जाने भानगढ़ के खतरनाक भूतों की सच्चाई: History of Bhangarh Fort Alwar In Hindi

History of Bhangarh Fort Alwar In Hindi:- भानगढ़ किले को भूतिया बताने के पीछे कई कहानियां प्रचलित हैं। भूतों की इन कहानियों को वैज्ञानिक खारिज कर चुके हैं, लेकिन यहां के लोगों का कहना है कि यहां अजीबोगरीब घटनाएं होती रहती हैं। भानगढ़ किले को भारत में सबसे प्रेतवाधित जगह के रूप में जाना जाता है और यह किला शायद सबसे बड़ा अनसुलझा रहस्य बना हुआ है। रहस्यमयी होने के कारण यह जगह कई लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचती है। यहां की भूतिया कहानियों के कारण कई पर्यटक इसे अपनी यात्रा सूची में जरूर रखते हैं।

History of Bhangarh Fort Alwar In Hindi

आपको बता दें कि आज हम जिस किले की बात कर रहे हैं उसकी भूतिया कहानी की वजह से Archaeological Survey of India यानी ASI द्वारा लोगों और पर्यटकों को रात में किले में प्रवेश करने की सख्त मनाही है। हम जिस किले की बात करने जा रहे हैं उसका नाम “Bhangarh Ka Kila” है। यह किला आज खंडहर में तब्दील हो चुका है। इस किले के बारे में कहा जाता है कि यह भूतों का निवास स्थान है। लोग यहां जाने से भी डरते हैं। इस किले से जुड़ी कई अजीबोगरीब और यहाँ गठित कहानियां सुनने को मिलती हैं। तो आइए जानते हैं आज के इस ब्लॉग में इससे जुड़े सभी सवालों और कहानियों के बारे में विस्तार से –

Contents show

Bhangarh Fort About in Hindi – भानगढ़ किले के बारे में हिंदी में जाने

Bhangarh Fort Rajasthan के अलवर जिले की अरावली रेंज में सरिस्का वन्यजीव अभयारण्य (Sariska Wildlife Sanctuary) की बॉर्डर पर स्थित है। गोला गांव इस किले के पास स्थित है। भानगढ़ का किला एक ढलान वाले क्षेत्र में पहाड़ियों की तलहटी में स्थित है, जो बहुत ही डरावना दिखता है। यह किला अपनी बनावट से ज्यादा अपनी भूतिया कहानियों के कारण चर्चा में रहता है। भानगढ़ किले में राजा के महल के खंडहर पहाड़ियों की निचली ढलानों पर स्थित हैं।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

ज्यादातर लोगों का मानना है कि भानगढ़ का किला भूतिया है और इसकी कई कहानियों के कारण लाखों लोग यहां घूमने की इच्छा रखते हैं। सूर्यास्त के बाद किले में प्रवेश करना बहादुरी और मूर्खता का कार्य है, क्योंकि यह असामान्य गतिविधियों का केंद्र माना जाता है। यही वजह है कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग ने यहां रात में जाने पर रोक लगा दी है।

History of Bhangarh Fort Alwar In Hindi

इस किले का निर्माण 17वीं शताब्दी में हुआ था। इस किले के अंदर हिंदू देवी-देवताओं के कई मंदिर बने हुए हैं जिनमें Hanuman Temple, Ganesh Temple, Gopinath Temple and Shiva Temple प्रमुख हैं। किले के अंदर कुछ हवेलियां और महल भी बने हुए हैं। बाहरी आक्रमणकारियों से सुरक्षा के लिए किले के चारों ओर बहुत ऊंची दीवार बनाई गई है। इस किले के अंदर जाने के लिए पांच प्रवेश द्वार बनाए गए हैं। लेकिन आज ज्यादातर किले खंडहर में तब्दील हो चुके हैं। इस किले की सुरक्षा और रखरखाव भारत सरकार के संरक्षण विभाग द्वारा किया जाता है।

 किले का नाम भानगढ़ किला
 राज्य राजस्थान
 निर्माणकाल सन 1573
 निर्माणकर्ता राजा भगवत दास
 किसके लिए बनवाया था माधो सिंह प्रथम के लिए
 किस राजकुमारी के कारण किले का नाश हुवा राजकुमारी रत्नावती
History of Bhangarh Fort Alwar In Hindi
Bhangarh Fort temples

History of Bhangarh Fort Alwar In Hindi – भानगढ़ किले अलवर का इतिहास हिंदी में

Bhangarh kila ko Kisne Banwaya tha – 17वीं शताब्दी में राजस्थान में बना यह भानगढ़ किला प्राचीन काल का नमूना है। कहा जाता है कि भानगढ़ किले का निर्माण आमेर के राजा भगवंत दास ने अपने छोटे पुत्र माधोसिंह प्रथम के लिए 1583 ई. में करवाया था।

भानगढ़ किले के इतिहास के बारे में लोगों की अलग-अलग राय है। इस किले के बारे में अजीबोगरीब और अजीबोगरीब अलग-अलग कहानियां सुनने को मिलती हैं, जिनमें से हम सबसे चर्चित कहानियों के बारे में बात करेंगे –

Bhangarh Fort Story In Hindi

Bhangarh Fort Story In Hindi – भानगढ़ किले के विनाश की कहानी

भानगढ़ किले के बारे में पहली कहानी बताती है कि एक तपस्वी के श्राप के कारण यह किला शापित और बर्बाद हो गया। कहा जाता है कि इस किले के निर्माण से पहले किले की जमीन के बगल में एक तपस्वी की कुटिया हुआ करती थी। जब राजा माधोसिंह इस किले का निर्माण शुरू कर रहे थे, तब उस कुटिया में रहने वाले तपस्वी ने राजा से कहा कि आप किले का निर्माण कर रहे हैं लेकिन मेरी एक शर्त है कि आपके किले की छाया मेरी कुटिया पर नहीं पड़नी चाहिए। यदि ऐसा होता है, तो मैं तुम्हें श्राप दूंगा। यदि आप मेरी यह शर्त स्वीकार करते हैं तो आप अपना किला बना सकते हैं।

तपस्वी की बात मानकर राजा ने किले का निर्माण शुरू किया, लेकिन राजा के महत्वाकांक्षी अधिकारियों ने किले को जरूरत से ज्यादा ऊंचा बना दिया। जिससे तपस्वी की कुटिया पर इस किले की छाया पड़ने लगी। किले की छाया अपनी कुटिया पर पड़ती देखकर तपस्वी को बहुत क्रोध आया और उसने भानगढ़ के इस किले को श्राप दे दिया। उस तपस्वी के श्राप के कारण भानगढ़ का किला धीरे-धीरे खंडहर में तब्दील हो गया। खंडहर में तब्दील होने के बाद यहां कोई नहीं रहने के कारण यह किला वीरान हो गया। इस किले के वीरान होने के कारण लोग इस किले को नकारात्मक ऊर्जा (भूत, प्रेत, आत्मा)से जोड़कर देखने लगे।

Bhangarh Fort Story In Hindi

राजकुमारी रत्नावती की सुंदरता से भानगढ़ के विनाश की कहानी

भानगढ़ किले के बारे में दूसरी कहानी बताती है कि एक तांत्रिक के श्राप के कारण किला पूरी तरह से बर्बाद हो गया और खंडहर में बदल गया और प्रेतवाधित हो गया। कहा जाता है कि इस किले के विनाश का कारण एक सुन्दर राजकुमारी थी। स्थानीय लोगों का कहना है कि भानगढ़ के इस किले में एक बेहद खूबसूरत राजकुमारी रहती थी, जिसका नाम रत्नावती था। हर कोई उसकी खूबसूरती के कारण उसे देखना चाहता था। जब वह 18 साल की हुई तो उसके लिए अलग-अलग राज्यों के राजकुमारों के रिश्ते आने लगे। एक बार राजकुमारी अपनी सखियों के साथ भानगढ़ बाजार घूमने गई।

पूरे बाजार में कपड़े, चूड़ी और अन्य सभी दुकानों को देखने के बाद वह एक इत्र की दुकान पर पहुंची। राजकुमारी को इत्र बहुत पसंद था इसलिए वह इत्र की दुकान पर रुक गई। एक इत्र पसंद आने पर उसे महल में भिजवाने को कहा राजकुमारी से थोड़ी दूरी पर एक व्यक्ति खड़ा था उसका नाम सिंधिया सेवड़ा था जो उस समय का बहुत बड़ा तांत्रिक था। जो राजकुमारी को एक नजर से देख रहा था।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

तांत्रिक ने इस खूबसूरत राजकुमारी को देखा तो वह उसकी सुंदरता को देखकर उसके प्यार में पड़ गया, लेकिन तांत्रिक जानता था कि राजकुमारी उसे कभी प्यार नहीं करेगी। इसलिए तांत्रिक ने राजकुमारी को वश में करने के लिए राजकुमारी को जादुई पेय पानी पिलाने की कोशिश की। लेकिन तांत्रिक की इस चाल के बारे में राजकुमारी को पता चल गया। इसलिए राजकुमारी ने उसी समय तांत्रिक को गिरफ्तार करवाकर उसे तुरंत मृत्युदंड दे दिया।

तांत्रिक की मृत्यु के कुछ महीनों बाद भानगढ़ और अजबगढ़ के राज्य के बीच युद्ध हुआ। जिसमें भानगढ़ की हार हुई और वहां के सभी लोग मारे गए, जिसमें राजकुमारी रत्नावती की भी मृत्यु हो गई। इसके बाद पूरा भानगढ़ वीरान हो गया। लोगों का मानना है कि वहां मारे गए लोगों की आत्माएं आज भी भटकती हैं। इसलिए भानगढ़ किले को भुतहा किला भी कहा जाने लगा है।

prohibited to enter Bhangarh Fort at night

स्थानीय निवासियों के अनुसार यहाँ घटित घटनाएं

Most Hunted Place in India– भानगढ़ की कहानियों को वैज्ञानिक खारिज करते हैं, लेकिन गांव वाले अब भी इस किले को भूतिया मानते हैं। स्थानीय निवासियों का कहना है कि उन्होंने एक महिला के चीखने, चूड़ियां तोड़ने और रोने की आवाजें सुनी हैं। साथ ही उनका कहना है कि किले से संगीत की आवाजें भी आती हैं और कभी-कभी उन्हें परछाइयां भी दिखाई देती हैं।

कुछ लोगों को लगता है कि कोई उनका पीछा कर रहा है और उन्हें पीछे से थप्पड़ मार रहा है। स्थानीय निवासियों का कहना है कि वहां से अजीब सी गंध भी आती है। इन्हीं कारणों से सूर्यास्त के बाद किले के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं और किले में प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया जाता है। हालांकि ये कहानियां मनगढ़ंत हैं या वास्तविक, इस बारे में कोई कुछ नहीं कह सकता।

भानगढ़ किले में रात के समय प्रवेश करना क्यों मना है – Why is it prohibited to enter Bhangarh Fort at night?

अगर आप भी भानगढ़ किले की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि भानगढ़ किले में सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद किसी को भी प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। जब आप भानगढ़ किले के पास जाते हैं, तो आपको भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा लगाया गया एक बोर्ड दिखाई देगा। जिसमें यहां आने वाले पर्यटकों को अंधेरे के समय इस किले के अंदर न जाने की चेतावनी लिखी गई है।

Most Hunted Place in India

लोगों को भानगढ़ किले के बारे में बताया जाता है कि इस किले में रात के समय भूत और आत्माएं घूमती हैं। और वही लोग यहाँ रात के समय राज करते है। भानगढ़ के इस किले में रात के समय कई अजीबोगरीब आवाजें भी सुनाई देती हैं। यहां तक कि कुछ लोगों का कहना है कि एक समय कुछ लोग इस भानगढ़ किले में रात के समय गए थे, लेकिन उनमें से बहुत कम लोग ही बाहर लौट पाए, बाकी का कुछ पता नहीं चला।

राजस्थान में भानगढ़ किले की यात्रा का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Bhangarh Fort in Rajasthan

आप साल के किसी भी समय भानगढ़ किले की यात्रा कर सकते हैं, लेकिन आप जानते हैं कि अप्रैल से जुलाई तक राजस्थान में कितनी गर्मी पड़ती है। इसलिए इस समय किले में बहुत कम लोग आते हैं।

आपको बता दें कि भानगढ़ किले की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च तक का है। ऐसा इसलिए क्योंकि बारिश के मौसम के बाद भानगढ़ का किला और भी खूबसूरत और आकर्षक हो जाता है। और इस समय यहां गर्मी भी कम होती है। तो अगर आप भी यहां घूमने का प्लान बना रहे हैं तो आपके लिए इस दौरान यहां की यात्रा करना उचित रहेगा।

Bhangarh Fort Ticket Price – भानगढ़ किले में जाने के लिए प्रवेश शुल्क

Bhangarh Fort Entry Fee in Hindi- यदि आप भानगढ़ किले के अंदर जाना चाहते हैं और यदि आप भारतीय हैं तो आपको ₹25 का प्रवेश शुल्क देना होगा। लेकिन वही अगर आप विदेशी पर्यटक हैं तो आपको एंट्री फीस के तौर पर ₹200 देने होंगे। और अगर आप इस किले के अंदर अपने साथ एक कैमरा ले जाना चाहते हैं तो आप भारतीय या विदेशी कहीं भी हों, आपको ₹200 का अतिरिक्त शुल्क देना होगा।

  • भारतीयों के लिए : 25 रूपये
  • विदेशियों के लिए : 200 रूपये
  • वीडियो कैमरे का चार्ज : 200 रूपये

Bhangarh Fort Entry Timing – भानगढ़ किला में प्रवेश करने का समय

भानगढ़ किले के अंदर जाने और वापस आने का समय भी निर्धारित किया गया है। भानगढ़ के इस किले में आप सुबह 6:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक घूम सकते हैं। पर्यटकों को शाम को 6:00 बजे तक बाहर आना पड़ता है और शाम को 6:00 बजे के बाद इस किले में किसी का भी आना पूरी तरह से प्रतिबंधित है।

How to reach Bhangarh Fort

How to reach Bhangarh Fort – भानगढ़ फोर्ट कैसे पहुंचें?

सड़क मार्ग से: भानगढ़ किला, जिसे भानगढ़ किला भी कहा जाता है, दिल्ली से लगभग 300 किमी दूर है। बेहतर होगा कि आप सुबह जल्दी निकल जाएं और सूर्यास्त से पहले किले का भ्रमण करें, क्योंकि सूर्यास्त के बाद किले में जाना प्रतिबंधित है। इसके अलावा आप भानगढ़ किले के साथ नीमराना, जयपुर, सरिस्का, अलवर भी अपनी कार लेकर या किराए पर लेकर जा सकते हैं।

ट्रेन यात्रा: वैकल्पिक रूप से, आप नई दिल्ली से अलवर के लिए शताब्दी एक्सप्रेस ले सकते हैं और फिर भानगढ़ किले के लिए टैक्सी की व्यवस्था कर सकते हैं। हालांकि, ट्रेन के लिए बुकिंग पहले से करनी होगी। याद रखें कि भानगढ़ के आसपास कोई होटल या रेस्टोरेंट नहीं है। हालांकि रास्ते में आपको ढाबे की सुविधा मिल जाएगी, लेकिन यात्रा के लिए घर से खाना पैक कर लें तो बेहतर होगा। हालांकि रास्ते में ढाबे मिलना इतना मुश्किल नहीं है।

भानगढ़ किले के पास कोई हवाई अड्डा नहीं है, लेकिन भानगढ़ किले का निकटतम हवाई अड्डा जयपुर में है। जो इस किले से 89 किलोमीटर दूर है। वहां से आप बस, टैक्सी या कैब के जरिए आसानी से भानगढ़ किले तक पहुंच सकते हैं।

भानगढ़ का किला क्यों प्रसिद्ध है – Why is Bhangarh Fort Famous?

भानगढ़ गांव अपने ऐतिहासिक खंडहरों के लिए जाना जाता है। भानगढ़ का किला चारों तरफ से घिरा हुआ है, जिसके अंदर प्रवेश करते ही कुछ हवेलियों के अवशेष दिखाई देते हैं। यहां स्थित भानगढ़ किला भारत के प्रसिद्ध प्रेतवाधित स्थानों में से एक है। भानगढ़ राजस्थान के अलवर जिले के राजगढ़ नगरपालिका में स्थित है। भानगढ़ सरिस्का टाइगर रिजर्व के किनारे स्थित है।

सामने बाजार है, जिसमें सड़क के दोनों ओर कतार में बनी दो मंजिला दुकानों के खंडहर मौजूद हैं। भानगढ़ का किला चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है, बारिश के मौसम में इस जगह की खूबसूरती देखने लायक होती है। भानगढ़ को दुनिया की सबसे डरावनी जगहों में से एक माना जाता है, कहा जाता है कि यहां आज भी भूतों का वास होता है। भानगढ़ किले में सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद किसी को भी ठहरने की अनुमति नहीं है।

Bhangarh Fort Alwar Photos

Bhangarh Fort Alwar Photos
Bhangarh Fort Ticket Price

History of Bhangarh Fort Alwar In Hindi, Why is Bhangarh Fort Famous, How to reach Bhangarh Fort, Bhangarh Fort Entry Timing, Bhangarh Fort Ticket Price, Best Time To Visit Bhangarh Fort in Rajasthan, Why is it prohibited to enter Bhangarh Fort at night, Most Hunted Place in India, Bhangarh Fort Story In Hindi, Bhangarh kila ko Kisne Banwaya tha, History of Bhangarh Fort Alwar In Hindi, Bhangarh Fort Rajasthan, Bhangarh Fort About in Hindi, History of Bhangarh Fort Alwar, भानगढ़ का भूतिया किला,

bhangarh fort photos, bhangarh fort distance from jaipur, bhangarh fort story in hindi, bhangarh fort ticket price, bhangarh fort history, bhangarh fort timings, bhangarh fort jaipur, bhangarh fort reviews, bhangarh fort at night, bhangarh fort kha h, bhangarh fort history in hindi, bhangarh fort location, bhangarh fort entry fee, bhangarh fort opening time, bhangarh fort timings and entry fee,


Leave a Comment

बेहद सुकून और प्रदूषण मुक्त सीक्रेट हिल स्टेशन जो है नैनीताल के करीब चिलचिलाती गर्मी के लिए बेस्ट है जयपुर का यह वाटर पार्क एडवेंचर के हैं शौकीन तो जाए खीर गंगा, जो है हिमाचल की वादियों में बसी। गर्मी से मिलेगी राहत, सिर्फ दो हजार में घूमे दिल्ली के पास इन जगहों पर मई में बजट में घूमने के लिए डलहौजी से लेकर नैनीताल तक परफेक्ट हैं ये जगहें गर्मी की छुट्टियों में घूमने का ले भरपूर मजा इन खूबसूरत हिल स्टेशन पर इस गर्मी जयपुर में एन्जॉय करने के लिए बेस्ट वाटर पार्क 2024 चिलचिलाती गर्मी में कूल वाइब्स के लिए घूम आएं इन ठंडी जगहों पर जयपुर के न्यू हवाई-जहाज वॉटर पार्क के टिकट में बड़ा बदलाव, जानिए जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें