उत्तराखंड का सबसे प्रसिद्ध और सुंदर केदारकांठा ट्रेक की जानकारी: Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi:- केदारकांठा इतना लोकप्रिय विंटर ट्रैक है कि आप इसे विंटर ट्रैक की रानी भी कह सकते हैं। सर्दियों में घुटनों तक गहरी बर्फ, आसपास की घाटियों के मनमोहक दृश्य और सुंदर और आसान रास्ते इसे ट्रेकर्स के बीच बेहद लोकप्रिय बनाते हैं।

यह ट्रैक गोविंद राष्ट्रीय उद्यान के घने देवदार के जंगलों से होकर गुजरता है। केदारकांठा ट्रेक में आपको हरे-भरे घास के मैदान, बर्फ से ढकी सड़कें, आकर्षक गांव, सुगंधित देवदार के जंगल, आसमान छूती चोटियां, शांत नदियां देखने को मिलेंगी। इसके साथ ही गाइड आपको यहां की कुछ लोकप्रिय पौराणिक कहानियों के बारे में भी जानकारी देता रहेगा।

हर साल देश-विदेश से लोग ट्रैकिंग के लिए केदारकांठा आते हैं। सर्दियों में यहां आने वाले पर्यटकों की संख्या काफी बढ़ जाती है। समुद्र तल से लगभग 12500 फीट की ऊंचाई पर स्थित केदारकांठा, गोविंद पशु विहार राष्ट्रीय उद्यान के अंतर्गत गढ़वाल हिमालय उत्तरकाशी, उत्तराखंड क्षेत्र में स्थित है। यह ट्रेक उत्तराखंड के सबसे लोकप्रिय ट्रेक में से एक है। केदार कांठा ट्रेक की ऊंचाई 12,500 फीट है। अब आप समझ गए होंगे कि इतनी ऊंचाई से नजारा कैसा होगा.

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Contents show

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi – केदारकांठा ट्रैक से जुड़ी जानकारी हिंदी में

हिमालय की खूबसूरत घाटियां और ऊंची पर्वत श्रृंखलाएं धरती पर ईश्वर के उपहार से कम नहीं हैं। इसकी गोद में बसा केदारकांठा ट्रेक आज अपनी खूबसूरत घाटियों और खूबसूरत पहाड़ों के लिए भारत का सबसे पसंदीदा पर्यटन स्थल बन गया है। केदारकांठा की चोटी से हिमालय के सबसे खूबसूरत पहाड़ों को देखना एक बहुत ही सुखद अनुभव है। आपको ऐसा महसूस होता है जैसे यह आपको अपनी ओर खींच रहा है। यहां की शांति आपको वह शांति देती है जिसकी आप लंबे समय से तलाश कर रहे थे। इतना ही नहीं, यहां ट्रैकिंग का भी अपना एक अलग ही अनुभव है।

अगर आप भी किसी छोटी यात्रा की योजना बना रहे हैं जो रोमांच और मनोरंजन से भरपूर हो। तो केदारकांठा ट्रेक आपके लिए एक आदर्श स्थान है। आइए जानते हैं केदारकांठा ट्रेक की खास बातें, किस मौसम में यहां जाना चाहिए और यहां कैसे पहुंचें आदि।

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trek Distance From Dehradun, Kedarkantha Trek Hindi Travel Guide, Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trekking Quick Facts in Hindi, Kedarkantha Trek Package Inclusions in Hindi, Kedar Kantha Trek Best Travel Guide in Hindi, Complete Travel Guide Kedar Kantha Trek Uttarakhand in Hindi, Kedar kantha Trek Duration, Kedar kantha Trek Starting Point, Things To Keep In Mind Before Reaching Kedarkantha Trek, Best time and season to trek Kedarkantha, Itinerary of Kedarkantha Trek, History of Kedarkantha Uttarakhand, Kedarkantha Trek Distance, Kedarkantha Trek Images And Photos,

ज्यादातर लोग केदार कंठ और केदारनाथ के नाम को लेकर भ्रमित रहते हैं। ये दोनों एक ही ट्रेक हैं, लेकिन मैं आप सभी को शुरू में ही बताना चाहता हूं कि केदार कांठा एक ट्रेक है, और केदारनाथ उत्तराखंड का एक बहुत प्रसिद्ध मंदिर है, ये दोनों अलग-अलग जगह हैं।

केदारकांठा शिखर के चारों ओर बर्फ से लदी पहाड़ियों का दृश्य और पहाड़ियों तक जाने वाले खूबसूरत रास्ते दूर-दूर से पर्यटकों को केदारकांठा की यात्रा के लिए आकर्षित करते हैं। केदारकांठा की सबसे पसंदीदा चीज़ यहां तक जाने वाला रास्ता और चोटी से दिखने वाला दृश्य है। इसके साथ ही केदारकांठा चोटी से सूर्योदय और सूर्यास्त का दृश्य बेहद अद्भुत होता है, जिसे देखने के लिए पर्यटक सुबह और शाम यहां पहुंचते हैं। केदारकांठा शिखर से हिमालय की 13 चोटियाँ देखी जा सकती हैं।

केदारकांठा ट्रैकिंग से जुड़े कुछ फैक्ट्स – Kedarkantha Trekking Quick Facts in Hindi

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trek Distance From Dehradun, Kedarkantha Trek Hindi Travel Guide, Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trekking Quick Facts in Hindi, Kedarkantha Trek Package Inclusions in Hindi, Kedar Kantha Trek Best Travel Guide in Hindi, Complete Travel Guide Kedar Kantha Trek Uttarakhand in Hindi, Kedar kantha Trek Duration, Kedar kantha Trek Starting Point, Things To Keep In Mind Before Reaching Kedarkantha Trek, Best time and season to trek Kedarkantha, Itinerary of Kedarkantha Trek, History of Kedarkantha Uttarakhand, Kedarkantha Trek Distance, Kedarkantha Trek Images And Photos,
  • ट्रैक का प्रारंभ/अंत बिंदु: सांकरी गांव
  • ट्रैक पूरा करने का समय: 6 दिन 5 रातें
  • केदारकांठा ट्रैक दूरी: 20 किमी
  • केदारकांठा ट्रैक की ऊंचाई: 12,500 फीट
  • केदारकांठा कठिनाई स्तर: आसान से मध्यम
  • केदारकांठा ट्रैक तापमान: दिन (8 डिग्री सेल्सियस से 15 डिग्री सेल्सियस) और रात: (-5 डिग्री सेल्सियस से 3 डिग्री सेल्सियस)
  • केदारकांठा ट्रैकिंग करने का सबसे अच्छा समय: नवंबर से अप्रैल
  • रेलवे स्टेशन: देहरादून निकटतम रेलवे स्टेशन है।
  • हवाई अड्डा: जॉली ग्रांट हवाई अड्डा, देहरादून

केदारकांठा उत्तराखंड का इतिहास – History of Kedarkantha Uttarakhand

Story of Kedarkantha in Hindi:- अधिकांश लोग केदारकांठा को केदारनाथ नाम से जोड़ते हैं। लगभग एक जैसे नाम वाले केदारकांठा और केदारनाथ दो अलग-अलग स्थान हैं जिनकी अपनी-अपनी लोकप्रियता है। लेकिन पौराणिक मान्यताओं के अनुसार लोगों का मानना है कि अगर उस समय यहां लोगों की मौजूदगी नहीं होती तो केदारकांठा भी केदारनाथ हो सकता था। दरअसल, महाभारत काल में भगवान शिव, जो नंदी बैल के अवतार में थे, पांडवों से छिपने के लिए सबसे पहले केदारकांठा आए थे। लेकिन उस समय यहां स्थानीय लोग रहते थे जिससे भगवान शिव की शांति भंग हो गई थी।

सांकरी क्षेत्र के स्थानीय लोगों का मानना है कि महाभारत काल के दौरान, जब भगवान शिव पांडवों से छिपकर यहां ध्यान करने के लिए बैठे थे, तब बुग्यालों में चर रहे जानवरों के गले में बंधी घंटियों से उनका ध्यान भंग हो गया था, जिसके बाद भगवान शिव केदारनाथ की ओर चले गए। यहां के लोगों का मानना है कि केदारकांठा में बना त्रिशूल उनकी रक्षा करता है और उनके लिए पवित्र नदियों के पानी की कभी कमी नहीं होती है।

सांकरी गांव से लगभग 4 किलोमीटर का पहाड़ी रास्ता तय करके “जूड़ा का ताल” स्थान पर पहुंचा जाता है। जूड़ा का ताल पानी का एक तालाब है जिसका पानी आमतौर पर सर्दियों में जमा रहता है। जूडा के तालाब के पीछे पौराणिक कहानी यह है कि जब भगवान शिव तपस्या के लिए केदारकांठा जा रहे थे तो उन्होंने यहां रुककर अपनी जटाएं खोलीं जिससे पानी की दो बूंदें इस स्थान पर गिरीं। इसी वजह से आज यहां एक तालाब है जिसे जूड़ा का ताल के नाम से जाना जाता है।

Kedarkantha Trek Height – केदारकांठा ट्रेक की ऊंचाई

केदारकांठा की सबसे दिलचस्प बात यह है कि इस एक ही ट्रेक से आपको कई ट्रेक देखने को मिलते हैं। जैसे हर की दून घाटी, रुइंसारा घाटी, बाली दर्रा, बोरसू दर्रा, सरुताल, फाचू कंडी दर्रा आदि। इतना ही नहीं यहां से हिमालय की सबसे खूबसूरत पर्वत श्रृंखलाएं भी दिखाई देती हैं। जैसे स्वर्गारोहिणी चोटी (6300 मीटर), ब्लैक पीक (6387 मीटर), बंदरपंच चोटी (6300 मीटर), रूपिन रेंज, सुपिन रेंज, खिमलोगा पीक, बारासर लेक रेंज, विषखारी रेंज, रंगलाना पीक 5800 मीटर) आदि।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

केदारकांठा ट्रेक की दूरी – Kedarkantha Trek Distance

केदारकांठा की यात्रा लगभग 18 किलोमीटर की है जिसे तय करने में एक सामान्य ट्रैकर को लगभग 4-5 दिन लगते हैं। केदारकांठा ट्रेक सांकरी गांव से शुरू होता है। आमतौर पर यह ट्रेक नए ट्रेकर्स के लिए भी आसान माना जाता है लेकिन ट्रेकर्स को इस ट्रेक पर पूरे गियर और उचित सुरक्षा सामग्री के साथ आना चाहिए। जैसे-जैसे हम सांकरी गांव से केदारकांठा की ओर बढ़ते हैं, यह ट्रेक बर्फीला और कठिन हो जाता है, लेकिन कठिनाई के साथ-साथ पर्वत श्रृंखलाओं के नए नज़ारे और दृश्य ट्रेक को रोमांचकारी महसूस कराते रहते हैं।

केदारकांठा चोटी से हिमालय की 13 चोटियां आसानी से देखी जा सकती हैं, जिनमें यमुनोत्री, गंगोत्री, स्वर्गारोहिणी, हिमालय की बंदरपूंछ श्रृंखला, ब्लैक पीक, हर की दून, हिमाचल आदि चार चोटियां शामिल हैं। पर्यटक केदारकांठा बेस के पास स्कीइंग का भी आनंद ले सकते हैं। कई ट्रैकिंग कंपनियां यहां स्कीइंग कराती हैं।

केदारकांठा ट्रैक ट्रैवल टिप्स – Kedarkantha Trek Travel Tips in Hindi

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trek Distance From Dehradun, Kedarkantha Trek Hindi Travel Guide, Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trekking Quick Facts in Hindi, Kedarkantha Trek Package Inclusions in Hindi, Kedar Kantha Trek Best Travel Guide in Hindi, Complete Travel Guide Kedar Kantha Trek Uttarakhand in Hindi, Kedar kantha Trek Duration, Kedar kantha Trek Starting Point, Things To Keep In Mind Before Reaching Kedarkantha Trek, Best time and season to trek Kedarkantha, Itinerary of Kedarkantha Trek, History of Kedarkantha Uttarakhand, Kedarkantha Trek Distance, Kedarkantha Trek Images And Photos,
  • केदारकांठा एक आसान से मध्यम कठिनाई स्तर का ट्रैक है और इस प्रकार शौकिया ट्रेकर्स या पहली बार ट्रैकिंग करने वाले साहसी लोगों के लिए एक आदर्श ट्रैक है।
  • अपने बैग का वजन 10-12 किलो के अंदर रखने की कोशिश करें।
  • इस ट्रेक को केवल अनुभवी पेशेवरों या प्रमाणित टूर गाइड की मदद से करने का विकल्प चुनें।
  • अपने साथ एक अच्छा कैमरा अवश्य रखें क्योंकि बर्फ से ढकी हिमालय की चोटियों और हरी-भरी घाटियों की तस्वीरें खींचने का इससे बेहतर मौका आपको नहीं मिलेगा।
  • मानसून के मौसम के दौरान ट्रैकिंग करने से आम तौर पर बचना चाहिए, खासकर ट्रैकिंग के लिए नए लोगों को, क्योंकि इस क्षेत्र में अक्सर बारिश होती है जिससे बादल फटने, भूस्खलन और सड़कें अवरुद्ध हो सकती हैं।
  • जब तक आपके साथ कोई अनुभवी गाइड न हो, इस ट्रैकिंग पर अकेले न जाएँ। ट्रैकिंग हमेशा दो या दो से अधिक के समूह में करें।

केदारकांठा ट्रेक कहा से शुरू होता है – Kedar kantha Trek Starting Point?

केदार कांठा ट्रेक उत्तराखंड के सांकरी गांव से शुरू होता है। लेकिन यहां पहुंचने के लिए आपको पहले देहरादून पहुंचना होगा। देहरादून से सांकरी गांव की दूरी 197 किलोमीटर है। जिसे करने में आपको 10 से 11 घंटे का समय लगेगा. देहरादून से आपको सुबह जल्दी सांकरी गांव के लिए निकलना चाहिए ताकि आप समय पर यहां पहुंच सकें।

एक खास बात:- सांकरी में प्रवेश करने से पहले फॉरेस्ट परमिट की आवश्यकता होती है। इस परमिट को पाने के लिए आप सांकरी गांव से पहले गोविंद पशु राष्ट्रीय उद्यान पहुंचें, वहां एक चेक पोस्ट है। आप अपना सरकारी अधिकृत आईडी प्रूफ दिखाकर यहां से अपना फॉरेस्ट परमिट बहुत आसानी से प्राप्त कर सकते हैं और आपको सांकरी गांव में प्रवेश करने से पहले यह परमिट दिखाना होगा और एक छोटा सा फॉर्म भरना होगा।

केदारकांठा ट्रैक के लिए देहरादून कैसे पहुंचे – How to reach Dehradun in Hindi

हवाई मार्ग द्वारा: देहरादून के जॉली ग्रांट हवाई अड्डे पर भारत के प्रमुख मेट्रो शहरों से नियमित उड़ानें उपलब्ध हैं।

ट्रेन द्वारा: निकटतम रेलवे स्टेशन देहरादून जंक्शन है, जो पूरे भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

सड़क मार्ग द्वारा: देहरादून सड़क नेटवर्क के माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप या तो देहरादून तक ड्राइव कर सकते हैं या दिल्ली या किसी अन्य नजदीकी शहर से देहरादून पहुंचने के लिए कैब/टैक्सी किराए पर ले सकते हैं।

Itinerary of Kedarkantha Trek – केदारकांठा ट्रेक यात्रा कार्यक्रम

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trek Distance From Dehradun, Kedarkantha Trek Hindi Travel Guide, Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trekking Quick Facts in Hindi, Kedarkantha Trek Package Inclusions in Hindi, Kedar Kantha Trek Best Travel Guide in Hindi, Complete Travel Guide Kedar Kantha Trek Uttarakhand in Hindi, Kedar kantha Trek Duration, Kedar kantha Trek Starting Point, Things To Keep In Mind Before Reaching Kedarkantha Trek, Best time and season to trek Kedarkantha, Itinerary of Kedarkantha Trek, History of Kedarkantha Uttarakhand, Kedarkantha Trek Distance, Kedarkantha Trek Images And Photos,

पहला दिन – देहरादून से सांकरी (Sankri to Dehradun)

  • सुबह देहरादून से यात्रा शुरू होगी
  • ऊंचाई: 6,400 फीट
  • दूरी और समय: 210 km 10 घंटे का रास्ता
  • सांकरी पहुंचने का समय: शाम 5 बजे

सांकरी केदारकांठा ट्रेक का बेस कैंप है। केदारकांठा ट्रेक शुरू करने के लिए आपको देहरादून से सांकरी पहुंचना होगा। इस पहाड़ी रास्ते को तय करने में लगभग 8 से 10 घंटे का समय लगता है। देहरादून से सांकरी पहुंचने के लिए आपको मसूरी, डामटा, नौगांव, पुरोला, मोरी और नटवार होते हुए लगभग 210 किलोमीटर की यात्रा करनी होगी। सांकरी से केदारकांठा के लिए पैदल ट्रेक शुरू हो जाता है।

दूसरा दिन: सांकरी से जुड़ा का तालाब – Sankri to Juda ka Talab

  • ऊंचाई: 4,400 फीट से 9100 फीट
  • ट्रेकिंग: 4 की.मी
  • ट्रेकिंग का समय: 5 घंटे

आपका दूसरा दिन सांकरी से जुड़ा का तालाब तक शुरू होगा। सांकरी से इसकी दूरी लगभग 4 किलोमीटर है। आपकी फिटनेस के स्तर के आधार पर इस यात्रा में आपको लगभग 3-4 घंटे लगेंगे। मैं आपको गारंटी देता हूं कि इस ट्रेक के दृश्य आपको मंत्रमुग्ध कर देंगे।

कुछ स्थानों पर रास्ता थोड़ा कठिन हो सकता है, और यह आपके धैर्य की परीक्षा लेगा। जुड़ा का तालाब 9,100 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। जूडा के तालाब में अलाव का आनंद लें और रात में तारों से भरे आकाश का आनंद लें।

तीसरा दिन: जुदा का तालाब से केदारकांठा बेस कैंप – Juda ka Talab to Kedarkantha Base Camp

आज आपका ट्रेक जुदा का तालाब से केदार कांठा बेस कैंप तक होगा। इसकी दूरी 4 किलोमीटर होगी, आज का ट्रेक अधिक कठिन होगा, आपके फिटनेस लेवल के आधार पर इस ट्रेक को पूरा करने में आपको 4 -6 घंटे लग सकते हैं।

इस मार्ग पर आपको घास के मैदानों और घने जंगलों वाली पहाड़ियों से गुजरना होगा और खड़ी चोटियों पर चढ़ना होगा। इस चढ़ाई के बाद आप केदारकांठा बेस कैंप पहुंचेंगे।

जैसे ही आप पहुंचेंगे सबसे पहले आपको आपके कैंप दिए जाएंगे और फिर आपको लंच दिया जाएगा, उसके बाद आप बेस की इस खूबसूरत लोकेशन को देख सकते हैं और तस्वीरें क्लिक कर सकते हैं। और रात को खाना खाने के बाद आपको जल्दी सोने के लिए कहा जाता है और जल्दी उठने के लिए आपको 8 बजे तक सोना होता है।

चौथा दिन: केदारकांठा बेस कैंप में केदारकांठा चोटी फिर हरगांव से उतराई-Kedarkantha Peak and descend down to Juda ka Talab

अब यही वह दिन है जब आप पहाड़ों पर विजय प्राप्त करेंगे, अगले दिन आपका ट्रेक सुबह 3 बजे शुरू होगा, इसके लिए आपको सुबह 2 बजे उठना होगा, सुबह 3 बजे चढ़ाई करने का एक कारण वो ये कि आप सुबह 6 बजे चढ़ाई कर सकते हैं. जिससे आप शिखर पर पहुंचकर सूर्योदय का बेहद खूबसूरत नजारा देख सकते हैं।

और आपकी फिटनेस की असली परीक्षा आज होगी. बेस कैंप से 6 किलोमीटर की कुल दूरी आपको 11250 फीट से 12500 फीट तक ले जाएगी, क्या अद्भुत दिन है, यह दिन आपके ट्रेक का सबसे साहसिक दिन होगा जो आपको हमेशा याद रहेगा। आज के दिन आपको काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे और खूब मौज-मस्ती भी होगी।

आज आप केदारकांठा शिखर से सफेद और गहरे नीले बादलों को एक साथ बहुत करीब से देख सकते हैं। यह दृश्य सचमुच आपको मंत्रमुग्ध कर देगा। ये नजारा इतना शानदार है कि इसे शब्दों में बयां करना नामुमकिन है. केदारकांठा की चोटी से आप हिमालय पर्वतमाला का 360° दृश्य देख सकते हैं।

आपको यहां भगवान गणेश का एक छोटा मंदिर के साथ-साथ भगवान शिव और देवी पार्वती का एक छोटा मंदिर भी देखने को मिलेगा। अपना समय लें और कुछ देर यहां आराम करें और इस जगह की सुंदरता को निहारें और यहां के माहौल को महसूस करें। इस जगह का शब्दों में वर्णन करना बहुत मुश्किल है। यहां से हरगांव पहुंचने में आपको 2 घंटे लगेंगे। जैसे-जैसे आप आगे बढ़ते हैं, देवदार के पेड़ों के घने जंगल के रास्ते धीरे-धीरे गायब होने लगते हैं। यह 2 घंटे से अधिक की कठिन और थकाऊ चढ़ाई होगी।

पाँचवाँ दिन: हरगांव कैम्प से सांकरी – Juda ka Talab to Sankri Village

आज आप घने देवदार के जंगलों से होते हुए 2500 फीट नीचे उतरकर सांकरी पहुंचेंगे। 6 किमी. इस ट्रेक पर उतरने में 4 घंटे लगेंगे। नाश्ते के बाद हम दूसरे चिन्हित रास्ते से नीचे उतरेंगे, जो थोड़ा पथरीला होगा। हम शाम तक सांकरी पहुँच जायेंगे। आप यहां के आसपास के बाजारों से लकड़ी के खिलौने और लकड़ी के घर की सजावट का सामान खरीद सकते हैं।

छठा दिन: सांकरी से देहरादून (Sankri to Dehradun)

नाश्ते के बाद, वापस देहरादून के लिए ड्राइव करें। यह एक लंबी यात्रा है, इसलिए उसी के अनुसार योजना बनाएं। शाम या रात तक देहरादून पहुंचें, जहां आप या तो रात भर रुक सकते हैं या देर रात ट्रेन या फ्लाइट पकड़ सकते हैं।

कृपया ध्यान दें कि ट्रैकिंग की स्थितियाँ मौसम और मौसम के आधार पर भिन्न हो सकती हैं, इसलिए केदारकांठा ट्रेक पर निकलने से पहले स्थानीय परिस्थितियों की जांच करना और सभी आवश्यक तैयारी करना महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, सुरक्षा और नेविगेशन के लिए किसी प्रतिष्ठित ट्रैकिंग संगठन या स्थानीय गाइड के साथ इस ट्रेक पर जाने की सलाह दी जाती है।

केदारकांठा ट्रैक करने का सबसे अच्छा समय और मौसम – Best time and season to trek Kedarkantha

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trek Distance From Dehradun, Kedarkantha Trek Hindi Travel Guide, Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trekking Quick Facts in Hindi, Kedarkantha Trek Package Inclusions in Hindi, Kedar Kantha Trek Best Travel Guide in Hindi, Complete Travel Guide Kedar Kantha Trek Uttarakhand in Hindi, Kedar kantha Trek Duration, Kedar kantha Trek Starting Point, Things To Keep In Mind Before Reaching Kedarkantha Trek, Best time and season to trek Kedarkantha, Itinerary of Kedarkantha Trek, History of Kedarkantha Uttarakhand, Kedarkantha Trek Distance, Kedarkantha Trek Images And Photos,

केदारकांठा एक ऐसा ट्रेक है जिस पर हर मौसम में जाया जा सकता है। खैर, आपको यहां उस मौसम में आना चाहिए जो आपके अनुकूल हो। लेकिन सर्दियों के मौसम में यहां की खूबसूरती एक अलग ही तस्वीर दिखाती है। यहां चारों ओर सफेद बर्फ की मोटी चादर बिछी हुई है जो इसकी खूबसूरती को और भी बढ़ा देती है। केदारकांठा के मौसम में सर्दियों में यहां का तापमान ‘-3 डिग्री’ तक पहुंच जाता है। इसे भारत में उत्तराखंड के सबसे पसंदीदा ‘विंटर ट्रेक’ के रूप में जाना जाता है। ट्रेकर्स ज्यादातर सर्दियों में यहां आना पसंद करते हैं। हालाँकि, यहाँ अप्रैल महीने तक भी बर्फ जमी रहती है।

अगर आप सर्दियों में केदारकांठा की यात्रा करना चाहते हैं तो आपके लिए सबसे अच्छा समय नवंबर के मध्य से अप्रैल के मध्य तक है। सर्वोत्तम ट्रैकिंग अनुभव प्राप्त करने के लिए, इन महीनों के दौरान केदारकांठा की योजना बनाएं। गर्मियों में यहां का मौसम (केदारकांठा मौसम) ठंडा रहता है और तापमान 6 डिग्री से 20 डिग्री के बीच रहता है। आपको यहां मानसून के दौरान नहीं जाना चाहिए क्योंकि हिमालय में मौसम अप्रत्याशित होता है। कब बारिश होगी और कितनी देर तक होगी, इसका अंदाजा लगाना नामुमकिन है। वैसे भी मानसून के दौरान फिसलन के कारण भूस्खलन का खतरा भी बढ़ जाता है।

केदारकांठा जाने के लिए ध्यान रखने वाली बातें – Things To Keep In Mind Before Reaching Kedarkantha Trek

  • अगर आप किसी ट्रैकिंग एजेंसी के जरिए ट्रेक पर जा रहे हैं तो पहले एजेंसी के सभी नियमों को समझ लें। अगर आप किसी स्थानीय गाइड की मदद ले रहे हैं तो गाइड से जरूरी नियम पूछ लें।
  • केदारकांठा एक बर्फीला ट्रेक है इसलिए आवश्यक गर्म कपड़े और सभी ट्रैकिंग गियर अपने साथ रखें।
  • खाने-पीने का सामान अपने पास रखें. कुछ समय बाद रूट पर किसी भी तरह की कोई सुविधा नहीं मिलेगी.
  • ट्रैकिंग के दौरान अस्पताल या क्लिनिक जैसी कोई चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं होती है।
  • ट्रेक पर मोबाइल नेटवर्क की सुविधा उपलब्ध नहीं है। इसके अलावा ठंड के कारण इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की बैटरी जल्दी खत्म हो जाती है।
  • ट्रैकिंग के लिए सबसे महत्वपूर्ण गियर जूतों पर ध्यान दें। ट्रैकिंग के लिए अच्छे जूतों का प्रयोग करें।
  • पहाड़ी रास्ते पर सभी प्रकार के खतरों से सावधान रहें जैसे पहाड़ी से पत्थर गिरना, जंगली जानवर, फिसलन आदि।

Kedarkantha Trek Images And Photos

Tags-

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trek Distance From Dehradun, Kedarkantha Trek Hindi Travel Guide, Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trekking Quick Facts in Hindi, Kedarkantha Trek Package Inclusions in Hindi, Kedar Kantha Trek Best Travel Guide in Hindi, Complete Travel Guide Kedar Kantha Trek Uttarakhand in Hindi, Kedar kantha Trek Duration, Kedar kantha Trek Starting Point, Things To Keep In Mind Before Reaching Kedarkantha Trek, Best time and season to trek Kedarkantha, Itinerary of Kedarkantha Trek, History of Kedarkantha Uttarakhand, Kedarkantha Trek Distance, Kedarkantha Trek Images And Photos,

Information Related To Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trek Distance From Dehradun, Kedarkantha Trek Hindi Travel Guide, Kedarkantha Trek In Hindi, Kedarkantha Trekking Quick Facts in Hindi, Kedarkantha Trek Package Inclusions in Hindi, Kedar Kantha Trek Best Travel Guide in Hindi, Complete Travel Guide Kedar Kantha Trek Uttarakhand in Hindi, Kedar kantha Trek Duration, Kedar kantha Trek Starting Point, Things To Keep In Mind Before Reaching Kedarkantha Trek, Best time and season to trek Kedarkantha, Itinerary of Kedarkantha Trek, History of Kedarkantha Uttarakhand, Kedarkantha Trek Distance,

Kedarkantha trek photos download, Best kedarkantha trek photos, kedarkantha trek distance, kedarkantha photos, kedarkantha hd images, kedarkantha trek package,


Leave a Comment

जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य