ओंकारेश्वर में घूमने की 10 खास जगहें और इतिहास की जानकरी: Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi

Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi:- भारत में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग हैं। 12 ज्योतिर्लिंगों में से चतुर्थ ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर मध्य प्रदेश राज्य के खंडवा जिले में स्थित है। भगवान शिव के ज्योतिर्लिंग के अलावा, ओंकारेश्वर शानदार प्राकृतिक सुंदरता भी प्रदान करता है। ओंकारेश्वर चारों ओर पहाड़ों से गिरता हुआ एक बहुत ही सुंदर और पवित्र शहर है। तो आइए आज हम आपको ओंकारेश्वर में घूमने लायक जगहों (Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi) के बारे में बताते हैं।

भारत के हृदय राज्य यानी मध्य प्रदेश में घूमने के लिए कुछ ऐसी अद्भुत जगहें (Omkareshwar tourist places) हैं, जहां जाने के बाद विदेशों का भी मजा फीका लगने लगता है। यहां Pachmarhi Hill Station और Tamiya Hill Station आदि अनगिनत खूबसूरत जगहें हैं। मध्य प्रदेश की इन्हीं अद्भुत जगहों में शामिल है ओंकारेश्वर। नर्मदा और कावेरी नदियों के संगम पर स्थित ओंकारेश्वर भारतीय लोगों के लिए बहुत पवित्र स्थान है। यह जगह एक अद्भुत हिल स्टेशन (Omkareshwar Tourist Places In Hindi) के रूप में भी पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi
Contents show

Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In HINDI – ओंकारेश्वर पर्यटन स्थल और दर्शनीय स्थल की जानकरी 

नर्मदा और कावेरी नदियों के संगम पर स्थित, ओंकारेश्वर दो पवित्र घाटियों और नर्मदा के पानी के विलय के कारण हिंदू धार्मिक प्रतीक ‘ओम’ के आकार का है। इसका नाम ‘ओंकार’ से लिया गया है जो भगवान शिव का एक नाम है। मांधाता द्वीप पर स्थित, ओंकारेश्वर 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है जो हर साल हजारों भक्तों को आकर्षित करता है। इसके दो प्राचीन मंदिर हैं – ओंकारेश्वर और अमरकेश्वर। तीर्थ स्थलों के अलावा, इस पवित्र शहर में वास्तुशिल्प चमत्कार और प्राकृतिक सुंदरता भी शामिल है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

मध्य प्रदेश में स्थित ओंकारेश्वर भारत के सबसे पवित्र शहरों में से एक है जिसका आकार ओम प्रतीक के समान है। पूरा क्षेत्र पहाड़ों से घिरा हुआ है और यह बहुत ही सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है। द्वीप के चारों ओर की परिक्रमा को बहुत धार्मिक माना जाता है। धार्मिक यात्रा की दृष्टि से ओंकारेश्वर बहुत अच्छा है। यहां आपको ज्यादातर मंदिर ही मिलेंगे। तो आज के इस आर्टिकल (Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi) में हम ओंकारेश्वर के पर्यटन और दर्शनीय स्थलों (Omkareshwar Tourist Places In Hindi) के बारे में बताने जा रहे हैं।

Omkareshwar Jyotirlinga Mandir Mandhata Madhya Pradesh In Hindi – ओंमकारेश्वर ज्योतिर्लिगं मंदिर मान्धाता मध्य प्रदेश 

Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi

ओंकारेश्वर मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल (famous tourist places of madhya pradesh) है। ओंकारेश्वर मंदिर एक अत्यंत प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर बेहद खूबसूरत है. इस मंदिर के गर्भगृह में 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक स्थापित है। इस मंदिर के अंदर आपको खूबसूरत नक्काशी देखने को मिलती है। इस मंदिर में बने खंभों पर भी सुंदर नक्काशी की गई है। यहां आपको शिवलिंग के दर्शन होते हैं।

यहां अनेक शिवलिंग विराजमान हैं। यह ओंकारेश्वर मंदिर में नर्मदा नदी के बीच बने एक द्वीप पर स्थित है। आप इस द्वीप तक पुल और नाव के जरिए पहुंच सकते हैं। यहां आपको खूबसूरत मंदिर देखने और ओंकारेश्वर शिवलिंग के दर्शन करने को मिलेंगे। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है. यहां पर नर्मदा नदी का नजारा देखने लायक होता है। यहां दूर-दूर से लोग ज्योतिर्लिंग के दर्शन के लिए आते हैं। यहां आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां के वातावरण में शांति है. आप यहां अपने परिवार और दोस्तों के साथ घूमने आ सकते हैं।

Kedareshwar Temple In Hindi – ओंकारेश्वर पर्यटन स्थल केदारेश्वर मंदिर 

केदारेश्वर मंदिर ओंकारेश्वर (Kedareshwar Temple Omkareshwar in Hindi) ओंकारेश्वर के प्रमुख मंदिरों में से एक है। यह मंदिर मांधाता पर्वत पर नर्मदा नदी के तट पर बना हुआ है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है. यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण 13वीं शताब्दी में परमार शासकों ने करवाया था।

इस मंदिर में आपको गर्भगृह देखने को मिलता है। गर्भगृह में भगवान शिव और गर्भगृह के बाहर भगवान नंदी की मूर्ति विराजमान है। यहां आपको खूबसूरत नक्काशी भी देखने को मिलती है। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं।

Ahilya Ghat places to visit in Omkareshwar in hindi – ओंकारेश्वर मे घूमने की जगह अहिल्या घाट 

Ahilya Ghat places to visit in Omkareshwar in hindi

ओंकारेश्वर में नर्मदा नदी के तट पर स्थित अहिल्या घाट भी घूमने के लिए एक बेहतरीन जगह है। जहां पर्यटक डुबकी लगाते हैं। आपको बता दें कि यहां नदी अपना विस्तार रूप धारण कर लेती है. इसी बात को ध्यान में रखते हुए इस घाट पर जंजीरें लगाई गई हैं. जिससे पर्यटक दुबके रहते हैं तो उन्हें किसी भी प्रकार का खतरा नहीं होता है।

Siddhanath Temple Omkareshwar In Hindi – ओंकारेश्वर दर्शनीय स्थल सिद्धनाथ मंदिर

Siddhanath Temple Omkareshwar In Hindi

ओंकार मांधाता मंदिर के पास स्थित 13वीं सदी का सिद्धनाथ मंदिर भी यहां का एक महत्वपूर्ण मंदिर है और वास्तुकला की दृष्टि से दिलचस्प है। सिद्धांत मंदिर को शहर का सबसे करिश्माई वास्तुशिल्प सौंदर्य माना जाता है। यह मांधाता द्वीप पर एक छोटे से पठार पर स्थित एक संरक्षित प्राचीन संरचना है। इस मंदिर पर महमूद गजनवी ने हमला किया था लेकिन यह आज भी उसकी शक्ति का प्रतीक है।

मंदिर के स्तंभों और दीवारों पर की गई विस्तृत नक्काशी इसके आध्यात्मिक मूल्य के साथ-साथ समृद्ध वास्तुकला का भी प्रतिनिधित्व करती है। अपने अनूठे स्थापत्य सौंदर्य के कारण यह ओंकारेश्वर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में गिना जाता है। सुबह 6:00 बजे से 8:00 बजे के बीच मंदिर में दर्शन किया जा सकता है। मंदिर बस स्टैंड से 1.8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

Mamleshwar Temple Omkareshwar – ममलेश्वर मंदिर ओंकारेश्वर

Mamleshwar Temple Omkareshwar

ममलेश्वर, जिसे अमरेश्वर के नाम से भी जाना जाता है, ओंकारेश्वर का प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर की वास्तुकला आपको आश्चर्यचकित कर देगी। इस मंदिर में भगवान शंकर और माता पार्वती की मूर्तियां स्थापित की गई हैं। इस मंदिर में पर्यटकों के साथ-साथ श्रद्धालु भी आते रहते हैं।

Kailash Dham and Nakshatra Garden Omkareshwar – कैलाश धाम और नक्षत्र गार्डन ओंकारेश्वर

कैलाश धाम और नक्षत्र गार्डन ओंकारेश्वर का प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह स्थान धार्मिक के साथ-साथ प्राकृतिक सुंदरता से भी भरपूर है। यह स्थान मांधाता पर्वत का केंद्र बिंदु है। यहां आपको भगवान शिव की बेहद खूबसूरत और विशाल मूर्ति देखने को मिलती है। यहां आपको आयुर्वेदिक पौधे देखने को मिलते हैं, जो औषधीय गुणों से भरपूर हैं। इन पौधों को नक्षत्र के अनुसार लगाया गया है और यहां आपको पेड़ का नाम, नक्षत्र का नाम, देवता का नाम और उसके वानस्पतिक नाम के बारे में जानकारी मिलती है। आपको यहां आकर अच्छा लगेगा. यहां आपको कल्पवृक्ष भी देखने को मिलेगा।

Sri Govinda Bhagavatpada Cave In Hindi – श्री गोविंदा भगवतपद गुफा 

श्री गोविंदा भगवत्पाद गुफा को हिंदुओं द्वारा बहुत धार्मिक माना जाता है, इस गुफा में एक मुख्य हॉल और एक छोटा गर्भगृह है जिसमें एक शिवलिंग है। यह वह गुफा है जहां गुरु शंकराचार्य ने गोविंदा भगवत्पाद ग्रंथ से अपनी शिक्षा सीखी थी। ऐसा माना जाता है कि यहीं पर शंकराचार्य ने महान संत गोविंद भगवतपाद से मुलाकात की थी और उनसे आध्यात्मिक शिक्षा और उनके कर्म प्राप्त किए थे। यह भी माना जाता है कि शंकराचार्य ने नदी के पानी को एक कमंडल (छोटा कटोरा) में डालकर शहर को एक बड़ी बाढ़ से बचाया था, जिसे उन्होंने गुफा के मुहाने के पास रखा था।

यह भी कहा जाता है कि आदि शंकराचार्य घने जंगलों, घाटियों और राजसी पहाड़ों के माध्यम से हजारों मील पैदल चलकर गोविंदा भगवत्पाद तक पहुंचे, जहां नर्मदा के तट पर उनकी एक गुफा थी। आप सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे के बीच गुफाओं के दर्शन कर सकते हैं। ये विशाल गुफाएं बस स्टैंड से 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं।

Fanase Ghat In Hindi – ओंकारेश्वर मे घूमने की जगह फनसे घाट

फनसे घाट ओंकारेश्वर का एक महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल है। जहां पर्यटक डुबकी लगाकर खुद को पापमुक्त मानते हैं। नर्मदा के तट पर बना यह घाट पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। इसके अलावा आप इस घाट के आसपास घूम भी सकते हैं, जिसके लिए आपको 1 से 2 घंटे का समय लग सकता है।

Gauri Somnath Temple In Hindi – ओंकारेश्वर टूरिस्ट स्पॉट गौरी सोमनाथ मंदिर

अपने डिजाइन और कलाकृति में खजुराहो के मंदिरों के समान, गौरी सोमनाथ मंदिर में काले पत्थर से बना 6 फीट का विशाल लिंग है। यहां देवी पार्वती और शिव की मूर्ति एक साथ देखी जा सकती है। इसकी स्थापत्य सुंदरता की एक झलक पाने के लिए लगभग 200 सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं। मंदिर में सुबह 5:00 बजे से शाम 6:00 बजे के बीच दर्शन किए जा सकते हैं। मंदिर बस स्टैंड से केवल 0.6 किमी दूर है और 4 मिनट में आसानी से पहुंचा जा सकता है। गौरी सोमनाथ मंदिर ओंकारेश्वर में मांधाता द्वीप पर स्थित है।

Omkareshwar Tourism Peshawar Ghat In Hindi – ओंकारेश्वर पर्यटन स्थल पेशावर घाट

पेशावर घाट घाटियों से उठी चोटियों, पारदर्शी बहती नदियों और राजसी पर्वत श्रृंखलाओं से घिरा हुआ है – ओंकारेश्वर उन पर्यटन स्थलों में से एक है जो सुंदरता और धर्म का मिश्रण पेश करता है। लोग नर्मदा नदी में पवित्र स्नान करने के लिए इस स्थान पर आते हैं। जगह का शांतिपूर्ण वातावरण और प्राकृतिक सुंदरता इसे शांति चाहने वालों के लिए एक आदर्श स्थान बनाती है। घाट पर जाने का सही समय महाशिवरात्रि है। पेशावर घाट पर दिन के किसी भी समय जाया जा सकता है। इस जगह पर जाने के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं है।

पेशावर घाट ओंकारेश्वर बस स्टैंड से 39.5 किलोमीटर की दूरी पर है। यह दूरी एक घंटे में तय की जा सकती है।

Omkareshwar Dam In Hindi – ओंकारेश्वर बांध घूमने जाने लायक जगह

ओंकारेश्वर बांध नर्मदा नदी पर खंडवा जिले के पास मांधाता में बनाया गया एक बांध है। इसका नाम इसके सामने स्थित ओंकारेश्वर मंदिर के नाम पर रखा गया है। बांध का निर्माण 2003 और 2007 के बीच 132,500 हेक्टेयर (327,000 एकड़) की सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध कराने के उद्देश्य से किया गया था। बांध के आधार पर एक पनबिजली स्टेशन भी स्थित है जिसकी क्षमता 520 मेगावाट है।

Omkareshwar Jyotirlinga History in Hindi – ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग का इतिहास व कहानी

कहा जाता है कि यह समुद्र तट ओम के आकार का है। यहां अहिल्याबाई होल्कर द्वारा प्रतिदिन मिट्टी के 18 शिवलिंग तैयार किये जाते हैं और उन्हें नर्मदा नदी में विसर्जित किया जाता है। मंदिर की इमारत पांच मंजिला है। यह ज्योतिर्लिंग पंचमुखी है। लोगों का मानना है कि भगवान शिव तीनों लोकों का भ्रमण करने के बाद यहीं विश्राम करते हैं।

इसीलिए यहां रात्रि में भगवान शिव की शयन आरती की जाती है। कहा जाता है कि यहां भक्तों के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। ऐसा भी कहा जाता है कि भले ही आप सारी तीर्थ यात्राएं कर लें, लेकिन ओंकारेश्वर के दर्शन के बिना आपकी यात्रा अधूरी है। इसलिए यहां दूर-दूर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं।

omkareshwar jyotirlinga madhya pradesh hindi

स्टोरी 1

एक बार नारद जी भ्रमण करते हुए विंध्याचल पर्वत पर पहुंचे। वहां पर्वतराज विंध्याचल ने नारद जी का स्वागत किया और नारद जी के सामने पहुंचकर कहा कि मैं सभी गुणों से परिपूर्ण हूं, मेरे पास सब कुछ है, सभी प्रकार की संपत्ति है। विन्ध्याचल की अहंकार भरी बातें सुनकर नारद जी लम्बी साँस लेकर चुपचाप खड़े रहे। तब विंध्याचल ने नारद जी से पूछा कि आपको मुझमें कौन सी कमी नजर आई। जिसे देखकर आपने लंबी सांस ली. तब नारद जी ने कहा कि तुम्हारे पास सब कुछ है लेकिन तुम सुमेरु पर्वत से ऊंचे नहीं हो।

उस पर्वत का एक भाग देवताओं के लोक तक पहुँच गया है और आपके शिखर का एक भाग वहाँ कभी नहीं पहुँचेगा। इतना कहकर नारद जी वहां से चले गए। परंतु विंध्याचल वहीं खड़ा होकर बहुत दुखी हुआ और मन ही मन विलाप करने लगा। तभी उन्होंने भगवान शिव की आराधना करने का निश्चय किया। जहां साक्षात ओंकार विद्यमान है, वहां उन्होंने शिवलिंग स्थापित किया और प्रसन्न मन से 6 महीने तक लगातार पूजा की। इस प्रकार भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए और वहां प्रकट हुए। उन्होंने विन्ध्य से कहा कि मैं तुमसे बहुत प्रसन्न हूँ। आप कोई भी वरदान मांग सकते हैं.

तब विन्ध्य ने कहा कि यदि आप सचमुच मुझ पर प्रसन्न हैं तो मुझे वह बुद्धि दीजिए जिससे मेरा कार्य सिद्ध हो जाए। तब शिव जी ने उनसे कहा कि मैं तुम्हें वरदान देता हूं कि तुम जिस प्रकार का कार्य करना चाहते हो वह पूरा हो जाएगा। वरदान देने के बाद कुछ देवता और ऋषि-मुनि भी वहां आ गये। उन सभी ने भगवान शिव की पूजा की और प्रार्थना की कि हे भगवन्! आप सदैव यहीं विराजमान रहें.

भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए. लोक कल्याण करने वाले भगवान शिव ने उन लोगों की बात मान ली और वह ओंकार लिंग दो लिंगों में विभक्त हो गया। विंध्य द्वारा निर्मित पार्थिव लिंग को परमेश्वर लिंग के नाम से जाना जाता है और जहां भगवान शिव की स्थापना की गई थी उसे ओंकार लिंग कहा जाता है। परमेश्वर लिंग को अमलेश्वर लिंग भी कहा जाता है और तभी से ये दोनों शिवलिंग जगत में प्रसिद्ध हो गये।

स्टोरी 2

एक और कहानी भी प्रचलित है. राजा मान्धाता ने इसी पर्वत पर घोर तपस्या करके भगवान शिव को प्रसन्न किया था। तपस्या से भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए और प्रकट हुए। तब राजा मान्धाता ने भगवान शिव से सदैव यहीं विराजमान रहने को कहा।

तभी से भगवान शिव वहीं विराजमान हैं। इसीलिए इस नगरी को ओंकार-मान्धाता भी कहा जाता है। इस क्षेत्र में 68 तीर्थस्थल हैं और कहा जाता है कि यहां 33 करोड़ देवी-देवता निवास करते हैं। यहां नर्मदा जी में स्नान का विशेष महत्व है। नर्मदा जी के दर्शन मात्र से ही आपके सभी पाप दूर हो जाते हैं।

omkareshwar jyotirlinga madhya pradesh hindi

स्टोरी 3

एक कथा यह भी है- एक बार देवताओं और दानवों में युद्ध हुआ। दैत्यों ने देवताओं को परास्त कर दिया। देवता इसे सहन नहीं कर सके और हताशा में भगवान शिव से विनती की और प्रार्थना की। उनकी भक्ति देखकर भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए और ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के रूप में स्थापित हुए और राक्षसों को हराया।

इस मंदिर में कुबेर ने भगवान शिव का शिवलिंग बनाकर तपस्या की थी। वह शिव का भक्त था। उसकी भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उसे धनवान बना दिया। भगवान शिव ने अपनी जटाओं से काबेरी नदी बनाई थी, जिसमें कुबेर ने स्नान किया था। वही काबेरी नदी ओंकार पर्वत की परिक्रमा करते हुए नर्मदा नदी में मिल जाती है। इसे नर्मदा-कबेरी का संगम कहा जाता है।

आदि शंकर गुफा के बारे में एक किंवदंती यह भी है कि आदि शंकराचार्य की मुलाकात अपने गुरु गोविंद पादाचार्य से इसी गुफा में हुई थी। आज भी यह गुफा शिव मंदिर के नीचे स्थित है, जिसमें आदि शंकराचार्य की छवि देखी जा सकती है। इस पवित्र स्थान की भूमि पर कदम रखते ही भक्तों के कष्ट दूर हो जाते हैं। यहां भगवान शिव के दर्शन मात्र से ही ऐसा लगता है मानों आपने साक्षात भगवान शिव के दर्शन कर लिए हों।

Best Time To Visit Omkareshwar In Hindi – ओंकारेश्वर घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय

omkareshwar jyotirlinga madhya pradesh hindi

ओंकारेश्वर की यात्रा वर्ष के किसी भी समय की जा सकती है, लेकिन जुलाई से अप्रैल के महीनों में यात्रा करना सबसे अच्छा है। ओंकारेश्वर की यात्रा के लिए अक्टूबर से मार्च का समय भी सबसे अच्छा है। हालाँकि, आप मानसून के दौरान भी जा सकते हैं क्योंकि यहाँ वर्षा औसतन होती है। दशहरा उत्सव के दौरान यह शहर बहुत आकर्षक होता है और यदि संभव हो तो आपको उस दौरान अवश्य आना चाहिए।

How To Reach Omkareshwar In Hindi – ओंकारेश्वर कैसे पहुंचे 

ओंकारेश्वर की यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालु और पर्यटक फ्लाइट, ट्रेन या बस किसी से ट्रेवल करके आसानी से जा सकते है तो आइये नीचे डिटेल में जानते है की हम फ्लाइट, ट्रेन और सड़क मार्ग से ओंकारेश्वर केसे जाएँ।

  • देवी अहिल्याभाई होल्कर हवाई अड्डा (इंदौर) ओंकारेश्वर का निकटतम हवाई अड्डा है। वहां से आप ओंकारेश्वर पहुंचने के लिए ट्रेन, बस या कार ले सकते हैं।
  • ओंकारेश्वर नियमित बस/कैब सेवा द्वारा इंदौर, खंडवा और उज्जैन से जुड़ा हुआ है। आसपास के अधिकांश शहरों और कस्बों से ओंकारेश्वर के लिए बसें उपलब्ध हैं।
  • ओंकारेश्वर का अपना रेलवे स्टेशन है जिसका नाम ओंकारेश्वर रेलवे स्टेशन है जो ओंकारेश्वर शहर से 12 किमी की दूरी पर स्थित है। यह रतलाम-खंडवा रेलवे लाइन पर स्थित है। सबसे अच्छा कनेक्टेड रेल हेड खंडवा (लगभग 70 किमी) है, जो नई दिल्ली, बैंगलोर, मैसूर, लखनऊ, चेन्नई, कन्याकुमारी, पुरी, अहमदाबाद, जयपुर और रतलाम जैसे शहरों को जोड़ता है।

Omkareshwar Jyotirlinga Images

Places To Visit In Omkareshwar In Hindi, Places To Visit In Omkareshwar Jyotirlinga In Hindi, Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi, Omkareshwar Jyotirlinga History in Hindi, Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi, Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi, Omkareshwar Jyotirlinga Tourist Places In Hindi


Leave a Comment

वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें शिमला – मनाली में शुरू हुई भारी बर्फबारी, देखे जन्नत से भी खूबसूरत तस्वीरें माता वैष्णो देवी भवन में हुई ताजा बर्फबारी, भवन ढका बर्फ की चादर से। सिटी पैलेस जयपुर के बारे में 10 रोचक तथ्य जान चकरा जायेगा सिर Askot: उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जो है खूबसूरती से भरपूर Khatu Mela 2024: खाटू श्याम मेला में जाने से पहले कुछ जरूरी जानकारी 300 साल से अधिक समय से पानी में डूबा है जयपुर का ये अनोखा महल राम मंदिर के दर्शन की टाइमिंग में हुआ बदलाव, जानिए नया शेड्यूल अयोध्या में श्री राम मंदिर में राम लला विराजमान, देखे पहली तस्वीरें अयोध्या में श्री राम की मूर्ति का रंग क्यों है काला? जाने इसके पीछे का रहस्य अयोध्या राम मंदिर: अद्भुत रोचक तथ्य जो आपको जानना चाहिए राजस्थान का कश्मीर जो है हरियाली से भरपूर खूबसूरत हिल स्टेशन