गढ़ गणेश मंदिर जयपुर जहां गणेश जी की पूजा बाल रूप में होती है: Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi

Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi:- गणेश जी को प्रथम पूज्य देवता कहा जाता है। इनकी पूजा करने से घर के सभी विघ्न दूर होते हैं। विवाह की पत्रिका सबसे पहले गणेश जी के चरणों में रखी जाती है, कहा जाता है कि शुभ कार्यों में सबसे पहले गणेश जी की कृपा आवश्यक होती है।

देश में गणेश जी के कई मंदिर हैं और उन सभी में वह सूंड लेकर विराजमान हैं। लेकिन देश का एकमात्र मंदिर जयपुर शहर में अरावली पर्वतमाला पर स्थित है, जहां बिना सूंड के गणेश जी की प्रतिमा है। यह मंदिर गढ़ गणेश के नाम से विख्यात है। क्योंकि यहां उनके बाल रूप की पूजा की जाती है। बुधवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालु अपनी मनोकामना लेकर मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं। देश भर से लोग यहां लम्बोदर गजानन भगवान गणेश के दर्शन करने आते हैं।

एक ऊंची पहाड़ी पर होने के कारण यह मंदिर दूर से देखने पर किसी दिव्य मुकुट के समान नजर आता है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now
Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi

Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi – गढ़ गणेश मंदिर जयपुर

गणेश जी का यह अनोखा मंदिर राजस्थान के जयपुर में स्थित है। यह Garh Ganesh Mandir के नाम से प्रसिद्ध है। जयपुर के उत्तर में स्थित यह मंदिर अरावली की ऊंची पहाड़ी पर मुकुट के समान दिखाई देता है। जयपुर में स्थित गणेश जी के प्राचीन मंदिर (Ancient Temple of Ganesha) में गणेश जी की मूर्ति बाल रूप में विराजमान है।

यह मंदिर काफी प्राचीन है, मंदिर तक पहुंचने के लिए करीब 500 मीटर की चढ़ाई चढ़नी पड़ती है। निजी साधन से प्रसिद्ध गैटोर की छतरिया पहुंचने के बाद यहां से चढ़ाई शुरू होती है।

मंदिर इतनी ऊंचाई पर स्थित है जहां पहुंचने के बाद जयपुर का अध्बुध नजारा दिखाई देती है। गढ़ गणेश मंदिर से पूरा शहर दिखाई देता है। यहां से पूरा पुराना शहर दिखाई देता है। एक ओर पहाड़ी पर नाहरगढ़, दूसरी ओर पहाड़ी के नीचे जलमहल, यहाँ से सामने नगर बसावट का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। बारिश में यह पूरा इलाका हरियाली से आच्छादित हो जाता है।

Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi

Location of Garh Ganesh Temple Jaipur – गढ़ गणेश मंदिर कहां स्थित है ?

गढ़ गणेश मंदिर ब्रह्मपुरी जयपुर के पास स्थित है और शहर के बाहरी इलाके में गैटर रोड पर स्थित है। यह जयपुर रेलवे स्टेशन से 7 किमी की दूरी पर है और बसें और टैक्सी आसानी से उपलब्ध हैं। यह मंदिर अरावली पहाड़ी पर स्थित है जो जयपुर के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों (Famous religious places of Jaipur) में से एक है।

गढ़ गणेश मंदिर के गर्भगृह में फोटो लेने पर सख्त मनाही है, जबकि मंदिर परिसर में फोटो लेने पर कोई रोक नहीं है, इसलिए देश-विदेश के अधिकांश पर्यटक यहां प्रोटोग्राफी और वीडियोग्राफी करते देखे जा सकते हैं।

Garh Ganesh Temple Jaipur History In Hindi – गढ़ गणेश मंदिर जयपुर इतिहास

अधिकांश लोगों का मानना है कि राजस्थान में जयपुर शहर के उत्तर में स्थित अरावली पर्वत श्रंखला में नाहरगढ़ किले की पहाड़ी के पास एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित ‘Garh Ganesh Mandir‘ की स्थापना 18वीं शताब्दी में हुई थी। लेकिन, कई स्थानीय लोगों का यह भी मानना है कि पौराणिक काल में भी यह मंदिर यहां स्थापित हुआ करता था और इसकी मूर्तियों को विदेशी आक्रमणकारियों ने नष्ट कर दिया था और यहां से बड़ी मात्रा में कीमती आभूषण, सोना और हीरे मोती आदि लूट कर ले गए।

कई इतिहासकारों और स्थानीय लोगों का मानना है कि महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय ने इस स्थान पर उसी प्राचीन मंदिर के अवशेषों का एक बार फिर से जीर्णोद्धार कराया था। इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि जिस पहाड़ी पर यह गढ़ गणेश मंदिर स्थापित है, उस पहाड़ी की तलहटी में सवाई जयसिंह द्वितीय ने ‘अश्वमेध यज्ञ’ का आयोजन किया था और उसके बाद ही इस जयपुर शहर को सामरिक तथा आर्थिक महत्व देेने के लिए विस्तार की नींव रखी थी। इसलिए कहा जा सकता है कि गढ़ गणेश का यह मंदिर प्राचीन काल में भी यहां स्थापित हुआ करता था, जिसका जीर्णोद्धार सवाई जय सिंह द्वितीय ने 18वीं शताब्दी में यानी 1740 ई. में करवाया था।

इसके अलावा, ‘गढ़ गणेश मंदिर’ के नाम के बारे में कहा जाता है कि क्योंकि यह मंदिर भी जयगढ़ और नाहरगढ़ के किले के पास एक पहाड़ी पर एक किले यानी किला के समान बना हुआ है, इसलिए इस मंदिर को एक प्रकार से भगवान गणेश का किला अर्थात गढ़ कहा गया और स्थानीय लोगों में यह मंदिर गढ़ गणेश मंदिर के नाम से प्रसिद्ध हो गया। महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने गुजरात के विशेष पंडितों को यहां बुलाकर 1740 ई. में यहां ‘अश्वमेध यज्ञ’ किया और उसके बाद उन्होंने इस मंदिर के साथ-साथ जयपुर शहर की भी नींव रखी।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Instagram Channel (Join Now) Follow Now

महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय ने उसमें गणेश जी की मूर्ति स्थापित की और मंदिर का निर्माण इस प्रकार करवाया कि सिटी पैलेस के ‘चंद्र महल’ की ऊपरी मंजिल से वह हर सुबह दूरबीन की सहायता से मूर्ति को देख सकते थे। दरअसल, जिस ‘चंद्र महल’ में महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय अपने राजपरिवार के सदस्यों के साथ रहते थे, वह आज जयपुर की शान कहे जाने वाले ‘City Palace‘ का हिस्सा है।

Jaipur Garh Ganesh Temple Timings

गढ़ गणेश के इस मंदिर में प्रसाद चढ़ाते समय मंत्रों का जाप करना उचित माना जाता है। गणेश चतुर्थी के दूसरे दिन गणेश जी के इस मंदिर में भव्य मेले का आयोजन किया जाता है, जिसमें लाखों लोग भाग लेते हैं। आप जानते ही होंगे जैसे सोमवार भगवान शिव का दिन होता है और मंगलवार हनुमान जी का दिन होता है। इसी तरह बुधवार को गणेश जी का दिन माना जाता है, जिस कारण बुधवार के दिन इस मंदिर में काफी संख्या में लोग जुटते हैं।

गढ़ गणेश मंदिर जयपुर तक पहुंचने के लिए चढ़नी पड़ती है 365 सीढ़ियां

जानकारों के मुताबिक करीब 500 फीट की ऊंचाई पर बने गढ़ गणेश मंदिर तक पहुंचने के लिए हर रोज सीढ़ी का निर्माण किया जाता था. इस तरह पूरे 365 दिनों तक एक-एक सीढ़ी का निर्माण चलता रहा। आज अपनी मनोकामना पूर्ति के लिए दूर-दूर से सैकड़ों भक्त 365 सीढ़ियां चढ़कर मंदिर पहुंचते हैं और बिना सूंड वाले बालक रूप में भगवान गणेश के दर्शन करते हैं।

गढ़ गणेश मंदिर के 300 साल बीतने पर भी गणेश जी की तस्वीर सामने नहीं आई

इस मंदिर की स्थापना के साथ ही यहां फोटोग्राफी पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। मंदिर के गर्भगृह में स्थित मूर्ति की कभी तस्वीर नहीं ली गई थी। ऐसे में मंदिर की स्थापना के करीब 300 साल बाद भी भगवान गणेश की तस्वीर सामने नहीं आई। भगवान को देखने मात्र से देखा जा सकता है।

मंदिर की खास बात यह है कि सवाई जय सिंह के वास्तुकारों ने मंदिर का निर्माण ऐसी जगह करवाया था कि राजा सिटी पैलेस से खड़े होकर प्रतिदिन सुबह और शाम मंदिर में आरती देख सकते थे। पहाड़ी पर एक ही दिशा में गढ़ गणेश, गोविंद देव मंदिर, सिटी पैलेस और अल्बर्ट हॉल को एक दूसरे के समानांतर बनाया गया था।

Jaipur Garh Ganesh Temple Timings

Best Time To Visit Garh Ganesh Temple Jaipur – गढ़ गणेश मंदिर जयपुर जाने का सबसे अच्छा समय

आप इस गढ़ गणेश मंदिर को पूरे साल प्लान कर सकते हैं। यह सभी मौसम का ट्रेक है, लेकिन इसका ज्यादा इंजॉय उठाने के लिए सुबह जल्दी प्लान बनाने की कोशिश करें।

मानसून का मौसम: इस ट्रेक का पूरा आनंद लेने का सबसे अच्छा समय मानसून का मौसम है। पूरा ट्रेकिंग ट्रेल आश्चर्यजनक हरी वनस्पतियों से आच्छादित होगा, जलवायु शानदार होगी और आसपास का वातावरण अद्भुत होगा। मानसून के मौसम में आप इस ट्रेक का आनंद जरूर लेंगे।

सर्दी का मौसम: इस ट्रेक की योजना बनाने के लिए सर्दियों का मौसम भी एक अच्छा समय है। यदि आप सुबह जल्दी शुरू करते हैं, तो आप पहाड़ी पर ट्रेकिंग करते हुए हर जगह कोहरा और ओस देख सकते हैं, जो सबसे सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है।

गर्मी का मौसम: आप इस ट्रेक को गर्मी के मौसम में भी प्लान कर सकते हैं, बशर्ते आपको सुबह जल्दी शुरुआत करनी हो। चूंकि जयपुर में गर्मी अविश्वसनीय रूप से गर्म होती है और आप ट्रेक का आनंद नहीं ले सकते हैं।

Garh Ganesh Temple Jaipur Entry Fee

CategoryTicket Cost per head
Entry FeeFree ( No Entry Fee)
Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi
Best Time To Visit Garh Ganesh Temple Jaipur

Jaipur Garh Ganesh Temple Timings:

OpenedAll Days of the Week
Morning Timings5.30 am to 12.00 Noon
Evening Timings4. 00 pm to 7.00 pm
Temple Closed at7. 30 pm
Jaipur Garh Ganesh Temple Timings

Garh Ganesh Temple Jaipur Darshan Timings

DarshanTimings
Morning Darshan5.00 am to 12.00 Noon
Evening Darshan4.30 pm to 7.00 pm
Note:  विशेष दिनों और त्यौहार के दिनों में भिन्न हो सकता है

Garh Ganesh Temple Jaipur Seva Details:

Seva / Rituals / Pooja Timings
Mangala5.30 am to 6.00 am
Dhup7.00 am to 7.45 am
Shringar8.30 am to 10.30 am
Raj Bhog11.00 am to 12.00 Noon
Temple Closes12.30 am to 4.00 pm
Gwal4.30 pm to 5.00 pm
Sandhya5.15 pm to 6.00 pm
Shayan6.00 pm to 6.30 pm
Temple Closed7.00 pm
Best Time To Visit Garh Ganesh Temple Jaipur

How to Reach Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi – गढ़ गणेश मंदिर कैसे जाएं 

सड़क मार्ग से: गढ़ गणेश मंदिर ब्रह्मपुरी जयपुर के पास स्थित है और शहर के बाहरी इलाके में गैटर रोड पर स्थित है। यह जयपुर रेलवे स्टेशन से 7 किमी की दूरी पर है और बसें और टैक्सी आसानी से उपलब्ध हैं।

रेल द्वारा: जयपुर जयपुर रेलवे स्टेशन से जुड़ा हुआ है जो दिल्ली, आगरा, मुंबई, चेन्नई, बीकानेर, जोधपुर, उदयपुर, अहमदाबाद रेलवे स्टेशनों जैसे प्रमुख शहरों से भी जुड़ा हुआ है।

वायु द्वारा: गढ़ गणेश मंदिर जयपुर हवाई अड्डे के माध्यम से पहुँचा जा सकता है, जिसे सांगानेर हवाई अड्डे के रूप में भी जाना जाता है, जो दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, अहमदाबाद, जोधपुर और उदयपुर से नियमित घरेलू उड़ानों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

यह सड़क पूरी तरह से पहाड़ी है और इसके दोनों ओर पेड़-पौधे नजर आते हैं। बरसात के मौसम में इस पूरे रास्ते और गढ़ गणेश मंदिर के चारों ओर हरियाली ही हरियाली दिखाई देती है, इसलिए प्रकृति प्रेमी बारिश के मौसम में ज्यादातर समय यहां आते हैं और हरियाली और शहरी भीड़ से दूर एकांत और शांत वातावरण का अनुभव करते हैं। किया हुआ देखा जा सकता है।

गढ़ गणेश मंदिर के प्रांगण से पुराने जयपुर शहर का नजारा साफ देखा जा सकता है। इसके अलावा पहाड़ी के एक तरफ नाहरगढ़ किला और दूसरी तरफ जलमहल साफ देखा जा सकता है।

How to Reach Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi

Interesting Facts About Garh Ganesh Temple – गढ़ गणेश मंदिर के बारे में रोचक तथ्य

  • पिंक सिटी के विपरीत यह मंदिर पीले रंग का है।
  • मंदिर तक पहुंचने का एकमात्र रास्ता 500 मीटर की पैदल यात्रा है।
  • मंदिर में 365 सीढ़ियाँ हैं, जो साल के 365 दिनों को दर्शाती हैं।
  • इस मंदिर का निर्माण तांत्रिक अनुष्ठानों का उपयोग करके किया गया था।
  • कई सालों से इस मंदिर में बिजली नहीं थी। स्थानीय नेता स्वर्गीय गिरधारी लाल भार्गव के प्रयासों से ही मंदिर का विद्युतीकरण किया गया था।
  • जयपुर के महाराजा रोज सुबह दूरबीन से मूर्ति के दर्शन करते थे।

Garh Ganesh Temple Jaipur Photos

Garh Ganesh Temple Jaipur Photos
Garh Ganesh Temple Jaipur Photos

टैग्स- Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi, Garh Ganesh Temple Jaipur Photos, How to Reach Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi, Garh Ganesh Temple Jaipur History In Hindi, Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi, Garh Ganesh Temple Jaipur, Garh Ganesh Temple, Interesting Facts About Garh Ganesh Temple, Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi, Garh Ganesh Temple Jaipur In Hindi,


Leave a Comment

बेहद सुकून और प्रदूषण मुक्त सीक्रेट हिल स्टेशन जो है नैनीताल के करीब चिलचिलाती गर्मी के लिए बेस्ट है जयपुर का यह वाटर पार्क एडवेंचर के हैं शौकीन तो जाए खीर गंगा, जो है हिमाचल की वादियों में बसी। गर्मी से मिलेगी राहत, सिर्फ दो हजार में घूमे दिल्ली के पास इन जगहों पर मई में बजट में घूमने के लिए डलहौजी से लेकर नैनीताल तक परफेक्ट हैं ये जगहें गर्मी की छुट्टियों में घूमने का ले भरपूर मजा इन खूबसूरत हिल स्टेशन पर इस गर्मी जयपुर में एन्जॉय करने के लिए बेस्ट वाटर पार्क 2024 चिलचिलाती गर्मी में कूल वाइब्स के लिए घूम आएं इन ठंडी जगहों पर जयपुर के न्यू हवाई-जहाज वॉटर पार्क के टिकट में बड़ा बदलाव, जानिए जयपुर का यह फेमस वाटर पार्क मार्च 2024 में इस डेट को हो रहा है ओपन घूमे भारत के 10 सबसे खूबसूरत एवं रोमांटिक हनीमून डेस्टिनेशन वीकेंड पर दिल्ली के आसपास घूमने वाली 10 बेहतरीन जगहें मसूरी में है भीड़ तो घूमे चकराता, खूबसूरत नजारा आपका मन मोह लेगा। जेब में रखिए 5 हजार और घूम आएं इन दिल को छू लेने वाली जगहों पर वीकेंड में दिल्ली से 4 घंटे के अंदर घूमने की बेहद खूबसूरत जगहे गुलाबी शहर कहे जाने वाले जयपुर के प्लेसेस की खूबसूरत तस्वीरें रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग के लिए फेमस है उत्तराखंड का ये छोटा कश्मीर उत्तराखंड का सीक्रेट हिल स्टेशन जहां बसती है शांति और सुंदरता हनीमून के लिए बेस्ट हैं भारत की ये सस्ती और सबसे रोमांटिक जगहें Gulmarg Snowfall: गुलमर्ग में बिछी बर्फ की सफेद चादर, देखे तस्वीरें