फतेहाबाद सेवा सदन, मंडी देबावाली धर्मशाला, शारदा सेवा सदन, संगारिया सेवा सदन, डालमिया सेवा सदन आदि प्रमुख हैं।

नजदीकी रेलवे स्टेशनदूरी
सुजानगढ़
38 min (27 km)
रतनगढ़1 hr 17 min (44 km)
लक्ष्मणगढ़42 min (35 km)
सीकर1 hr 6 min (60 km)
जयपुर3 hr 1 min (168 km)
How To Reach Rajasthan Salasar Balaji By Train
नजदीकी बस स्टेशनदूरी
सुजानगढ़36 min (25 km)
सालासर7 min (700 m)
जयपुर3 hr 8 min (35 km)
How To Reach Rajasthan Salasar Balaji By Bus
नजदीकी हवाई अड्डा (Airport)दूरी
जयपुर3 hr 20min (184  km)
किशनगढ़3 hr 29 min (163 km)
बीकानेर3 hr 38 min (190 km)
जोधपुर4 hr 46 min (266 km)
How To Reach Rajasthan Salasar Balaji By Air

अंजनी माता का मंदिर

सालासर में स्थित अंजनी माता का प्रसिद्ध मंदिर न केवल राजस्थान बल्कि पूरे भारत के भक्तों के लिए एक प्रमुख तीर्थस्थल है। श्री अग्नि माता का मंदिर सालासर धाम से लगभग दो किलोमीटर की दूरी पर लक्ष्मणगढ़ जाने वाले मार्ग पर स्थित है। इस मंदिर में स्थापित माता की मूर्ति में बाल रूप में हनुमानजी माता की गोद में विराजमान हैं। अंजनी माता अपने चार भुजाओं वाले आदमकद रूप में शंख और मधु-पात्र धारण किए हुए हैं। यहां बालाजी हनुमान और उनकी मां अंजनी की एक साथ पूजा की जा सकती है। कहा जाता है कि जो सालासर आकर सच्चे मन से इन दोनों की पूजा करता है। उनकी हर मनोकामना पूरी होती है।

Anjani Mata Temple

मंदिर के संस्थापक श्री पन्नारामजी पारीक थे। युवावस्था में ही उनकी पत्नी का देहांत हो गया। फिर वह प्रयाग चला गया और वहाँ गंगा के तट पर ध्यान और पूजा करने लगा। एक दिन उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर हनुमानजी ने उनके स्वप्न में दर्शन दिए और आदेश दिया कि तुम मेरे धाम सालासर पधारो। सालासर धाम में उन्होंने परोपकार की भावना से प्रेरित होकर तीर्थयात्रियों को शीतल जल पिलाकर उनकी थकान मिटानी शुरू की। साथ ही वे अंजनीनंदन और अंजनीमाता की भक्ति से सेवा करते हुए उनका ध्यान करने लगे। 1963 में सीकर नरेश ने पंडित जी की सलाह के अनुसार मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया। अंजनी माता मंदिर की विशेष प्रसिद्धि यह है कि यह विवाहित महिलाओं और नवविवाहितों की मनोकामना पूरी करता है। विवाहित महिलाएं यहां आकर अपने वैवाहिक और पारिवारिक जीवन की सफलता के लिए नारियल और सुहाग चिन्ह अर्पित करती हैं।

दूर-दूर से लोग शादी का पहला निमंत्रण पत्र मंदिर में जमा करते हैं। ताकि अंजनी माता की कृपा से न केवल विवाह सफल हो बल्कि नवविवाहितों को भी हर तरह का सुख मिले।

मोहनदासजी की समाधि

मंदिर के मुख्य द्वार से कुछ ही दूरी पर मोहनदासजी की समाधि है, जहां उन्होंने कनीबाई की मृत्यु के बाद जीवित समाधि ली थी। पास में ही कनीबाई की समाधि भी है। मंदिर के बाहर धूम मची हुई है। यह धूना भक्तप्रवर श्री मोहनदासजी महाराज ने श्री बालाजी के मंदिर के समीप अपने हाथों से प्रज्वलित किया था। तब से लेकर आज तक यह धूनी जलती है। भक्त इस धुने से भभूति (भस्म) लेते हैं और इसका उपयोग अपने कष्टों से छुटकारा पाने के लिए करते हैं।

Mausoleum of Mohandasji

मान्यता है कि यह विभूति भक्तों के सभी संकटों को दूर कर देती है। सच्चे मन से आस्था रखने वाले भक्तों को अचूक लाभ मिलता देखा गया है। मंदिर में मोहनदासजी द्वारा पहने गए कंगन भी रखे गए हैं। बताया जाता है कि यहां मोहनदासजी ने दो डिब्बे रखे थे, जो कभी न खत्म होने वाले अनाज से भरे हुए थे, लेकिन मोहनदासजी ने आदेश दिया था कि कोई भी उन्हें खोलकर न देखे। बाद में किसी ने इस आदेश का उल्लंघन किया, जिससे कोठलों की चमत्कारिक स्थिति समाप्त हो गई।

Live Darshan

संपर्क विवरण

01568252749, 01568252049

info@shreesalasarbalajimandir.com

पता

श्री सालासर बालाजी मंदिर, सालासर, चुरू, राजस्थान,पिन कोड: 331506

Salasar Balaji Photos

History Of Salasar Balaji
salasar balaji dham timings
Architecture Of Salasar Balaji

shri salasar balaji dham mandir rajasthan, सालासर बालाजी मंदिर कहा है, Salasar Balaji Tirth Story, जयपुर से सालासर बालाजी की दूरी, श्री सालासर बालाजी मंदिर, श्री सालासर बालाजी मंदिर, Shri Salasar Balaji Dham Mandir Rajasthan, Shri Salasar Balaji Dham Mandir, How To Reach Rajasthan Salasar Balaji In Hindi, VIP Darshan In Salasar Balaji In Hindi,

Salasar Balaji Mandir Open Timing, salasar balaji open or not, salasar balaji images download, salasar balaji images with quotes, salasar balaji pic, salasar balaji photo hd wallpaper, salasar balaji photo hd, salasar balaji photo frame, salasar balaji pic hd, salasar balaji photo hd download, Salasar Balaji Temple History In Hindi, Shri Salasar Balaji Dham Mandir Rajasthan, Salasar Balaji Temple Story In Hindi, Darshan Timings Salasar Balaji In Hindi, Salasar Balaji Photos,


Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन