उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर क्यों है इतना प्रसिद्ध जाने रहस्य: Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi: महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग एक हिंदू मंदिर है जो भगवान शिव को समर्पित है और बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है, ये मंदिर शिव के सबसे पवित्र निवास माने जाते हैं। यह भारतीय राज्य मध्य प्रदेश के प्राचीन शहर उज्जैन में स्थित है। मंदिर पवित्र शिप्रा नदी के तट पर स्थित है। लिंगम के रूप में पीठासीन देवता, शिव को स्वयं प्रकट माना जाता है, जो अन्य छवियों और लिंगमों की तुलना में शक्ति की धाराएँ प्राप्त करते हैं, जो मंत्र-शक्ति के साथ स्थापित और निवेशित हैं।

12 ज्योतिर्लिंगों में Mahakaleshwar Jyotirlinga की गणना तीसरे स्थान पर की जाती है, लेकिन प्रभाव की दृष्टि से देखा जाए तो इसका स्थान प्रथम स्थान पर है। माना जाता है कि शिव के कई रूप हैं। भगवान शिव की पूजा करने से आपके मन की हर मनोकामना पूरी होती है। भगवान शिव पूरी पृथ्वी पर विभिन्न स्थानों पर अनेक ज्योतिर्लिंगों के रूप में विराजमान हैं।

बारह ज्योतिर्लिंग गुजरात में सोमनाथ, आंध्र प्रदेश के श्रीशैलम में मल्लिकार्जुन, मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकालेश्वर, मध्य प्रदेश के इन्दोर में ओंकारेश्वर, उत्तराखंड राज्य के हिमालय में केदारनाथ, महाराष्ट्र के भीमाशंकर, उत्तर प्रदेश के वाराणसी में विश्वनाथ, उत्तर प्रदेश में त्र्यंबकेश्वर हैं। महाराष्ट्र, बैद्यनाथ, झारखंड में देवघर, गुजरात के द्वारका में नागेश्वर, तमिलनाडु के रामेश्वरम में रामेश्वर और महाराष्ट्र के औरंगाबाद में घृष्णेश्वर।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Some secrets of Mahakaleshwar Jyotirlinga

काल के दो अर्थ हैं – एक समय और दूसरा मृत्यु। महाकाल को ‘महाकाल’ इसलिए कहा जाता है क्योंकि प्राचीन काल में समस्त विश्व का मानक समय यहीं से निर्धारित होता था, इसीलिए इस ज्योतिर्लिंग का नाम ‘महाकालेश्वर’ रखा गया है।

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi: महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के बारे में जानकारी 

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi– आज मैं आपको मध्य प्रदेश राज्य के मालवा में शिप्रा नदी के तट पर स्थित Mahakaleshwar Jyotirlinga के बारे में बताऊंगा। यह ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश राज्य के मालवा में शिप्रा नदी के तट पर स्थित उज्जैन नामक स्थान पर स्थित है। यह शहर भारत की सांस्कृतिक और धार्मिक नगरी के रूप में प्रसिद्ध है। यहां भगवान शिव का तीसरा ज्योतिर्लिंग विराजमान है, जिसे महाकालेश्वर के नाम से जाना जाता है।

प्राचीन काल से ही इस नगर को अलग-अलग नामों से जाना जाता रहा है जैसे उज्जैनी, अमरावती, कुशस्थली, कनकश्रंग और अवंतिका आदि। हमारे धार्मिक ग्रंथों और वेद पुराणों में सप्तपुरी (सात मोक्ष देने वाली नगरियां) वर्णित हैं। उज्जैन भी उन सात शहरों में से एक है। उज्जैन में प्राचीन काल में हजारों मंदिरों का निर्माण हुआ था, इसलिए उज्जैन को मंदिरों का शहर भी कहा जाता है। इस स्थान पर महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के अलावा चौरासी लिंगों में महादेव अलग-अलग रूपों में विराजमान हैं।

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir Aarti Timings
Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi

सिंहस्थ कुंभ मेला उज्जैन की शिप्रा नदी के तट पर हर बारह साल बाद मनाया जाता है। इस दिन यहां एक साथ 10 प्रकार के दुर्लभ योग बनते हैं, जिनमें वैशाख मास, मेष राशि पर सूर्य, सिंह राशि पर गुरु, स्वाति नक्षत्र, शुक्ल पक्ष आता है। पूर्णिमा आदि सभी चीजें एक साथ नजर आएंगी।

Mahakaleshwar Jyotirlinga का अपना महत्व है। मान्यता है कि महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग पृथ्वी पर स्थापित एकमात्र दक्षिणमुखी शिवलिंग है। प्राचीन काल में सम्पूर्ण विश्व का एक मानक समय माना जाता था जो इसी से निर्धारित होता था। जहां यह ज्योतिर्लिंग स्थापित है वहां कर्क रेखा इसके शिखर से होकर गुजरती है। इसे पृथ्वी के नाभि स्थान की मान्यता प्राप्त है।

Mahakaleshwar Jyotirlinga स्वयंभू ज्योतिर्लिंग है जो स्वयं शक्तियाँ प्राप्त करता है। महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग एक ऐसा ज्योतिर्लिंग है जिसका मुख पश्चिम की ओर है। माना जाता है कि मृत्यु की दिशा पश्चिम है। और मृत्यु के स्वामी भगवान शिव हैं। इसलिए इस शिवलिंग का मुख पश्चिम दिशा की ओर है।

Story of Mahakaleshwar Jyotirlinga

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir Aarti Timings – महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में आरती का समय

Aarti/DarshanTimings
Darshan4:00am To 11:00pm
Bhashma Aarti4:00am To 6:00am
Morning Aarti7:00am To 7:30am
Evening Aarti5:00pm To 5:30pm
Shree Mahakaal Aarti7:00pm To 7:30pm
Mahakaleshwar temple timings
Mahakaleshwar Jyotirlinga History

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का इतिहास व कहानी – Story of Mahakaleshwar Jyotirlinga

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi– शिव पुराण में Mahakaleshwar Jyotirlinga के बारे में बताया गया है कि प्राचीन काल में अवंती नगरी में एक ब्राह्मण रहा करते थे। उन्होंने अपने घर में एक हवन कुंड स्थापित किया था और नियमित रूप से वैदिक कर्मकांडों में लगा रहता था। वे भगवान शिव के अनन्य भक्त थे। वे ब्राह्मण प्रतिदिन एक पार्थिव लिंग का निर्माण करते थे और शास्त्रीय विधि से उस लिंग की पूजा करते थे।

उस शिव भक्त ब्राह्मण का नाम वेदप्रिय था। भगवान शिव की कृपा से वेदप्रिय को चार पुत्रों की प्राप्ति हुई। वेदप्रिय के सभी पुत्र मेधावी और विद्वान थे। उन चार पुत्रों के नाम देवप्रिय, प्रियमेघ, संस्कृत और सुव्रत थे। उन दिनों रत्नामल पर्वत पर दूषण नाम के एक दैत्य ने धर्मात्माओं और ऋषियों पर आक्रमण किया था। उस राक्षस को भगवान ब्रह्मा से अजेयता का वरदान प्राप्त था।

mahakaleshwar jyotirlinga images hd
Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi

सभी ऋषियों और मुनियों को सताने के बाद उस दैत्य ने एक विशाल सेना लेकर अवंती नगर के धर्मात्माओं और ऋषियों पर भी आक्रमण कर दिया। उन दैत्यों ने चारों दिशाओं में भयंकर उत्पात मचाना शुरू कर दिया लेकिन अवंती नगर के सभी शिवभक्त नागरिक उनके आतंक से भयभीत नहीं हुए। अवंती नगर के दुखी नागरिकों को देखकर उन चारों शिव भक्तों (देवप्रिय, प्रियमेघ, संस्कृत और सुव्रत) ने नगरवासियों से कहा कि तुम लोग भक्तों के हितैषी भगवान शिव पर श्रद्धा रखो, वे हम सबकी रक्षा करेंगे, तब चारों शिव भक्त भगवान शिव की पूजा करने के बाद अपनी भक्ति में लीन हो गए।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

उन भक्तों को भगवान शिव की आराधना करते देख सभी दैत्य वहां पहुंच गए और जैसे ही उन्होंने उन्हें मारने के लिए अपने हथियार उठाए, उस स्थान पर भयानक आवाज वाला एक बड़ा गड्ढा हो गया।

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi

उस गड्ढे से भगवान शिव उग्र रूप लेकर उत्पन्न हुए और उन्होंने उन दैत्यों से कहा, हे दुष्टों, मैं तुम जैसे राक्षसों का नाश करने के लिए ही महाकाल के रूप में उत्पन्न हुआ हूं। उन्होंने एक ही वार से उन दैत्यों का नाश कर दिया और दूषण नामक दैत्य का वध कर दिया। सभी राक्षसों को खत्म करने के बाद उन शिव भक्त ब्राह्मणों से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने कहा कि मैं महाकाल महेश्वर तुम लोगों की भक्ति से प्रसन्न हूँ तुम लोग जो वर मागना चाहते हो मांग लो।

भगवान शिव की यह बात सुन कर उन ब्राह्मण पुत्रों ने हाथ जोड़कर कहा – दुष्टों को दंड देने वाले महाकाल शंभू नाथ आप हम चारों भाइयों को इस जीवन मरण के चक्र से मुक्त कर दो और आम जनता के कल्याण व उनकी रक्षा करने के लिए आप यहीं पर विराजमान हो जाएँ। भगवान शिव उनकी बात मान कर उसी गड्डे में ज्योतिर्लिंग के रूप में विराजमान हो गये।

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का इतिहास – Mahakaleshwar Jyotirlinga History

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi– महाकाल के इस मंदिर का निर्माण 6वीं शताब्दी में हुआ था। यदि इतिहास पढ़ा जाए तो ज्ञात होता है कि उज्जैन में 1107 से 1728 ई. तक यवनों का शासन रहा करता था। उसने अपने शासन काल में हिन्दुओं की लगभग 4500 वर्षों की प्राचीन धार्मिक परंपरा और मान्यताओं को पूरी तरह से तोड़ने और नष्ट करने का भरसक प्रयास किया। मराठा राजाओं ने मालवा क्षेत्र पर आक्रमण किया और 22 नवंबर 1728 को अपना वर्चस्व स्थापित किया। इसके बाद उज्जैन का खोया हुआ गौरव लौट आया और 1731 से 1809 तक यह शहर मालवा की राजधानी बना रहा।

Mahakaleshwar Jyotirlinga History
Mahakaleshwar Jyotirlinga History

मराठों के शासन काल में उज्जैन में दो महत्वपूर्ण घटनाएँ घटीं, जिनमें प्रथम महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की स्थापना हुई और यहाँ शिप्रा नदी के तट पर सिंहस्थ पर्व कुम्भ मेला स्नान की पूरी व्यवस्था की गई। मंदिर उज्जैन के लोगों के लिए एक बड़ी उपलब्धि थी और फिर बाद में राजा भोज ने महाकालेश्वर मंदिर की पुरानी प्रतिष्ठा को बहाल किया, लेकिन इसे भव्य बना दिया।

इस मंदिर की वर्तमान संरचना 1734 ई. में मराठा सेनापति रानोजी शिंदे द्वारा स्थापित की गई थी। मंदिर के आगे के विकास और प्रबंधन की देखभाल रानोजी शिंदे और उनकी पत्नी बैजा बाई सहित उनके वंश के अन्य सदस्यों ने की। बाद में जयजीराव शिंदे के शासनकाल में 1886 ई. तक ग्वालियर राज्य के प्रमुख कार्यक्रम इसी मंदिर में होते थे। आजादी के बाद इस मंदिर के रख-रखाव का काम उज्जैन नगर निगम के पास चला गया। आजकल यह मंदिर उज्जैन जिले के समाहरणालय कार्यालय के अधीन है।

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की वास्तुकला – Architecture of Mahakaleshwar Jyotirlinga

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का निर्माण नागर शैली के अनुसार किया गया है। यह मंदिर परिसर पांच एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। इस मंदिर के परिसर के अंदर छोटे-बड़े 53 मंदिर स्थित हैं। यह मंदिर तीन मंजिला इमारत में बना है। मंदिर के निचले, मध्य और ऊपरी हिस्सों में क्रमशः महाकालेश्वर, ओंकारेश्वर और नागचंद्रेश्वर के लिंग स्थापित हैं। शीर्ष तल पर विराजमान नागचंद्रेश्वर के कपाट साल में केवल एक बार नाग पंचमी के दिन ही खुलते हैं।

भगवान ओंकारेश्वर भूतल पर निवास करते हैं, और मंदिर का सबसे निचला तल या गर्भगृह सबसे पवित्र स्थान है जहाँ भगवान महाकाल स्वयं महाकालेश्वर के रूप में निवास करते हैं। गर्भगृह में ज्योतिर्लिंगम, भगवान गणेश, भगवान कार्तिकेय और माता पार्वती की मूर्तियां स्थित हैं। मंदिर परिसर में कोटि तीर्थ नामक एक तालाब भी स्थित है, और मंदिर की तरफ से सीढ़ियाँ इस तालाब तक जाती हैं।

mahakaleshwar jyotirlinga pictures

मंदिर-परिसर में एक बहुत बड़े आकार का कोटि तीर्थ नाम का कुंड भी मौजूद है। कुंड सर्वतोभद्र शैली में निर्मित है। कुंड और उसके जल दोनों को बहुत ही दिव्य माना जाता है। कुंड की सीढ़ियों से सटे रास्ते पर, परमार काल के दौरान निर्मित मंदिर की मूर्तिकला भव्यता का प्रतिनिधित्व करने वाली कई छवियां देखी जा सकती हैं।

कुंड के पूर्व में एक बड़े आकार का बरामदा है जिसमें गर्भगृह की ओर जाने वाले मार्ग का प्रवेश द्वार है। बरामदे के उत्तरी भाग में, एक कक्ष में, श्री राम और देवी अवंतिका की छवियों की पूजा की जाती है। मुख्य मंदिर के दक्षिणी भाग में, शिंदे शासन के दौरान निर्मित कई छोटे शैव मंदिर हैं, इनमें वृद्ध महाकालेश्वर, अनादि कल्पेश्वर और सप्तर्षि के मंदिर प्रमुख हैं और वास्तुकला के उल्लेखनीय नमूने हैं।

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के कुछ रहस्य – Interesting Facts of Mahakaleshwar Jyotirlinga

महाकालेश्वर एक बहुत बड़े परिसर में मौजूद है। यहां कई देवी-देवताओं के छोटे-बड़े कई मंदिर हैं। मंदिर में प्रवेश के लिए मुख्य द्वार से लेकर गर्भगृह तक की दूरी तय करनी पड़ती है। ऐसे में कई पक्की सड़कें तय करनी हैं। गर्भगृह में प्रवेश के लिए पक्की सीढ़ी है।

मंदिर में एक प्राचीन तालाब स्थित है, जहां वर्तमान में महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मौजूद है। इसमें स्नान करने से पापमुक्त होकर जीवन में आने वाली कठिनाइयों से मुक्ति मिलती है। आध्यात्मिक मान्यताओं और विद्वानों के अनुसार संपूर्ण पृथ्वी का केंद्र बिंदु और नाभि यहीं है और यहीं से महाकाल संपूर्ण सृष्टि का संचालन करते हैं।

Interesting Facts of Mahakaleshwar Jyotirlinga

इसे तीन भागों में बांटा गया है। निचले हिस्से में महाकालेश्वर, बीच में ओंकारेश्वर और ऊपर के हिस्से में श्री नागचंद्रेश्वर मंदिर दिखाई देता है। गर्भगृह में विराजित भगवान महाकालेश्वर का विशाल शिवलिंग दक्षिण दिशा में है, इसलिए इसे दक्षिणमुखी शिवलिंग कहा जाता है, जिसका ज्योतिष शास्त्र में विशेष महत्व है।

गर्भगृह में आप देवी पार्वती, भगवान गणेश और कार्तिकेय की आकर्षक मूर्तियां देख सकते हैं। गर्भगृह में एक नदी का दीपक स्थापित है, जो हमेशा जलता रहता है।

महाकाल के नाम का रहस्य

महाकाल में भस्म आरती होती है और कहा जाता है कि पहले यहां जलती हुई चिता की राख लाकर पूजा की जाती थी, इसलिए माना जाता था कि महाकाल का संबंध मृत्यु से है, लेकिन यह पूरी तरह सच नहीं है। दरअसल, काल का अर्थ मृत्यु और काल दोनों होता है और माना जाता है कि प्राचीन काल में समस्त संसार का काल यहीं से निर्धारित होता था, इसलिए इसका नाम महाकालेश्वर पड़ा।

दूसरा कारण भी समय से ही जुड़ा था। दरअसल, महाकाल का शिवलिंग तब प्रकट हुआ था जब एक राक्षस को मारना था। भगवान शिव उस राक्षस की मृत्यु के रूप में आए थे और उसी समय अवंती शहर (अब उज्जैन) के निवासियों के अनुरोध पर यहां महाकाल की स्थापना की गई थी। यह काल यानि काल के अंत तक यहीं रहेगा, इसलिए इसे महाकाल भी कहा जाता है।

Mahakaleshwar Jyotirlinga History Story in Hindi

आखिर कोई राजा या मंत्री रात क्यों नहीं गुजारता?

ऐसा माना जाता है कि विक्रमादित्य के समय से ही शहर का कोई भी राजा या मंत्री इस मंदिर के पास रात नहीं गुजारता है। इससे जुड़े कई उदाहरण भी मशहूर हैं, जिनके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल, लंबे समय तक कांग्रेस और तत्कालीन बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, जो ग्वालियर के राजा भी हैं, आज तक यहां रात में नहीं रुके हैं। इतना ही नहीं देश के चौथे प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई भी जब मंदिर में दर्शन कर रात में यहां रुके तो अगले ही दिन उनकी सरकार गिर गई।

इसी तरह, कर्नाटक के मुख्यमंत्री वीएस येदियुरप्पा को उज्जैन में रहने के दौरान कुछ दिनों के भीतर इस्तीफा देना पड़ा। कुछ लोग इस रहस्य को एक संयोग मानते हैं तो कुछ लोगों के अनुसार एक लोककथा के अनुसार भगवान महाकाल इस नगर के राजा हैं और उनके अलावा कोई दूसरा राजा यहां नहीं रह सकता।

भस्म आरती को लेकर भी एक रहस्य है

भस्म आरती की कथा शिवलिंग स्थापना से ही देखने को मिलती है। दरअसल प्राचीन काल में राजा चंद्रसेन शिव के बहुत बड़े उपासक माने जाते थे। एक दिन राजा के मुख से मन्त्र जाप सुनकर एक किसान का पुत्र भी उसके साथ पूजा करने गया, पर सिपाहियों ने उसे विदा कर दिया। वह जंगल के पास पूजा करने लगा और वहां उसे पता चला कि दुश्मन राजा उज्जैन पर हमला करने वाला है और उसने प्रार्थना करते हुए पुजारी को यह बात बताई। यह समाचार आग की तरह फैल गया और उस समय विरोधी दैत्य दूषण सहित उज्जैन पर आक्रमण कर रहे थे। दूषण को भगवान ब्रह्मा से वरदान प्राप्त था कि वह दिखाई नहीं देगा।

Mahakaleshwar Jyotirlinga History Story in Hindi

उस समय सारी प्रजा भगवान शिव की आराधना में लीन हो गई और अपने भक्तों की ऐसी पुकार सुनकर महाकाल प्रकट हो गए। महाकाल ने दूषण को मार डाला और उसकी राख से अपना श्रृंगार किया। इसके बाद वह यहां बैठ गया। तभी से भस्म आरती का प्रचलन हो गया। यह दिन की पहली आरती है। शिवपुराण के अनुसार कपिला गाय के गोबर के ढेले के साथ शमी, पीपल, पलाश, बेर के पेड़ की कन्याएं, अमलतास और बरगद के पेड़ की जड़ को एक साथ जलाया जाता है। इसके बाद ही भस्म बनती है जिससे प्रतिदिन सुबह भगवान शिव की भस्म आरती की जाती है।

How to reach Mahakaleshwar Jyotirlinga – महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कैसे पहुंचे

  • हवाई मार्ग से महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग तक पहुंचने के लिए आपको इंदौर एयरपोर्ट जाना होगा, वहां से महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी करीब 58 किलोमीटर है। वहां से आप टैक्सी के जरिए मंदिर पहुंच सकते हैं।
  • अगर आप ट्रेन से उज्जैन जाना चाहते हैं तो महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के पास उज्जैन जंक्शन है, वहां से मंदिर की दूरी केवल 1.5 किलोमीटर है।
  • महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का निकटतम बस स्टेशन मालीपुरा बस स्टेशन है, यहाँ से स्टेशन की दूरी केवल 9 किलोमीटर है।

Mahakaal Lok corridor

कॉरिडोर में कई चीजें बनाई गई हैं जैसे- शिव तांडव स्त्रोत, शिव विवाह, महाकालेश्वर वाटिका, महाकालेश्वर मार्ग, शिव अवतार वाटिका, धर्मशाला, पार्किंग सर्विस आदि। इस कॉरिडोर के निर्माण के लिए राज्य सरकार द्वारा 422 करोड़ रुपये दिए गए हैं।

Mahakaal Lok corridor

21 करोड़ रुपये मंदिर समिति द्वारा और शेष केंद्र सरकार द्वारा। महाकाल कॉरिडोर परियोजना के तहत रुद्रसागर की तरफ 920 मीटर लंबे कॉरिडोर, महाकाल मंदिर के प्रवेश द्वार, दुकानों, मूर्तियों का निर्माण 7 मार्च 2019 को शुरू हुआ। यह काम गुजरात की एक फर्म करवा रही है। पहले इसे सितंबर 2020 में पूरा किया जाना था। लेकिन अब तक इसे कई बार बढ़ाया जा चुका है।

Lord Mahakaleshwar Ujjain Photos Download Free

Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi
Mahakaleshwar Jyotirlinga Mandir In Hindi
Lord Mahakaleshwar Ujjain Photos Download Free
Lord Mahakaleshwar Ujjain Photos Download Free
mahakaleshwar jyotirlinga photos
mahakaleshwar jyotirlinga images
mahakaleshwar jyotirlinga images
mahakaleshwar jyotirlinga HD images
mahakaleshwar jyotirlinga HD images
Some secrets of Mahakaleshwar Jyotirlinga
Architecture of Mahakaleshwar Jyotirling
mahakaleshwar jyotirlinga bhasma aarti booking
Mahakaleshwar Jyotirlinga History Story in Hindi
Mahakaleshwar Jyotirlinga History Story in Hindi
Lord Mahakaleshwar Ujjain Photos
mahakaleshwar jyotirlinga ujjain
mahakaleshwar jyotirlinga ujjain
mahakaleshwar jyotirlinga images hd
mahakaleshwar jyotirlinga photos today

Mahakaleshwar Jyotirlinga In Hindi, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग, Information about Mahakaleshwar Jyotirlinga, Religious importance of Mahakaleshwar Jyotirlinga, History of Mahakaleshwar Jyotirlinga, Architecture of Mahakaleshwar Jyotirlinga, Opening time of Mahakaleshwar Jyotirlinga, Some secrets of Mahakaleshwar Jyotirlinga, Darshan places near Mahakaleshwar Jyotirlinga, How to reach Mahakaleshwar Jyotirlinga,

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का धार्मिक महत्व, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का इतिहास, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की वास्तुकला, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का खुलने का समय, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के कुछ रहस्य, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के पास के दर्शन स्थल, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कैसे पहुँचें, Mahakaleshwar Jyotirlinga in Hindi, Mahakaleshwar Jyotirlinga History, Architecture of Mahakaleshwar Jyotirlinga, Opening Timing of Mahakaleshwar Jyotirlinga, Some secrets of Mahakaleshwar Jyotirlinga, Mahakaleshwar temple mystery, Mahakaleshwar temple nearest tourist places, Ujjain Mahakaleshwar temple how to reach, Ujjain Mahakaleshwar temple near hotel,

उज्जैन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का इतिहास व कहानी, Mahakaleshwar Jyotirlinga History Story in Hindi, Mahakaal Temple history, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग से जुड़ी कहानी, Story related to Mahakaleshwar Jyotirlinga, Interesting Facts of Mahakaleshwar Jyotirlinga, महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग से जुड़े रोचक व महत्वपूर्ण तथ्य, Temple Of Mahakaleshwar Ujjain, Live Darshan Of Shree Mahakaleshwar, Interesting Facts of Mahakaleshwar Jyotirlinga,


Leave a Comment

चिलचिलाती गर्मी के लिए बेस्ट है जयपुर का यह वाटर पार्क एडवेंचर के हैं शौकीन तो जाए खीर गंगा, जो है हिमाचल की वादियों में बसी। गर्मी से मिलेगी राहत, सिर्फ दो हजार में घूमे दिल्ली के पास इन जगहों पर मई में बजट में घूमने के लिए डलहौजी से लेकर नैनीताल तक परफेक्ट हैं ये जगहें गर्मी की छुट्टियों में घूमने का ले भरपूर मजा इन खूबसूरत हिल स्टेशन पर इस गर्मी जयपुर में एन्जॉय करने के लिए बेस्ट वाटर पार्क 2024 चिलचिलाती गर्मी में कूल वाइब्स के लिए घूम आएं इन ठंडी जगहों पर जयपुर के न्यू हवाई-जहाज वॉटर पार्क के टिकट में बड़ा बदलाव, जानिए जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें